विदेशी मुद्रा विश्लेषण

​शेयरों में सीधे निवेश

​शेयरों में सीधे निवेश
इंट्राडे व्यापार एक्सचेंज द्वारा खरीदे जाने वाले व्यापारिक घंटों के दौरान उसी दिन शेयरों की खरीद और बिक्री के क्षेत्र में कार्य करता है। जैसा कि नाम ​शेयरों में सीधे निवेश से पता चलता है, "इंट्रा-डे व्यापार" एक शेयर व्यापारी को संदर्भित करता है जो उसी व्यापारिक दिन पर एक स्क्रिप्ट में अपना स्थान खोलता और बंद करता है। संक्षेप में, व्यापारिक दिन के अंत से पहले ही पदों को समाप्त कर दिया जाता है।

इक्विटी और डेरिवेटिव्स में निवेश करें

इक्विटी निवेश में आपके बैंक खाते में साधारण बचत राशि की तुलना में अधिक बढ़त होती है। इक्विटी और वित्तीय डेरिवेटिव्स बाजारों में निवेश करने से, उच्च दर का रिटर्न देते हुए और निवेश की ​शेयरों में सीधे निवेश गई मूल राशि के मान को बढ़ाते हुए मुद्रास्फीति के दबाव को कम करने में सहायता मिलती है। पूंजीगत लाभ और आवधिक आय इक्विटी निवेश से होने वाले मुनाफ़े के स्रोत हैं।

  • समय के साथ धन बढ़ाएं
  • किसी भी समय चलनिधि
  • लाभांश और पूंजी की वृद्धि
  • मुद्रास्फीति से बचाव
  • एक्सचेंज में व्यापार
  • स्तविक समय में निवेश को ट्रैक करें

इक्विटी निवेश के लिए अमेरिका को क्यों चुनें

  • लीवरेज उत्पाद
  • निजीकृत इक्विटी ट्रेडिंग सलाह
  • अनुसंधान समर्थित इक्विटी निवेश योजनाएं
  • प्रोफाइल आधारित इक्विटी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म
  • सभी डिवाइस पर सुरक्षित इक्विटी ट्रेडिंग

अभी डीमैट खाता खोलें!

Loading.

इक्विटी व्यापार के लिए अनुशंसाएं

  • CMP 27.27
  • Target Price 0

Loading.

  • CMP 27.27
  • Target Price 0

Loading.

No data at this time

Loading.

2 दिनों में प्राप्त किया 8.00 %

1 दिनों में प्राप्त किया 7.30 %

1 दिनों में प्राप्त किया 6.50 %

1 दिनों में प्राप्त किया 6.40 %

Loading.

  • रिटर्न कैलकुलेटर
  • लक्ष्य कैलकुलेटर

आज ही निवेश शुरू करें

Loading.

आज ही निवेश शुरू करें

Loading.

आज ही निवेश शुरू करें

Loading.

Loading.

हमारे उन्नत बहु-भाषीय पोर्टफोलियो पुनर्गठन टूल को आपका मार्गदर्शन करने दें।

Portfolio restructuring tool

SIP के लिए 5 बेस्ट इक्विटी फंड, 5 साल में दिया 30% तक रिटर्न

SIP Mutual Fund

अगर आप शेयर बाजार में पैसा लगाना चाहते हैं. लेकिन शेयर बाजार के बारे में आपको पूरी जानकारी नहीं है तो फिर म्यूचुअल फंड के जरिए शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं. अगर आप शेयर बाजार में सीधे पैसा नहीं लगाकर कोई सुरक्षित तरीका खोज रहे हैं तो इक्विटी म्यूचुअल फंड एसआईपी (SIP) बेहतर विकल्प साबित हो सकता है. SIP की सबसे खास बात यह है कि इसके जरिए इक्विटी म्यूचुअल फंड में एक मुश्त पैसे लगाने की बजाए मंथली बेसिस पर निवेश की सुविधा मिल जाती है. बाजार में ऐसे कई म्यूचुअल फंड हैं, जिनमें एसआईपी करने से निवेशकों को 5 साल में 20 से 30 फीसदी के करीब रिटर्न मिला है.

यानी सीधे तौर पर सिर्फ 5 साल में निवेशकों का पैसा डबल तक बढ़ गया है. नए निवेशकों के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंड (SIP) बेहतर विकल्प साबित हो सकता है. पिछले 5 वर्षों में तमाम उतार-चढ़ाव के बावजूद कई म्यूचुअल फंड ने निवेशकों को 30 फीसदी तक सालाना रिटर्न दिया है.

शेयरों में निवेश का पहला कदम रखने से पहले जानें क्या करें और क्या नहीं

  • Khushboo Tiwari
  • Updated On - June 1, 2021 / 04:23 PM IST

शेयरों में निवेश का पहला कदम रखने से पहले जानें क्या करें और क्या नहीं

Stock Market: बड़ी कमाई करने के इरादे से शेयर बाजार में पहला कदम रखने जा रहे हैं तो आपको पहले अपना होमवर्क करना होगा. अपनी गाढ़ी कमाई पर शेयर ​शेयरों में सीधे निवेश बाजार से जुड़े रिस्क लेने की सोच रहे हैं तो जरूरी है कि इस होमवर्क को आप खुद ही करें. क्योंकि कमाई आपकी है, तो फैसले भी आपके होने चाहिए. निवेश करने से पहले आपको प्रक्रिया से लेकर सही कंपनी का चुनाव ​शेयरों में सीधे निवेश करने को लेकर कुछ बातों पर गौर करना होगा.

जब आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं उस कंपनी की ग्रोथ का हिस्सा बनते हैं. शेयरों में मार्केट के सेंटिमेंट, कंपनी के आय और मुनाफे, सरकारी नीतियों, विदेशी बाजार के संकेतों और अन्य कई कारणों से उतार-चढ़ाव आता है. शेयर बाजार में जोखिम भी है. अगर ​शेयरों में सीधे निवेश आप जोखिम ले सकते हैं तो ही सीधे शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं.

डीमैट खाता होना अनिवार्य

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेस के वाइस प्रेसिडेंट गौरांग शाह का कहना है कि शेयरों में निवेश का पहला हिस्सा है डीमैट खाता खुलवाना. निवेशक को सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) में रजिस्टर्ड ब्रोकर के पास ही अपना डीमैट खाता खुलवाना चाहिए. ये खाता आप ऑनलाइन भी खुलवा सकते हैं.

शाह कहते हैं कि जब आप निवेश के लिए कोई कंपनी चुनें तो लोगों की कही-सुनी पर फैसले ना लें. अपने पैसों के निवेश से पहले आपको रिसर्च करने की जरूरत है. रिसर्च के लिए आपको ढेर सारे रेश्यो या बैलेंस शीट खोलकर देखने की जरूरत नहीं है. लेकिन आपको कंपनी के बिजनेस को समझना होगा कि कंपनी क्या काम करती है, क्या सर्विस या कौन से प्रोडक्ट बनाती है, पिछला प्रदर्शन कैसा रहा है, मैनेजमेंट में कौन से लोग हैं. अगर आपको कंपनी का बिजनेस समझ आया तो ही निवेश करें.

पानी में कूदने से पहले सीखें तैरना

निवेश से पहले आपको कई सवाल पूछने होंगे. आप कंपनी से जुड़े इन सवालों को या अपनी उलझनों को एक्सपर्ट से पूछ सकते हैं या रिसर्च कर सकते हैं. गौरांग शाह कहते हैं कि आप निवेश से पहले जितने सवाल पूछना चाहें, जितनी सलाह लेना चाहें उतना रिसर्च करें, लेकिन निवेश के बाद कंपनी से जुड़े सवाल करना पानी में कूदने के बाद तैरना सीखने जैसा है.

एक्सपर्ट्स सलाह देते हैं कि शेयर बाजार में हमेशा लंबे समय के लिए निवेश करें और उन शेयरों को चुनें जिनमें अच्छी ग्रोथ की संभावना है और अच्छी क्वालिटी की कंपनी है. शाह के मुताबिक आपको स्मॉलकैप कैटेगरी के उन शेयरों से दूर रहना है जिनके बारे में ज्यादा जानकारी आपको नहीं पता. ये अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारने जैसा है.

नए निवेशक रहे संभलकर

अगर आप शेयर बाजार में शुरुआती निवेशक हैं तो STBT, BTST जैसे ट्रेड लेने से बचें जिनमें आपके लिए जोखिम ज्यादा हो सकता है. यानी, आज खरीदारी कर कल मुनाफे के लिए बेच देना या आज बेचकर कल खरीदारी करना जैसे ट्रेड. शेयर बाजार के निवेश में अनुशासन जरूरी है.

शेयर की हुई ग्रोथ से तब तक आपका मुनाफा नहीं हुआ जब तक आपने उसे बुक नहीं किया है. गौरांग शाह का कहना है कि निवेशक को जब लगे कि उसका लक्ष्य हासिल हो गया है तब उसे मुनाफा बुक कर लेना है और ज्यादा लालच में नहीं फंसना चाहिए. वे कहते हैं कि कंजर्वेटिव आधार पर अगर आपको 10-15 फीसदी का मुनाफा हुआ है तो आप कुछ शेयर बेचकर मुनाफा बुक कर सकते हैं. लंबी अवधि में आपको अनुशासन बनाना होगा और अपने निवेश का ट्रैक रखना होगा.

पर्सनल फाइनेंस: म्यूचुअल फंड में निवेश करने का बना रहे हैं प्लान तो समझें इसमें कैसे लगाएं पैसे, 4 तरह से कर सकते हैं एमएफ में निवेश

म्यूचुअल फंड कंपनियां निवेशकों से पैसे जुटाती हैं। इस पैसे को वे शेयर बाजार, बांड और गवर्नमेंट सिक्युरिटीज जैसे एसेट्स में निवेश करती हैं - Dainik Bhaskar

म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) निवेश के लिहाज से काफी लोकप्रिय है। क्योंकि यहां अच्छा रिटर्न मिलता और शेयर बाजार की तुलना में जोखिम भी कम रहता है। ऐसे में अगर आप भी म्यूचुअल फंड में निवेश करने का प्लान बना रहे हैं तो इससे पहले म्यूचुअल फंड को जान लेना बहुत जरूरी है। हम आपको म्यूचुअल फंड के बारे में बता रहे हैं ताकि आप इसमें सही से निवेश कर सकें।

क्या है म्यूचुअल फंड?
म्यूचुअल फंड कंपनियां निवेशकों से पैसे जुटाती हैं। इस पैसे को वे शेयर बाजार, बांड और गवर्नमेंट सिक्युरिटीज जैसे एसेट्स में निवेश करती हैं। इसके बदले म्यूचुअल फंड निवेशकों से फीस भी लेती हैं। देश में अलग-अलग कई म्यूचुअल फंड हाउसेज हैं जो निवेश करने के लिए फंड मैनेजर नियुक्त करती है। जो लोग शेयर बाजार में निवेश के बारे में बहुत नहीं जानते, उनके लिए म्यूचुअल फंड निवेश का अच्छा विकल्प है।

Investment Tips: शेयर बाजार में नए हैं तो यह हो सकता है निवेश के लिए एक बेहतर तरीका

नवभारत टाइम्स लोगो

नवभारत टाइम्स 09-11-2022

मुंबई

: इन दिनों शेयर बाजार (Stock Market) फिर से नई उंचाई पर है। पिछले दिनों ही सेंसेक्स (BSE Sensex) ने 61,000 के स्तर को पार किया है। ऐसे में ढेरों निवेशक शेयर बाजार की तरफ खिंचे आए हैं। इनमें से कई निवेशक, जिन्हें इक्विटी के बारे में पूरी समझ नहीं हैं, वे अक्सर आश्चर्य करते हैं। वह यह नहीं समझ पाते कि सही निवेश के मौके आने पर शुरुआत कैसे करें।

इक्विटी का आकर्षण क्यों?

लोग इक्विटी की ओर आमतौर पर इसलिए आकर्षित होते हैं, क्योंकि इसमें लंबी अवधि में इंफ्लेशन को पछाड़ने की संभावना होती है। इसके अलावा, हमारे सभी लक्ष्यों को हासिल करने के लिए इक्विटी एक्सपोजर के तत्व की आवश्यकता होती है। चाहे वह म्यूचुअल फंड के माध्यम से हो या सीधे स्टॉक या इन दोनों के मिले जुले माध्यम से हो। लेकिन अगर आप इक्विटी में नए हैं और सीधे शेयरों के साथ शुरुआत करना चाहते हैं, तो निवेश करने के लिए सही कंपनी पर निर्णय लेना आसान नहीं है।

रेटिंग: 4.69
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 293
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *