फोरेक्स टुटोरिअल

क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं

क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं
अभी तक आपको ये नही पता कि बैंक के FD से ज्यादा ब्याज डाकघर की जमा योजनाओं NSC और KVP में मिल सकता है।

3 Main Types of Accounts that can be Opened in a Bank

Mostly individuals open saving accounts for depositing their surplus money so that they are able to withdraw the cash in case of need. After opening the account a cheque book is issued to the customer for withdrawing the cash money or making payments of any type. It is a Demand deposit with the bank and therefore demand liability for the bank.

A saving account can be opened in single name as well as in joint names. In case of Joint accounts a mandate is required to be given to the bank as to who shall operate the account. Mostly this account joint account is opened by Either or Survivor.

Means any of two can operate the account and on the death of any joint account holder survivor can operate it. If joint account is in name of more than two ns are required by the bank as to who whether in single or joint authority shall operate the account.

At present an interest at the rate of 3.5 % is paid on the deposits in saving accounts. Previously the banks used to pay interest for the minimum amount held in saving account between क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं 10 th day to last day of the month. Now RBI has instructed all the banks to pay interest on day to day basis.

If saving account is not operated continuously for long time say one year it becomes a dormant account and bank does not allow withdrawals unless it is revived again by the customer. If account remains dormant for 3 years it becomes an In-operative account and the outstanding balance from this account is transferred by the bank to separate ledger where the money of all the in-operative accounts is parked. Each bank has to inform the Reserve Bank of India about the position of in-operative accounts from time to time as prescribed by the RBI.

Type # 2. Current Account:

This account is opened for conducting the transactions relating to business only. There is no bar on number of withdrawals. No interest is paid in such accounts rather bank charges certain fee for keeping and maintaining such accounts. Current accounts can be opened by Individuals, Jointly, by a sole propertor firm, Partnership firm, A Limited or Public company, a trust, a society local and Government bodies. This is also a Demand deposit account.

Type # 3. Fixed Deposits Account:

Fixed deposits are those accounts where people deposit surplus money for a fixed period or term and is also known as Term Deposit. Since deposits क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं in these account are held for a longer time bank utilizes this money in future investments and loans and earn more profit. They also pay higher rate of interest in these accounts.

You can open a Saving Account, a current account, a term Deposit account in any bank. All these accounts are known as deposit accounts. Deposit क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं accounts are those accounts in which the customers of any bank deposit their money.

This money is kept in a bank in the name of the depositor in a particular account for which a particular account number is provided to the customer by the bank. Any future transaction in such accounts is done by giving this account number provided by the Bank.

An account can be opened provided that all necessary formalities as per KYC norms are completed. The new customer pays something in to open an account, and gives the bank a specimen of his signatures and name of one or two referees according to the practice of a particular bank.

In case you are introduced by some existing customer of the same bank in which you are wishing to open an account the names of referees may or may not be required depending upon the policy of an individual bank. In case you are introduced by some exiting customer of the bank a simple letters shall be written to him for verification whether or not he has introduced the account.

If an introducers calls on personally to the bank and provides introduction in the presence of bank officials such क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं letters may not be issued. In the absence of introducers a letter is written to the referees. When the referees have replied satisfactorily, and in return they have been favorably reported on by their bankers a cheque book can be issued to a new customer.

The bank does, however where the existing customer of the same bank has introduced the account but names of any referee has been given, an independent verification of the address of the new customer. This independent verification can be done both by deputing some official to go and verify the address or by way of sending some letter to the new customer by way of post office.

If such letter sent to customer is brought to the bank by the customer himself it stands that independent verification has been done and a cheque book is issued to the क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं customer. In case such a letter posted to a customer at the address given in his application does not reach him, it tantamount not to be fulfillment of KYC norms. Banks take extra precaution in such cases while allowing issuing a cheque book in such newly opened accounts.

In case of a joint account or a partnership account the appropriate mandate must be signed indicating how cheques and correspondence are to be signed, and establishing joint and several liabilities.

In case of a Limited Company a bank will see a signed copy of the Memorandum and Article of Association, the certificate of incorporation and, in case of Public Limited Company, the trading certificate. A Resolution should be provided giving names of the officials who will act for the company, the way in which the cheques and authorities will be singeing along with appropriate specimen signatures of such official.

Now you have opened an account with a bank of your choice and you have become a customer of the said bank. Would you not like to know what is a customer of a bank as per the law? It has been tried to explain who is a customer of a bank. Simply a customer of bank is who has an account with any bank.

Having an account with a bank confirms a person to be known as an account holder. The word Account holder is very important and has its importance and significance under the banking law. You should therefore also know what an account holder is.

नॉमिनी कर सकता है बैंक लॉकर का इस्तेमाल

आप कहीं भी पूंजी निवेश करते हैं तो आपके बाद उसका मालिक कौन होगा, यह तय कर लेना भी आवश्यक है। यही बात लॉकर में भी लागू होती है। अगर आप अकेले या संयुक्त रूप से लॉकर खुलवाते हैं तो भी नॉमिनी का उल्लेख.

नॉमिनी कर सकता है बैंक लॉकर का इस्तेमाल

आप कहीं भी पूंजी निवेश करते हैं तो आपके बाद उसका मालिक कौन होगा, यह तय कर लेना भी आवश्यक है। यही बात लॉकर में भी लागू होती है। अगर आप अकेले या संयुक्त रूप से लॉकर खुलवाते हैं तो भी नॉमिनी का उल्लेख किया जाना आवश्यक होता है। किसी अनहोनी में लॉकर धारक की मृत्यु हो जाने पर मृतक के नॉमिनी को लॉकर इस्तेमाल करने की छूट दी जाती है। यह बात एकल और संयुक्त लॉकर धारक दोनों के मामले में लागू होती है।

नॉमिनी को लॉकर की सारी जानकारी भी दें
अक्सर लोग पैसा, स्वर्ण आभूषण या अन्य कीमती सामान दूसरों से छिपाने के लिए भी लॉकर में रख देते हैं। वे इस बारे में किसी को बताना नहीं चाहते। विशेषज्ञों का कहना है कि लॉकर धारकों को कम से कम किसी को एक नॉमिनी बनाकर उसे इसकी जानकारी जरूर देनी चाहिए। बैंक में सेफ डिपॉजिट लॉकर खुलवाने वाला व्यक्ति (होल्डर) नॉमिनी को भी पंजीकृत कर सकता है। अगर किसी अनहोनी की वजह से लॉकर धारक की मौत हो जाती है तो नॉमिनी इसका इस्तेमाल कर सकता है। इसके लिए लंबी कागजी कार्यवाही से गुजरना नहीं पड़ता, अन्यथा यह विवाद का विषय बन जाता है और बैंकों से लेकर अदालत तक चक्कर लगाने पड़ते हैं।

लॉकर खुलवाने वाले की मौत होने पर
अगर लॉकर धारक व्यक्ति की मौत हो जाती है तो कागजातों में पहले से ही नामित होने का फायदा मिलता है। नॉमिनी को अगर लॉकर का इस्तेमाल करना है तो लॉकर खुलवाने वाले व्यक्ति के मृत्यु प्रमाणपत्र की प्रतिलिपि देनी पड़ेगी। केवाईसी गाइडलाइंस के अनुसार नॉमिनी का फोटो पहचान पत्र भी आवश्यक है। लॉकर आवेदन के फॉर्म के अनुसार उसका प्रमाणीकरण भी कराया जाएगा। दरअसल, बैंक को पता चलता है कि लॉकर धारक में से किसी एक की मौत हो गई है तो क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं वह उसे सील कर देता है और उस पर डिसीज्ड क्लेम की स्लिप लगा दी जाती है।

एक या एक से अधिक लॉकर होल्डर की मौत होने पर
अगर लॉकर संयुक्त रूप से चलाया जा रहा है तो एक की मृत्यु दूसरा धारक उसका संचालन कर सकता है। वह नॉमिनी के साथ भी उस लॉकर को चलाने का आवेदन कर सकता है। इसके लिए भी लॉकरधारक की मृत्यु प्रमाणपत्र की प्रतिलिपि, पहचानपत्र और अन्य दस्तावेज देने होते हैं। ध्यान रखें कि लॉकर को चलाने के लिए 'आइदर या सर्वाइवर' या फिर 'एनीवन ऑर सर्वाइवर' मोड रखा गया है, तभी जीवित दूसरे होल्डर को लॉकर इस्तेमाल करने की अनुमति मिलेगी। पहले लॉकर धारक की मृत्यु के प्रमाणित हो जाने के बाद बैंक लॉकर से चीजों को हटाने की अनुमति दे देगा।

ये तरीके अपनाएं
लॉकर से चीजें निकालने की अनुमति से पहले बैंक का लॉकर संरक्षक सामान्यतया बैंक मैनेजर वस्तुओं की पूरी सूची बनाती है। यह सूची नॉमिनी या जीवित दूसरे लॉकर धारक की मौजूदगी में बनाई जाती है। इसमें गवाह की भी जरूरत पड़ सकती है।

ऐसे खोल सकते हैं लॉकर
सरकारी और निजी बैंक ग्राहकों को लॉकर की सुविधा देते हैं। बैंक में बगैर खाते के भी लॉकर खोला जा सकता है। लेकिन जहां आपका बचत खाता हो, वहीं लॉकर खुलवाना बेहतर है। अन्यथा बैंक आप पर एफडी या किसी अन्य योजना में निवेश करने का दबाव बनाता है। ऐसे में आप पर लॉकर का शुल्क और एफडी का दोहरा बोझ पड़ता है। आरबीआई के नियमों के मुताबिक, बैंक लॉकर के तीन साल के किराये के बराबर एफडी खुलवाने के लिए कह सकता है। ऐसे में अगर कोई किराया नहीं जमा करता है तो भी बैंक को झंझट नहीं होता।

बैंक FD Vs डाकघर की NSC और KVP कहाँ ज्यादा ब्याज है

fd-vs-nsc-kvp

अभी तक आपको ये नही पता कि बैंक के FD से ज्यादा ब्याज डाकघर की जमा योजनाओं NSC और KVP में मिल सकता है।

यदि आपने भी अपना पैसा किसी बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट ( FD ) कर रखा है या करने को सोच रहे हैं। तो उससे पहले ये लेख आपके लिए काफी उपयोगी हो सकता है।

वर्तमान में कहाँ कितना ब्याज मिल रहा है ? –

इस समय डाकघर की जमा योजना ‘किसान विकास पत्र (KVP)’ और ‘नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC)’ में निवेश करना काफी लाभदायक है।

क्योंकि ये दोनों योजनाएं आपको किसी बैंक के फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) से ज्यादा ब्याज दे रही हैं।

वर्तमान में ब्याज की स्थिति –

भारतीय स्टेट बैंक ( SBI) FD 5.4 %

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) – 6.8 %

किसान विकास पत्र (KVP) – 6.9 %

ऊपर आपने देखा कि डाकघर की कई योजनाओं में आपको बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) से ज्यादा ब्याज मिल रहा है।

दूसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि यदि आप डाकघर की योजना जैसे ‘किसान विकास पत्र’ ( KVP ) अथवा ‘नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट’ ( NSC ) में निवेश करते हैं तो अधिक ब्याज के साथ – साथ भारतीय आयकर कानून के Section 80’C ‘ टैक्स छूट का लाभ भी मिलता है।

Income Tax के Section 80’C’ के तहत आप डाकघर की इन स्कीम्स में 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर टैक्स में छूट प्राप्त कर सकते हैं।

अब डाकघर द्वारा संचालित इन दो योजनाओं को विस्तार पूर्वक समझते हैं।

किसान विकास पत्र (KVP) –

किसान विकास पत्र भारतीय डाकघर द्वारा संचालित एक जमा या निवेश योजना है। इसकी निम्नलिखित विशेषताएं हैं –

इसमें कौन निवेश कर सकता है ? –

कोई भी व्यक्ति, व्यक्तिगत रूप से KVP में निवेश कर सकता है।

इस खाते को किसी नाबालिग के नाम पर भी खोला जा क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं सकता है। पर उसकी देखभाल की जिम्मेदारी नाबालिग के अभिभावकों पर ही होगी।

KVP खाते को 3 वयस्क व्यक्ति संयुक्त रूप से भी खोल सकते हैं।

किसान विकास पत्र (KVP) में कैसे निवेश कर सकते हैं ? –

KVP को देश भर में फैले किसी भी डाकघर से खरीदा जा सकता है।

इस योजना के तहत डाकघर बांड की भाँति एक प्रमाण – पत्र प्रदान किया जाता है और इस पर एक तय ब्याज मिलता रहता है

इस प्रमाण – पत्र को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को और एक डाकघर से दूसरे डाकघर में आसानी से ट्रांसफर किया जा सकता है।

KVP भारत के कुछ चुनिंदा बैंकों से भी ऑनलाइन खरीदा जा सकता है।

KVP क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं योजना में कितना निवेश कर सकते हैं ? –

किसान विकास पत्र में निवेश करने की कोई अधिकतम लिमिट नहीं है।

KVP में निवेश करने की न्यूनतम सीमा 1000 रुपये है। अर्थात 1000 रुपये से निवेश प्रारंभ कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त 100 – 100 रुपये कर के कितनी भी राशि निवेश कर सकते हैं।

KVP में निवेश पर कितना ब्याज मिलता है ? –

किसान विकास पत्र बचत योजना द्वारा वर्तमान समय में 6.9 % का ब्याज मिल रहा है।

ब्याज दर समय – समय पर भारत सरकार के नियमों द्वारा परिवर्तित हो सकती है।

KVP योजना में निवेश किये गए पैसे पर भारतीय आयकर कानून की धारा 80 ‘C’ तहत टैक्स छूट का लाभ मिलता है।

KVP में निवेश का समय कितना होता है ? –

किसान विकास पत्र का लॉक इन पीरियड 2.5 साल का होता है।

यदि आप KVP मे निवेश करने के बाद अपना पैसा निकालना चाहेंगे तो आपको कम से कम 2.5 साल ( 30 महीने) का इंतजार करना पड़ेगा।

लॉक इन पीरियड के बाद ही आप यहाँ से अपना पैसा निकाल पाएंगे। KVP में निवेश करने से पूर्व इस बात का जरूर ध्यान रखें।

KVP में पैसा डबल होने में कितना समय लगता है ? –

यदि मौजूदा ब्याज दर 6.9 % के हिसाब से देखा जाय तो आप इस योजना में जो पैसा लगाते हैं वह करीब 124 महीने ( 10 साल 4 महीने ) में डबल हो जाएगा।

यानी आप यहाँ निवेश कर के 10 साल 4 महीने में अपनी रकम को दोगुना कर सकते हैं।

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट ( NSC) –

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट भी क्या आप संयुक्त रूप से ट्रेडिंग खाता खोल सकते हैं भारतीय डाक विभाग की एक जमा योजना है। नीचे इसकी विशेषताओं की जानकारी दी जा रही है –

NSC में कौन निवेश कर सकता है ? –

इसमें कोई भी व्यक्ति जो 18 वर्ष का है वह खुद के लिए या किसी नाबालिग के लिए इस स्कीम में निवेश

NSC में 3 वयस्क व्यक्ति संयुक्त रूप से भी निवेश कर सकते हैं।

NSC में कैसे निवेश कर सकते हैं ? –

देश भर में फैले किसी भी डाकघर में जाकर इसमें निवेश के लिए अपना खाता खुलवा सकते हैं।

देश के लगभग हर डाकघर में NSC में निवेश की सुविधा उपलब्ध है।

NSC खाता एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के नाम ट्रांसफर भी किया जा सकता है।

NSC में निवेश की सीमा क्या है ? –

इस योजना में भी निवेश की अधिकतम कोई सीमा नहीं तय है आप अधिकतम कितना भी निवेश कर सकते हैं।

इसमें न्यूनतम निवेश की सीमा 1000 रुपये है। अर्थात यहाँ 1000 रुपये से कम का निवेश नहीं किया जा सकता है।

NSC स्कीम में जमा धन पर भारतीय आयकर कानून की धारा 80’C’ के तहत आयकर में छूट प्राप्त होती है।

NSC में कितना ब्याज मिलता है ? –

वर्तमान समय नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में निवेश पर 6.8 % ब्याज मिलता है।

NSC में ब्याज की गढ़ना वार्षिक आधार पर होती है। लेकिन ब्याज की रकम आपको निवेश की अवधि पूर्ण हो जाने के पश्चात ही मिलती है।

NSC में कितने समय के लिए निवेश कर सकते हैं ? –

NSC में लॉक इन पीरियड 5 साल का होता है। मतलब कि यदि आप NSC में निवेश करते हैं तो 5 साल से पहले आप बाहर नहीं निकल सकते हैं।

NSC में पैसा डबल होने में कितना समय लगता है ? –

वर्तमान समय में NSC में निवेश पर 6.8 % ब्याज मिलता है। इस हिसाब से देखें तो आपका पैसा डबल होने में करीब 127 महीने ( 10 साल 7 महीने ) का समय लगेगा।

NSC ब्याज दर में भारत सरकार के नियमों अनुसार बदलाव भी होता रहता है।

निष्कर्ष ( The Conclusion ) –

इस लेख में आपने ये जाना कि आज के समय में यदि आप अपने पैसों का सुरक्षित निवेश चाहते हैं, साथ ही ये भी चाहते हैं कि निवेश पर रिटर्न भी अच्छा मिले तो आपके पास बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट ( FD ) के अलावा भी अन्य विकल्प मौजूद हैं।

यहाँ भारतीय डाक विभाग द्वारा संचालित निवेश के 2 विकल्प बताये गए हैं पहला किसान विकास पत्र और दूसरा नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट।

इन दोनों Tax Saving Schemes विकल्पों में निवेश करना सुरक्षित भी है और बैंक FD से ज्यादा ब्याज भी मिलता है।

साथ ही साथ आयकर की धारा 80 ‘सी’ के तहत आयकर में छूट भी प्राप्त कर सकते हैं।

ये लेख आपको कैसा लगा ? और इस लेख में दी गयी जानकारी से क्या आपको कोई लाभ मिला है ? तो हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं।

रेटिंग: 4.93
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 428
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *