करेंसी ट्रेड

निवेश योजना

निवेश योजना
पोस्ट ऑफिस मासिक बचत योजना में निवेश कर हर महीने निश्चित राशि प्राप्त कर सकते हैं।

डाकघर की वरिष्‍ठ नागरिक बचत योजना में निवेश करने से होगा अच्‍छा मुनाफा, जानें इस सरकारी योजना की पूरी डिटेल

सीनियर सीटिजन की श्रेणी वाले लोगों के लिए वरिष्‍ठ नागरिक बचत योजना अच्छा ऑप्शन है

वरिष्ठ नागरिकों की श्रेणी में आने वाले लोगों के लिए इंडिया पोस्ट की वरिष्‍ठ नागरिक बचत योजना यानी कि सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम अकाउंट (SCSS) आपके लिए सबसे बेहतर विकल्पों में से एक साबित हो सकती है। इस स्कीम में बढ़िया ब्याज दर के साथ सरकारी सुरक्षा भी मिलती है।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। अगर आप सीनियर सिटिजन की श्रेणी में आते हैं और स्मॉल सेविंग स्कीम में निवेश करना चाह रहे हैं तो, निवेश योजना डाकघर की वरिष्‍ठ नागरिक बचत योजना यानी कि सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम अकाउंट (SCSS) आपके लिए सबसे बेहतर विकल्पों में से एक साबित हो सकती है। कई सारे वरिष्ठ नागरिक रिटायरमेंट के बाद अपने खर्चों और जिंदगी को सही तरह से मैनेज के लिए अलग-अलग जगहों पर निवेश करते हैं। ऐसे में आप पोस्ट ऑफिस की वरिष्‍ठ नागरिक बचत योजना योजना में अपना पैसा लगा सकते हैं। डाकघर की इस स्कीम में आपको काफी बढ़िया ब्याज दर के साथ निवेश पर सरकारी सुरक्षा का फायदा भी हासिल होता है। आइए जानते हैं इस सरकारी योजना की पूरी डिटेल।

कौन खुलवा सकता है अपना खाता

पोस्ट ऑफिस की वरिष्‍ठ नागरिक बचत योजना के तहत 60 वर्ष से अधिक आयु का व्यक्ति अपना खाता खुलवा सकता है। इसके अलावा 55 से 60 साल की आयु वर्ग के बीच के रिटायर्ड नागरिक रिटायरमेंट बेनिफिट मिलने के 1 महीने के भीतर निवेश करने की शर्त निवेश योजना पर अपना अकाउंट खुलवा सकते हैं। पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में खाता व्यक्तिगत तौर पर या पति पत्नी के साथ ज्वाइंट तौर पर खोला जा सकता है।

डिपॉजिट करने की रकम

वरिष्‍ठ नागरिक बचत योजना में 1,000 रुपये के गुणक में अधिकतम 15 लाख रुपये का निवेश किया जा सकता है। डाकघर की इस स्कीम में निवेश आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80 C के लाभ के लिए योग्य है।

कितना मिलता है ब्याज

वरिष्‍ठ नागरिक बचत योजना में निवेश करने पर आपको सालाना 7.4 फीसद ब्याज का फायदा मिलता है। डाकघर की इस योजना में ब्याज क्वाटरली आधार पर दिया जाता है और जमा करने की तारीख से जुड़ना निवेश योजना शुरू होता है। मिलने वाले ब्याज को खाता खुलवाने वाले डाकघर या ईसीएस में बचत खाते में ऑटो क्रेडिट के जरिए निकाला जा सकता है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज की 3.5 लाख करोड़ रुपये के निवेश की योजना

रिलायंस इंडस्ट्रीज की 3.5 लाख करोड़ रुपये के निवेश की योजना |_40.1

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने कंपनी की 45वीं वार्षिक आम बैठक में 3.5 लाख करोड़ रुपये की निवेश योजनाओं की घोषणा की। अपने भाषण में, अंबानी ने कहा कि जैसा कि पिछले साल घोषित किया गया था, विकसित मॉडलों की मापनीयता के आधार पर प्रतिबद्धता को दोगुना करने की क्षमता के साथ निवेश योजनाओं में 5जी के तेजी से रोलआउट पर 2,00,000 करोड़ रुपये, मूल्य श्रृंखलाओं में ओ2सी क्षमताओं के विस्तार में 75,000 करोड़ रुपये और नए ऊर्जा व्यवसाय में 75,000 करोड़ रुपये शामिल हैं।

रिलायंस वैश्विक स्तर पर पीवीसी के शीर्ष पांच उत्पादकों में शामिल होगी। भारत और संयुक्त अरब अमीरात में दहेज और जामनगर में विश्व स्तर के संयंत्रों के साथ मौजूदा क्षमता को तीन गुना करने की योजना है। कंपनी ने 2026 तक चरणों में दहेज और जामनगर में 1.5 एमएमटीपीए फीडस्टॉक एकीकृत पीवीसी विस्तार की घोषणा की।

निवेश के लिए पोस्ट ऑफिस की बेहतरीन बचत योजना, घर बैठे पाएं 2500 रुपए महीना

Post Office Monthly Income Scheme एक मासिक आय योजना है। इस योजना में सरकार की ओर से 6.6 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है और जोखिम भी न के बराबर है।

निवेश के लिए पोस्ट ऑफिस की बेहतरीन बचत योजना, घर बैठे पाएं 2500 रुपए महीना

पोस्ट ऑफिस मासिक बचत योजना में निवेश कर हर महीने निश्चित राशि प्राप्त कर सकते हैं।

पोस्ट ऑफिस की बचत योजनाओं पर देश के करोड़ों लोग भरोसा करते हैं। यह मध्यमवर्गीय परिवारों के लिए सालों से निवेश का एक ऐसा जरिया रहा है जिसमें जोखिम ना के बराबर होता है और रिटर्न भी बैंक एफडी से ज्यादा मिलता है। इस कारण बड़ी संख्या में लोग पोस्ट ऑफिस निवेश योजना में निवेश करना पसंद करते हैं। पोस्ट ऑफिस की कई योजनाएं ऐसी हैं जो लोगों को निवेश करने के लिए आकर्षित करती हैं। ऐसी ही एक योजना है पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना ( Post Office Monthly Income Scheme) या POMIS। मौजूदा समय में सरकार की ओर से इस पर 6.6 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है, जो कि फिक्स डिपाजिट में मिलने वाले ब्याज से काफी अधिक है।

न्यूनतम निवेश: इस योजना के अंतर्गत आप देश के किसी भी पोस्ट ऑफिस में जाकर न्यूनतम 1000 रुपए के निवेश से अपना खाता खोल सकते हैं। कोई भी निवेशक पोस्ट ऑफिस राष्ट्रीय मासिक बचत खाते में अधिकतम 4.5 लाख रुपए निवेश कर सकता है जबकि दो निवेशक मिलकर जॉइंट अकाउंट के जरिए इस में अधिकतम 9 लाख निवेश कर सकते हैं। इस योजना में नाबालिग निवेश योजना के नाम पर भी निवेश किया जा सकता है, लेकिन ऐसे खाते में अधिकतम 3 लाख रुपए ही जमा किए जा सकते हैं।

इस योजना में खाता खोलने निवेश योजना के लिए सबसे पहले आपको पोस्ट ऑफिस पर जाकर एक बचत खाता खोलना होगा, फिर उसके बाद आप POMIS योजना का फॉर्म भर के अपना खाता खोल सकते हैं।

Complaint To CM Yogi: सीएम योगी के पास शिकायत लेकर पहुंचा परिवार निवेश योजना तो पुलिस ने कर दिया बुरा हाल, जानें पूरा किस्सा

Radish Side Effect: इन 4 बीमारियों में मूली का सेवन सेहत पर ज़हर की तरह करता है असर, निवेश योजना एक्सपर्ट से जानिए

Piles Cure: बवासीर मरीजों के लिए रामबाण की तरह है सर्दी का ये फल, पाइल्स के दर्द में भी मिलती है राहत

ब्याज का कैलकुलेशन: अगर आप एकल अकाउंट खुलवाते हैं और उसमें 2 लाख रुपए जमा करते हैं तो फिर आपको 1,100 रुपए हर महीने की ब्याज मिलेगी। दूसरी तरफ अगर आप 3.5 लाख रुपए का निवेश करते हैं तो आपको हर महीने 1,925 रुपए की ब्याज मिलेगी। वहीं, अगर आप 4.5 लाख रुपए का निवेश करते हैं तो फिर इसमें आपको हर महीने 2,475 रुपए की ब्याज मिलेगी।

बता दें, पोस्ट ऑफिस मासिक बचत योजना के अंतर्गत मिलने वाला ब्याज पर टैक्स के अंतर्गत आता है, जिसका का कैलकुलेशन आपकी आय के हिसाब से किया जाता है। इस खाते को आप 5 साल बाद मैच्योरिटी पूरी हो जाने के बाद बंद भी कर सकते हैं।

रिलायंस-बीपी की निवेश योजना को मंजूरी

नयी दिल्ली : रिलायंस इंडस्टरीज लिमिटेड (आरआईएल) और उसके भागीदार बीपी पीएलसी को केजी-डी6 ब्लॉक में आर-श्रृंखला के गैस क्षेत्र में 3.18 अरब डालर की निवेश योजना को मंजूरी मिल निवेश योजना गई है.आरआईएल-बीपी ने केजी-डी6 ब्लॉक के आसपास के क्षेत्रों में जल्दी ही उत्पादन शुरु करने की योजना बनाई है ताकि क्षेत्र से उत्पादन में आई कमी को दूर करने में मदद मिल सके.

इस घटनाक्रम से जुड़े सूत्रों के मुताबिक तेल खोज क्षेत्र के नियामक हाइड्रोकार्बन महानिदेशक (डीजीएच) की अध्यक्षता वाली प्रबंधन समिति ने आरआईएल और इसके भागीदार बीपी पीएलसी और निको रिसोर्सेज को 13 साल के लिए डी-34 से प्रतिदिन 1.3-1.5 करोड़ घन मीटर गैस उत्पादन योजना को मंजूरी दी है.

डी-34 से नियोजित उत्पादन धीरुभाई-एक और तीन (डी1 और डी3) गैस क्षेत्र और केजी-डी6 ब्लॉक के एमए क्षेत्र के संयुक्त उत्पादन के बराबर है. डी-34 में 2,200 अरब घन फुट गैस भंडार है. आरआईएल जो केजी-डी6 ब्लॉक में 60 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ इस ब्लॉक का परिचालक है, ने 30 जनवरी को हाइड्रोकार्बन महानिदेशालय (डीजीएच) को डी-34 के लिए क्षेत्र विकास योजना (एफडीपी) सौंपी थी.

सूत्रों ने बताया कि डीजीएच ने जांच के बाद उत्पादन योग्य गैस भंडार का अनुमान घटाकर 1,191 अरब घन फुट कर दिया जबकि परिचालक ने 1,413 अरब घन फुट भंडार का अनुमान जाहिर किया था. हालांकि, आरआईएल निवेश योजना ने उत्पादन का उच्चतम स्तर 1.49 करोड़ घन मीटर होने का अनुमान जाहिर किया था जबकि डीजीएच ने इसे घटाकर 1.29 करोड़ घन मीटर कर निवेश योजना निवेश योजना दिया.

धीरभाई 34 यानी डी 34 गैस खोज केजी बेसिन डी6 के दक्षिणी हिस्से में हुई और इसे मई 2007 में अधिसूचित किया गया. प्रबंधन समिति ने नवंबर 2011 में इसे वाणिज्यिक लिहाज से वहनीय घोषित किया.

Prabhat Khabar App :

देश, दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, टेक & ऑटो, क्रिकेट और राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

रेटिंग: 4.49
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 845
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *