विदेशी मुद्रा विश्लेषण

स्टॉक एक्सचेंज में क्या कारोबार होता है?

स्टॉक एक्सचेंज में क्या कारोबार होता है?

Stock Market क्या है?

एक शेयर बाजार, इक्विटी बाजार, या शेयर बाजार शेयरों के खरीदारों और विक्रेताओं का एकत्रीकरण है (जिन्हें शेयर भी कहा जाता है), जो व्यवसायों पर स्वामित्व के दावों का प्रतिनिधित्व करते हैं; इनमें सार्वजनिक स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध प्रतिभूतियां शामिल हो सकती हैं, साथ ही स्टॉक जो केवल निजी तौर पर कारोबार किया जाता है, जैसे निजी कंपनियों के शेयर जो इक्विटी क्राउडफंडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से निवेशकों को बेचे जाते हैं। शेयर बाजार में निवेश अक्सर स्टॉक ब्रोकरेज और इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से किया जाता है। निवेश आमतौर पर निवेश की रणनीति को ध्यान में रखकर किया जाता है।

स्टॉक मार्केट क्या है? [What is Stock Market? In Hindi]

शेयर बाजार बाजारों और एक्सचेंजों के संग्रह को संदर्भित करता है जहां सार्वजनिक रूप से आयोजित कंपनियों के शेयरों की खरीद, बिक्री और जारी करने की नियमित गतिविधियां होती हैं। इस तरह की वित्तीय गतिविधियों को संस्थागत औपचारिक एक्सचेंजों या ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) मार्केटप्लेस के माध्यम से संचालित किया जाता है जो नियमों के एक परिभाषित सेट के तहत काम करते हैं। किसी देश या क्षेत्र में कई स्टॉक ट्रेडिंग वेन्यू हो सकते हैं जो स्टॉक और अन्य प्रकार की प्रतिभूतियों में लेनदेन की अनुमति देते हैं।

जबकि दोनों शब्द - स्टॉक मार्केट और स्टॉक एक्सचेंज - का परस्पर उपयोग किया जाता है, बाद वाला शब्द आम तौर पर पूर्व का सबसेट होता है। यदि कोई कहता है कि वह शेयर बाजार में व्यापार करती है, तो इसका मतलब है कि वह स्टॉक एक्सचेंज (ओं) के एक (या अधिक) पर शेयर/इक्विटी खरीदती है और बेचती है जो समग्र शेयर बाजार का हिस्सा हैं। में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंजों में न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (एनवाईएसई), नैस्डैक और शिकागो बोर्ड विकल्प एक्सचेंज (सीबीओई) शामिल हैं। ये प्रमुख राष्ट्रीय एक्सचेंज, देश में संचालित कई अन्य एक्सचेंजों के साथ, यू.एस. का शेयर बाजार बनाते हैं।

हालांकि इसे स्टॉक मार्केट या इक्विटी मार्केट कहा जाता है और मुख्य रूप से ट्रेडिंग स्टॉक / इक्विटी के लिए जाना जाता है, अन्य वित्तीय प्रतिभूतियों - जैसे एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ), कॉरपोरेट बॉन्ड और स्टॉक, कमोडिटीज, मुद्राओं और बॉन्ड पर आधारित डेरिवेटिव - का भी कारोबार होता है। शेयर बाजारों में।

शेयर बाजार के उद्देश्य - पूंजी और निवेश आय [Objectives of the stock market - capital and investment income] [In Hindi]

शेयर बाजार दो बहुत ही महत्वपूर्ण उद्देश्यों को पूरा करता है। पहला है कंपनियों को पूंजी प्रदान करना जिसका उपयोग वे अपने कारोबार को निधि देने और विस्तार करने के लिए कर सकते हैं। यदि कोई कंपनी स्टॉक के एक मिलियन शेयर जारी करती है जो शुरू में $ 10 प्रति शेयर के लिए बेचती है, तो वह कंपनी को $ 10 मिलियन की पूंजी प्रदान करती है जिसका उपयोग वह अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए कर सकती है (जो भी शुल्क कंपनी एक निवेश बैंक के लिए स्टॉक का प्रबंधन करने के लिए भुगतान करती है) भेंट)। विस्तार के लिए आवश्यक पूंजी उधार लेने के बजाय स्टॉक शेयरों की पेशकश करके, कंपनी कर्ज लेने और उस कर्ज पर ब्याज शुल्क का भुगतान करने से बचती है।

शेयर बाजार का दूसरा उद्देश्य निवेशकों को देना है - जो स्टॉक खरीदते हैं - सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों के मुनाफे में हिस्सा लेने का अवसर। निवेशक दो तरीकों में से एक में स्टॉक खरीदने से लाभ उठा सकते हैं। कुछ स्टॉक नियमित स्टॉक एक्सचेंज में क्या कारोबार होता है? लाभांश का भुगतान करते हैं (किसी के पास स्टॉक के प्रति शेयर की दी गई राशि)। दूसरे तरीके से निवेशक स्टॉक खरीदने से लाभ प्राप्त कर सकते हैं यदि स्टॉक की कीमत उनके खरीद मूल्य से बढ़ जाती है तो लाभ के लिए अपने स्टॉक को बेचकर। उदाहरण के लिए, यदि कोई निवेशक किसी कंपनी के शेयर के शेयर $ 10 प्रति शेयर पर खरीदता है और स्टॉक की कीमत बाद में $ 15 प्रति शेयर हो जाती है, तो निवेशक अपने शेयरों को बेचकर अपने निवेश पर 50% लाभ का एहसास कर सकता है।

Stock Market क्या है?

शेयर बाजार के प्रकार [Type of Share Market In Hindi]

  • प्राथमिक शेयर बाजार (Primary Share Market)

यह प्राथमिक बाजार (Primary Market) में है कि कंपनियां अपने शेयर जारी करने और धन जुटाने के लिए खुद को पंजीकृत करती हैं। इस प्रक्रिया को स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग के रूप में भी जाना जाता है। प्राथमिक बाजार में प्रवेश करने का उद्देश्य धन जुटाना है और यदि कंपनी पहली बार अपने शेयर बेच रही है तो इसे प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) कहा जाता है। इस प्रक्रिया के माध्यम से, कंपनी एक सार्वजनिक इकाई बन जाती है।

  • द्वितीयक बाजार (Secondary Market)

Primary Market में नई प्रतिभूतियों के बेचे जाने के बाद कंपनी के शेयरों का द्वितीयक बाजार (Secondary Market) में कारोबार होता है। इस तरह निवेशक अपने शेयर बेचकर बाहर निकल सकते हैं। द्वितीयक बाजार में होने वाले ये लेन-देन व्यापार कहलाते हैं। इसमें निवेशकों की एक-दूसरे से खरीदारी करने और सहमत मूल्य पर आपस में बेचने की गतिविधि शामिल है। एक दलाल एक मध्यस्थ है जो इन लेनदेन की सुविधा प्रदान करता है।

'शेयर बाजार' की परिभाषा [Definition of "Share Market"In Hindi]

यह एक ऐसा स्थान है जहां सार्वजनिक सूचीबद्ध कंपनियों के शेयरों का कारोबार होता है। Primary Market वह जगह है जहां कंपनियां पूंजी जुटाने के लिए प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) में आम जनता के लिए शेयर जारी करती हैं।

एक बार जब स्टॉक एक्सचेंज में क्या कारोबार होता है? Primary Market में नई प्रतिभूतियां बेची जाती हैं, तो उनका द्वितीयक बाजार में कारोबार होता है - जहां एक निवेशक दूसरे स्टॉक एक्सचेंज में क्या कारोबार होता है? निवेशक से मौजूदा बाजार मूल्य पर या जिस भी कीमत पर खरीदार और विक्रेता दोनों सहमत होते हैं, शेयर खरीदता है। द्वितीयक बाजार या स्टॉक एक्सचेंज नियामक प्राधिकरण द्वारा नियंत्रित होते हैं। भारत में, द्वितीयक और प्राथमिक बाजार भारतीय सुरक्षा और विनिमय बोर्ड (SEBI) द्वारा शासित होते हैं। Stochastic Oscillator क्या है?

एक स्टॉक एक्सचेंज स्टॉक ब्रोकरों को कंपनी के शेयरों और अन्य प्रतिभूतियों का व्यापार करने की सुविधा देता है। किसी स्टॉक को केवल तभी खरीदा या बेचा जा सकता है जब वह किसी एक्सचेंज में सूचीबद्ध हो। इस प्रकार, यह स्टॉक खरीदारों और विक्रेताओं का मिलन स्थल है। भारत के प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज स्टॉक एक्सचेंज में क्या कारोबार होता है? बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज हैं।

मार्केट इंफ्रास्ट्रक्चर इंस्टीट्यूशन

हाल ही में भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (Securities & Exchange Board of India) ने मार्केट इंफ्रास्ट्रक्चर इंस्टीट्यूशन (Market Infrastructure Institution) से व्यापार सहित अन्य महत्त्वपूर्ण प्रणालियों में व्यवधान के 45 मिनट के भीतर उनका परिचालन शुरू करने को कहा है।

प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट में क्या अंतर है? कैसे होता है इसमें निवेश

प्राइमरी मार्केट में नए शेयर और बांड जारी किए जाते हैं, जबकि सेकेंडरी मार्केट में पहले से जारी शेयरों और बांडों की बिक्री और खरीद होती है.

प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट में क्या अंतर है? कैसे होता है इसमें निवेश

यदि आप शेयर मार्केट में निवेश करना चाहते हैं तो आपको पहले प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट के बीच के अंतर को समझना होगा . शेयर मार्केट के एक्सपर्ट आमतौर पर प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट जैसे शब्दों का इस्तेमाल करते हैं . आपने भी प्राइमरी और सेकेंडरी मार्केट के बारे में अक्सर सुना होगा . क्या आप जानते हैं इनका क्या मतलब होता है और इनमें क्या अंतर है ? दरअसल शेयर मार्केट दो तरह के होते हैं – प्राइमरी मार्केट और सेकेंडरी मार्केट . क्या आपको पता है कि दोनों मार्केट एक दूसरे से कैसे अलग हैं ?

प्राइमरी मार्केट

नई सिक्योरिटीज जैसे नए शेयर और बांड प्राइमरी मार्केट में जारी किए जाते हैं . प्राइमरी मार्केट में कंपनियां निवेशकों को शेयर बेचती हैं और पैसा जुटाती हैं . प्राइमरी मार्केट में सीधे कंपनी और निवेशकों के बीच लेनदेन होता है . ऐसे कई अलग – अलग तरीके हैं जिनके माध्यम से एक कंपनी प्राइमरी मार्केट से पूंजी जुटा सकती है . इनमें पब्लिक इश्यू (IPO), प्राइवेट प्लेसमेंट और राइट्स इश्यू शामिल हैं .

जब कोई कंपनी स्टॉक एक्सचेंज के जरिए अपनी कुछ हिस्सेदारी बेचकर पहली बार निवेशकों से पैसा जुटाती है तो उसे ऐसा करने के लिए एक IPO लॉन्च करना पड़ता है . प्राइमरी मार्केट में निवेश करने के लिए आपके पास एक डीमैट अकाउंट होना चाहिए जिसे ब्रोकरेज हाउस या बैंकों के साथ खोला जा सकता है . ऐसा ही एक प्लेटफॉर्म है 5 पैसा ( https://www.5paisa.com/open-demat-account ) जहां आप डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं . इस प्रक्रिया के जरिए कंपनी स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट हो जाती है . कंपनी का प्राइमरी मार्केट में प्रवेश ( एंटर ) करने का मुख्य मकसद पैसा जुटाना होता है . प्राइमरी मार्केट में निवेशक केवल शेयर खरीद सकते हैं बेच नहीं सकते . खरीदे गए शेयरों को बेचने के लिए उन्हें सेकेंडरी मार्केट में जाना पड़ता है .

सेकेंडरी मार्केट बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) जैसे स्टॉक एक्सचेंज सेकेंडरी मार्केट हैं , जहां आप IPO के दौरान खरीदे गए शेयरों को बेच सकते हैं . इस मार्केट में किसी लिस्टेड कंपनी के शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं . जब स्टॉक एक्सचेंज में क्या कारोबार होता है? हम स्टॉक एक्सचेंज में शेयर खरीदते और बेचते हैं तब हम सेकेंडरी मार्केट में ट्रेडिंग कर रहे होते हैं . सेकेंडरी मार्केट में निवेशकों ( खरीदारों और विक्रेताओं ) के बीच पैसे और शेयरों का आदान – प्रदान ( एक्सचेंज ) किया जाता है . कंपनी सेकेंडरी मार्केट में होने वाले लेनदेन ( ट्रांजेक्शन ) में शामिल नहीं है . सेकेंडरी मार्केट को “ आफ्टर मार्केट ” भी कहा जाता है क्योंकि जो शेयर पहले ही जारी किए जा चुके हैं , उनका कारोबार यहां होता है .

कारोबार : दिवाली के खास मौके पर आज होगी ‘मुहूर्त ट्रेडिंग’, जानिए कब खुलेगा बाजार

शेयर बाजार के निवेशकों के लिए भी दिवाली का त्योहार बेहद शुभ, शाम को लक्ष्मी पूजन के बाद एक घंटे तक होती है मुहूर्त ट्रेडिंग

आज पूरे देश में रोशनी का त्योहार दिवाली बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है। इस विशेष दिन पर, लोग देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं और पूरे वर्ष अपने घरों में धन और समृद्धि की प्रार्थना करते हैं। शेयर बाजार के निवेशकों के लिए भी दिवाली का त्योहार बेहद शुभ है। हालांकि इस दिन शेयर बाजार बंद रहता है, लेकिन दिवाली पर शाम को लक्ष्मी पूजन के बाद एक घंटे तक मुहूर्त ट्रेडिंग की जाती है। एक घंटे के अंदर निवेशक शेयर बाजार में ढेर सारा पैसा लगा देते हैं और अपना निवेश शुरू कर देते हैं। अगर आप भी दिवाली के पावन अवसर पर मुहूर्त ट्रेडिंग में हिस्सा लेना चाहते हैं तो हम आपको इसके पूरे कार्यक्रम की जानकारी दे रहे हैं।

बहुत शुभ माना जाता है मुहूर्त व्यापार

आपको बता दें कि विक्रम संवत् 2079 के शुभारंभ के अवसर पर दीपावली के दिन देश के प्रमुख शेयर बाजारों बीएसई (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में मुहूर्त कारोबार इस वर्ष एक घंटे शाम 6.15 बजे से लेकर 7.15 बजे तक का होगा। शेयर बाजार में मुहूर्त ट्रेडिंग की परंपरा करीब 50 साल पुरानी है। हिंदू धर्म के अनुसार दिवाली के दिन से कोई भी निवेश शुरू करना बहुत शुभ माना जाता है। मुहूर्त ट्रेडिंग के दिनों में निवेशक कम निवेश करते हैं और अधिक निवेश करते हैं। इस साल मुहूर्त ट्रेडिंग बेहद खास है क्योंकि इस साल शनिवार और रविवार को धनतेरस पड़ रहा है। ऐसे में निवेशक इस दिन शेयर बाजार में निवेश नहीं कर सकते हैं। दिवाली के दिन एक घंटे में शेयर बाजार के काफी मजबूत रहने की उम्मीद है।

शेयर बाजार में मुहूर्त ट्रेडिंग शुरू होने से पहले गणेश-लक्ष्मी की पूजा की जाती है। स्टॉक एक्सचेंज के सदस्य इस पूजा में भाग लेते हैं। इसके बाद फिर से मुहूर्त का कारोबार शुरू होता है। उम्मीद है कि पीक ट्रेडिंग ऑवर्स के दौरान स्टॉक 60,000 का आंकड़ा पार कर जाएगा। बीएसई के अनुसार, 24 अक्टूबर को शाम छह बजे से प्री ओपन सत्र शुरू होगा जो 6.08 बजे समाप्त होगा। इसके बाद आम निवेशकों के लिए 6.15 बजे से कारोबार की शुरूआत होगी जो एक घंटे तक 7.15 बजे तक चलेगा। दिवाली के दिन निवेश को शुभ माना जाता है और इस दिन अधिकांश बड़े निवेशक या कंपनियां शेयर बाजार में खरीद बेच करती है।

संवत 2078 में इतनी बढ़ी निवेशकों की दौलत

हिंदू कैलेंडर वर्ष के मुताबिक संवत 2078 में सेंसेक्स 456 अंक गिरकर 59,307.15 अंक पर बंद हुआ। जबकि निफ्टी 253 अंक फिसलकर 17,576.30 के स्तर पर बंद हुआ। संवत 2078 में शेयर बाजार के निवेशकों की दौलत 11.3 लाख करोड़ रुपये बढ़ी। एक वर्ष में बीएसई लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 11.3 लाख करोड़ रुपये बढ़कर 274.4 लाख करोड़ रुपये बढ़ा। ऐतिहासिक आंकड़े बताते हैं कि संवत 2078 पिछले सात सालों में भारतीय बाजारों के लिए सबसे खराब साल रहा।

एक साल में शेयर बाजार में भारी उतार-चढ़ाव देखा गया

पिछले साल दिवाली के दिन 4 नवंबर 2021 को मुहूर्त ट्रेडिंग का आयोजन किया गया था। शेयर बाजार के लिए दिन बहुत अच्छा रहा। आज के दिन सेंसेक्स ने 60 हजार का आंकड़ा पार किया था। वहीं निफ्टी 17,921 पर बंद हुआ। वहीं, पिछले एक साल में शेयर बाजार में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिला है।

महंगाई, कोरोना महामारी, रूस-यूक्रेन युद्ध, रुपये की गिरती कीमतों और कच्चे तेल की कीमतों में तेजी के चलते शेयर बाजार में लगातार तेजी देखने को मिल रही है। शुक्रवार को सेंसेक्स 104.25 अंक ऊपर 59,307.15 पर बंद हुआ था।

रेटिंग: 4.46
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 168
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *