वायदा का उपयोग करके व्यापार कैसे करें

विकल्प ट्रेडिंग

विकल्प ट्रेडिंग

भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था

भारत जीडीपी के संदर्भ में वि‍श्‍व की नवीं सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था है । यह अपने भौगोलि‍क आकार के संदर्भ में वि‍श्‍व में सातवां सबसे बड़ा देश है और जनसंख्‍या की दृष्‍टि‍ से दूसरा सबसे बड़ा देश है । हाल के वर्षों में भारत गरीबी और बेरोजगारी से संबंधि‍त मुद्दों के बावजूद वि‍श्‍व में सबसे तेजी से उभरती हुई अर्थव्‍यवस्‍थाओं में से एक के रूप में उभरा है । महत्‍वपूर्ण समावेशी विकास प्राप्‍त करने की दृष्‍टि‍ से भारत सरकार द्वारा कई गरीबी उन्‍मूलन और रोजगार उत्‍पन्‍न करने वाले कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं ।

इति‍हास

ऐति‍हासि‍क रूप से भारत एक बहुत वि‍कसि‍त आर्थिक व्‍यवस्‍था थी जि‍सके वि‍श्‍व के अन्‍य भागों के साथ मजबूत व्‍यापारि‍क संबंध थे । औपनि‍वेशि‍क युग ( 1773-1947 ) के दौरान ब्रि‍टि‍श भारत से सस्‍ती दरों पर कच्‍ची सामग्री खरीदा करते थे और तैयार माल भारतीय बाजारों में सामान्‍य मूल्‍य से कहीं अधि‍क उच्‍चतर कीमत पर बेचा जाता था जि‍सके परि‍णामस्‍वरूप स्रोतों का द्धि‍मार्गी ह्रास होता था । इस अवधि‍ के दौरान वि‍श्‍व की आय में भारत का हि‍स्‍सा 1700 ए डी के 22.3 प्रति‍शत से गि‍रकर 1952 में 3.8 प्रति‍शत रह गया । 1947 में भारत के स्‍वतंत्रता प्राप्‍ति‍ के पश्‍चात अर्थव्‍यवस्‍था की पुननि‍र्माण प्रक्रि‍या प्रारंभ विकल्प ट्रेडिंग हुई । इस उद्देश्‍य से वि‍भि‍न्‍न नीति‍यॉं और योजनाऍं बनाई गयीं और पंचवर्षीय योजनाओं के माध्‍यम से कार्यान्‍वि‍त की गयी ।

1991 में भारत सरकार ने महत्‍वपूर्ण आर्थिक सुधार प्रस्‍तुत कि‍ए जो इस दृष्‍टि‍ से वृहद प्रयास थे जि‍नमें वि‍देश व्‍यापार उदारीकरण, वि‍त्तीय उदारीकरण, कर सुधार और वि‍देशी नि‍वेश के प्रति‍ आग्रह शामि‍ल था । इन उपायों ने भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था को गति‍ देने में मदद की तब से भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था बहुत आगे नि‍कल आई है । सकल स्‍वदेशी उत्‍पाद की औसत वृद्धि दर (फैक्‍टर लागत पर) जो 1951 - 91 के दौरान 4.34 प्रति‍शत थी, 1991-2011 के दौरान 6.24 प्रति‍शत के रूप में बढ़ गयी ।

कृषि‍

कृषि‍ भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था की रीढ़ है जो न केवल इसलि‍ए कि‍ इससे देश की अधि‍कांश जनसंख्‍या को खाद्य की आपूर्ति होती है बल्‍कि‍ इसलि‍ए भी भारत विकल्प ट्रेडिंग की आधी से भी अधि‍क आबादी प्रत्‍यक्ष रूप से जीवि‍का के लि‍ए कृषि‍ पर नि‍र्भर है ।

वि‍भि‍न्‍न नीति‍गत उपायों के द्वारा कृषि‍ उत्‍पादन और उत्‍पादकता में वृद्धि‍ हुई, जि‍सके फलस्‍वरूप एक बड़ी सीमा तक खाद्य सुरक्षा प्राप्‍त हुई । कृषि‍ में वृद्धि‍ ने अन्‍य क्षेत्रों में भी अधि‍कतम रूप से अनुकूल प्रभाव डाला जि‍सके फलस्‍वरूप सम्‍पूर्ण अर्थव्‍यवस्‍था में और अधि‍कांश जनसंख्‍या तक लाभ पहुँचे । वर्ष 2010 - 11 में 241.6 मि‍लि‍यन टन का एक रि‍कार्ड खाद्य उत्‍पादन हुआ, जि‍समें सर्वकालीन उच्‍चतर रूप में गेहूँ, मोटा अनाज और दालों का उत्‍पादन हुआ । कृषि‍ क्षेत्र भारत के जीडीपी का लगभग 22 प्रति‍शत प्रदान करता है ।

उद्योग

औद्योगि‍क क्षेत्र भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के लि‍ए महत्‍वपूर्ण है जोकि‍ वि‍भि‍न्‍न सामाजि‍क, आर्थिक उद्देश्‍यों की पूर्ति के लि‍ए आवश्‍यक है जैसे कि‍ ऋण के बोझ को कम करना, वि‍देशी प्रत्‍यक्ष नि‍वेश आवक (एफडीआई) का संवर्द्धन करना, आत्‍मनि‍र्भर वि‍तरण को बढ़ाना, वर्तमान आर्थिक परि‍दृय को वैवि‍ध्‍यपूर्ण और आधुनि‍क बनाना, क्षेत्रीय वि‍कास का संर्वद्धन, गरीबी उन्‍मूलन, लोगों के जीवन स्‍तर को उठाना आदि‍ हैं ।

स्‍वतंत्रता प्राप्‍ति‍ के पश्‍चात भारत सरकार देश में औद्योगि‍कीकरण के तीव्र संवर्द्धन की दृष्‍टि‍ से वि‍भि‍न्‍न नीति‍गत उपाय करती रही है । इस दि‍शा में प्रमुख कदम के रूप में औद्योगि‍क नीति‍ संकल्‍प की उदघोषणा करना है जो 1948 में पारि‍त हुआ और उसके अनुसार 1956 और 1991 में पारि‍त हुआ । 1991 के आर्थिक सुधार आयात प्रति‍बंधों को हटाना, पहले सार्वजनि‍क क्षेत्रों के लि‍ए आरक्षि‍त, नि‍जी क्षेत्रों में भागेदारी, बाजार सुनि‍श्‍चि‍त मुद्रा वि‍नि‍मय दरों की उदारीकृत शर्तें ( एफडीआई की आवक / जावक हेतु आदि‍ के द्वारा महत्‍वपूर्ण नीति‍गत परि‍वर्तन लाए । इन कदमों ने भारतीय उद्योग को अत्‍यधि‍क अपेक्षि‍त तीव्रता प्रदान की ।

आज औद्योगि‍क क्षेत्र 1991-92 के 22.8 प्रति‍शत से बढ़कर कुल जीडीपी का 26 प्रति‍शत अंशदान करता है ।

सेवाऍं

आर्थिक उदारीकरण सेवा उद्योग की एक तीव्र बढ़ोतरी के रूप में उभरा है और भारत वर्तमान समय में कृषि‍ आधरि‍त अर्थव्‍यवस्‍था से ज्ञान आधारि‍त अर्थव्‍यवस्‍था के रूप में परि‍वर्तन को देख रहा है । आज सेवा क्षेत्र जीडीपी के लगभग 55 प्रति‍शत ( 1991-92 के 44 प्रति‍शत से बढ़कर ) का अंशदान करता है जो कुल रोजगार का लगभग एक ति‍हाई है और भारत के कुल नि‍र्यातों का एक ति‍हाई है

भारतीय आईटी / साफ्टेवयर क्षेत्र ने एक उल्‍लेखनीय वैश्‍वि‍क ब्रांड पहचान प्राप्‍त की है जि‍सके लि‍ए नि‍म्‍नतर लागत, कुशल, शि‍क्षि‍त और धारा प्रवाह अंग्रेजी बोलनी वाली जनशक्‍ति‍ के एक बड़े पुल की उपलब्‍धता को श्रेय दि‍या जाना चाहि‍ए । अन्‍य संभावना वाली और वर्द्धित सेवाओं में व्‍यवसाय प्रोसि‍स आउटसोर्सिंग, पर्यटन, यात्रा और परि‍वहन, कई व्‍यावसायि‍क सेवाऍं, आधारभूत ढॉंचे से संबंधि‍त सेवाऍं और वि‍त्तीय सेवाऍं शामि‍ल हैं।

बाहय क्षेत्र

1991 से पहले भारत सरकार ने वि‍देश व्‍यापार और वि‍देशी नि‍वेशों पर प्रति‍बंधों के माध्‍यम से वैश्‍वि‍क प्रति‍योगि‍ता से अपने उद्योगों को संरक्षण देने की एक नीति‍ अपनाई थी ।

उदारीकरण के प्रारंभ होने से भारत का बाहय क्षेत्र नाटकीय रूप से परि‍वर्तित हो गया । वि‍देश व्‍यापार उदार और टैरि‍फ एतर बनाया गया । वि‍देशी प्रत्‍यक्ष नि‍वेश सहि‍त वि‍देशी संस्‍थागत नि‍वेश कई क्षेत्रों में हाथों - हाथ लि‍ए जा रहे हैं । वि‍त्‍तीय क्षेत्र जैसे बैंकिंग और बीमा का जोरदार उदय हो रहा है । रूपए मूल्‍य अन्‍य मुद्राओं के साथ-साथ जुड़कर बाजार की शक्‍ति‍यों से बड़े रूप में जुड़ रहे हैं ।

आज भारत में 20 बि‍लि‍यन अमरीकी डालर (2010 - 11) का वि‍देशी प्रत्‍यक्ष नि‍वेश हो रहा है । देश की वि‍देशी मुद्रा आरक्षि‍त (फारेक्‍स) 28 अक्‍टूबर, 2011 को 320 बि‍लि‍यन अ.डालर है । ( 31.5.1991 के 1.2 बि‍लि‍यन अ.डालर की तुलना में )

भारत माल के सर्वोच्‍च 20 नि‍र्यातकों में से एक है और 2010 में सर्वोच्‍च 10 सेवा नि‍र्यातकों में से एक है ।

Investment Tips: गोल्ड ईटीएफ क्या है? इसमें निवेश करने की जानिए 5 वजहें

गोल्ड में निवेश करना अब वास्तविक रूप से गोल्ड खरीदने तक सीमित नहीं रहा है। गोल्ड ईटीएफ एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) है जो वास्तविक गोल्ड की घरेलू कीमत से जुड़ा है। होल्डिंग और शुद्धता के आश्वासन के संबंध में पूर्ण पारदर्शिता के साथ, इलेक्ट्रॉनिक तरीके से गोल्ड में निवेश करने का यह एक आदर्श विकल्प है।

Updated Nov 19, 2022 | 09:05 AM IST

Gold etf

गोल्ड ईटीएफ में निवेश के टिप्स जानिए

यह सभी जानते हैं कि भारतीय लोग गोल्ड को पसंद करते हैं। इसके परम्परागत महत्व को देखते हुए, सदियों से विशेष रूप से विशेष अवसरों पर जैसे विवाह या त्योहारों पर गोल्ड एक पसंदीदा उपहार और निवेश रहा है। निवेश के तौर पर, यह मेटल पसंदीदा विकल्पों में आता है क्योंकि इसके साथ लिक्विडिटी की सुविधा के साथ-साथ जब मार्केट में उतार-चढ़ाव होता है, तो आपके पोर्टफोलियों को स्थिरता भी मिलती है। गोल्ड में निवेश करना अब वास्तविक रूप से गोल्ड खरीदने तक सीमित नहीं रहा है। अन्य विकल्प जो अब उपलब्ध हैं, उनसे शुद्धता के साथ समझौता किए बिना सुविधा भी प्राप्त होती है। एक प्रकार का विकल्प गोल्ड ईटीएफ है। ये क्या हैं और क्या ये आपके लिए सही विकल्प है, जानने के लिए पढ़िए।

गोल्ड ईटीएफ क्या है?

गोल्ड ईटीएफ एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) है जो वास्तविक गोल्ड की घरेलू कीमत से जुड़ा है। गोल्ड ईटीएफ के एक यूनिट की वैल्यू 1 ग्राम वास्तविक गोल्ड से जुड़ी विकल्प ट्रेडिंग है। स्टॉक की तरह, गोल्ड ईटीएफ को स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध किया गया है, जहां पर उन्हें डीमैट अकाउंट का इस्तेमाल करके खरीदा और बेचा जा सकता है। होल्डिंग और शुद्धता के आश्वासन के संबंध में पूर्ण पारदर्शिता के साथ, इलेक्ट्रॉनिक तरीके से गोल्ड में निवेश करने का यह एक आदर्श विकल्प है। अगर आप गोल्ड में निवेश करना चाहते हैं, तो गोल्ड ईटीएफ के जरिए ऐसा करने के पांच कारणों पर आपको विचार करना चाहिए।

वास्तविक गोल्ड द्वारा समर्थित

गोल्ड ईटीएफ 99.5% शुद्धता से समर्थित होते हैं। गोल्ड ईटीएफ की एक यूनिट एक ग्राम वास्तविक गोल्ड की जारी कीमत के बराबर होती है। जब आप गोल्ड ईटीएफ की एक यूनिट को खरीदते हैं, तो कस्टोडियन द्वारा एक ग्राम वास्तविक गोल्ड खरीदा जाता है। भारत में गोल्ड ईटीएफ में कुल निवेश 20,000 करोड़ रूपये का है। जो कि पांच वर्ष पहले की तुलना में यह चार गुणा हो चुका है। यह अपवर्ड ट्रेंड इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड निवेश के तौर पर गोल्ड ईटीएफ के बढ़ते प्रचार-प्रसार को दिखाता है।

निम्न लागत- निम्न जोखिम निवेश

जोखिम और लागत के संदर्भ में, गोल्ड ईटीएफ वास्तविक गोल्ड से बढ़कर है। गोल्ड ईटीएफ डीमैट अकाउंट के माध्यम से बेचे और खरीदे जाने वाला डिजिटल निवेश है। क्योंकि इन्हें इलेक्ट्रॉनिकली स्टोर किया जाता है, वास्तविक गोल्ड की तुलना में चोरी का जोखिम बहुत कम है। इसके अलावा, वास्तविक गोल्ड में निवेश करने की लागत उच्च है क्योंकि आभूषणों पर मेकिंग चार्ज लगाए जाते हैं। गोल्ड ईटीएफ के साथ इस प्रकार का कोई चार्ज नहीं जुड़ा है, इसलिए ये कम लागत पर निवेश का साधन हैं।

सरल ट्रेडिंग

क्योंकि गोल्ड ईटीएफ को ऑनलाइन खरीदा जाता है और उन्हें डीमैट अकाउंट में धारित किया जाता है, किसी भी निवेशक द्वारा कभी भी इसे खरीदा और बेचा जा सकता है। इनसे उच्च लिक्विडिटी भी मिलती है क्योंकि स्टॉक एक्सचेंज में शेयरों की तरह इनकी भी वर्तमान गोल्ड कीमत पर ट्रेडिंग की जा सकती है।

टैक्स-अनुकूल

ईटीएफ के ज़रिए गोल्ड में निवेश पर वास्तविक गोल्ड निवेश की तरह सम्पदा कर नहीं लगाया जाता है। लेकिन, गोल्ड ईटीएफ से मिलने वाले रिटर्न, इंडेक्सेशन लाभ के साथ दीर्घकालिक पूंजी लाभ के अंतर्गत आते हैं। गोल्ड ईटीएफ के लिए दीर्घकालिक पूंजी कर होल्डिंग के 36 महीनों के बाद बेचे गए यूनिट्स पर मिलने वाले लाभ पर लगाया जाता है, और इस प्रकार ये टैक्स-अनुकूल निवेश (साधन) बन जाते हैं। अल्पकालिक पूंजी लाभ- तीन वर्ष की धारिता अवधि से पहले अर्जित लाभ पर, आपकी आय में इस लाभ को जमा करने के बाद, लागू स्लैब दर के अनुसार कर लगाया जाएगा।

छोटे आकार के कारण स्वामित्व अफार्डेबल बन जाता है

गोल्ड ईटीएफ के कारण गोल्ड में निवेश करना अधिक आसान और अधिक अफॉर्डेबल बन गया है। निवेशक 1000 रूपये की निम्न राशि से एसआईपी के आधार पर गोल्ड ईटीएफ खरीद सकते हैं और समय के साथ एक बड़ा निवेश संचित कर सकते हैं। दूसरी तरफ, वास्तविक गोल्ड को केवल बड़े मौद्रिक निवेश के बाद ही खरीदा जा सकता है।

उनसे मिलने वाले अनेक लाभों के साथ, गोल्ड ईटीएफ गोल्ड में निवेश करने के लिए आदर्श विकल्प हैं। आप चाहे अनुभवी निवेशक हैं या अपने निवेश की यात्रा की शुरुआत कर रहे हैं, तो हमेशा अपने पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाई करना याद रखें। अपने निवेश की नियमित आधार पर समीक्षा करें तथा अपने वित्तीय लक्ष्यों के आधार पर अपने पोर्टफोलियो को संतुलित करें। यदि आप गोल्ड में निवेश करने में रुचि रखते हैं, तो इसे अपने पोर्टफोलियो के 5-10% तक सीमित रखें।

(डिस्क्लेमर: ये लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए)

Midcap Stocks: फर्टिलाइज़र और केमिकल शेयरों में होगी कमाई, इन 6 मिडकैप स्टॉक्स में लगाएं दांव

Midcap Stocks: एक्सपर्ट्स की सलाह है कि माहौल को देखकर कैश मार्केट में सेलेक्टिव बने रहकर अच्छे पैसे बना सकते हैं. फर्टिलाइज़र और केमिकल सेक्टर में अच्छे पैसे बन सकते हैं.

Midcap Stocks to Invest in: दिवाली पर बाजार का माहौल अच्छा बन गया है. मुहुर्त ट्रेडिंग में कैश बाजार में अच्छी ट्रेडिंग हुई है. बिजनेस आउटलुक अच्छा दिख रहा है. मिडकैप इंडेक्स इस तेजी के बीच आपके दांव के लिए अच्छा विकल्प हो सकता है. मिडकैप इंडेक्स आज तेजी में है. हम एक्सपर्ट्स से बात करके आपके लिए ले आए हैं ऐसे छह मिडकैप शेयर, जहां आप शॉर्ट, पोजीशनल और लॉन्ग टर्म गेन के लिए निवेश कर सकते हैं. एक्सपर्ट्स की सलाह है कि माहौल को देखकर कैश मार्केट में सेलेक्टिव बने रहकर अच्छे पैसे बना सकते हैं. फर्टिलाइज़र और केमिकल सेक्टर में अच्छे पैसे बन सकते हैं.

1. शॉर्ट टर्म, पोजीशनल और लॉन्ग टर्म के लिए मार्केट एनालिस्ट श्रीकांत चौहान ने ये 3 Midcap Stocks सुझाए हैं.

शॉर्ट टर्म, पोजीशनल और लॉन्ग टर्म के लिए मार्केट एनालिस्ट श्रीकांत चौहान से 3 बेहतरीन #MidcapStocks

Short Term- Prism Johnson

Positional Term- Maharashtra Seamless

Short Term- Prism Johnson

शॉर्ट टर्म के लिए प्रिज्म जॉनसन को चुना है. यह स्टॉक अपने एक रेंज के अंदर ट्रेडिंग कर रहा है. 120-115 के करीब आता है फिर 140-145 के बीच इसमें अच्छी खासी प्रॉफिट टेकिंग बनती है. 145 के ऊपर जाता है तो और अच्छी तेजी बनेगी. इसका करंट लेवल 125-126 के आसपास है. 1-3 महीने के लिए इसका टारगेट प्राइस 140 से 145 रहेगा और स्टॉपलॉस 117 रहेगा.

Positional Term- Maharashtra Seamless

मैन्युफैक्चरिंग बाजार का वेटेज बढ़ रहा है, ऐसे में यह स्टॉक अच्छा अपसाइड दिखा सकता है. अभी करंट शेयर प्राइस 822-824 रुपये के रेंज मे है. 3-6 महीने के लिए इसका टारगेट प्राइस 1100 से 1125 रखा है. स्टॉपलॉस 700 रुपये रहेगा.

Long Term- Deepak Fertilisers

लॉन्ग टर्म के लिए दीपक फर्टिलाइजर्स को चुना है. इसका करंट प्राइस 1,036-1,038 रुपये के आसपास है. वीकली-मंथली बेसिस पर इस स्टॉक ने कई स्विंग हाई को क्रॉस किया है. टारगेट प्राइस 1400-1450 रुपये तक रखा है. इसका स्टॉपलॉस 850 रुपये के आसपास का रहेगा.

2. शॉर्ट टर्म, पोजीशनल और लॉन्ग टर्म के लिए ट्रेडस्विफ्ट ब्रोकिंग के संदीप जैन ने इन 3 Midcap Stocks में ट्रेडिंग की दी सलाह

शॉर्ट टर्म, पोजीशनल और लॉन्ग टर्म के लिए ट्रेडस्विफ्ट ब्रोकिंग के संदीप जैन से 3 बेहतरीन #MidcapStocks

Short Term- Star Paper

Positional Term- Allsec Technologies

Short Term- Star Paper

पेपर स्टॉक पर एक्सपर्ट बुलिश हैं. स्टार पेपर शॉर्ट टर्म के लिए पिक रहेगा. डेट फ्री कंपनी है और अच्छे तिमाही नतीजे दे रही है. अभी इसका करंट लेवल 209 रुपये के आसपास है. टारगेट प्राइस 230 रुपये पर है और स्टॉपलॉस 195 का रहेगा.

Positional Term- Allsec Technologies

ऑलसेक टेक कंपनी बढ़िया ग्रोथ दिखा रही है. एचआरएम और सीएलएम सॉल्यूशन देती है. अभी इसका करंट लेवल 512 के आसपास है. टारगेट प्राइस 540 रुपये पर रहेगा और स्टॉपलॉस 470 रुपये पर रहेगा.

Long Term- Aegis Logistics

लॉन्ग टर्म के लिए एजिस लॉजिस्टिक्स को चुना है. इसका करंट लेवल 294 रुपये के आसपास है. ये पिछले रेकमेंडेशन के टारगेट के भी ऊपर गया है. पहले एजिस केमिकल्स के नाम से जाना जाता था. पेट्रोकेमिकल प्रॉडक्ट्स के स्टोरेज और लॉजिस्टिक देखती है. आने वाले 6-9 महीने के लिए टारगेट प्राइस 350 रुपये रखा है.

(डिस्‍क्‍लेमर: यहां स्‍टॉक्‍स में ट्रेडिंग की सलाह अलग-अलग स्टॉक एक्सपर्ट्स की ओर से दी गई है. ये जी बिजनेस के विचार नहीं हैं. निवेश से पहले अपने एडवाइजर से परामर्श कर लें.)

Apple को देगा सीधी टक्कर Samsung का यह 5G स्मार्टफोन, फीचर्स में Onepuls का बाप, कैमरा और कीमत पूछो मत लाजवाब !

Samsung Galaxy A54 2022 :- अगर आप भी चाइनीस निर्माता कंपनियों का स्मार्टफोन इस्तेमाल करना नापसंद करते हैं तो आपके लिए एक बेहतरीन और बड़े बड़े ब्रांड को सीधी को सीधी टक्कर देने आ गया Samsung का यह 5G स्मार्टफोन यह फोन आपके लिए एक अच्छा विकल्प साबित होगा | हाल ही में लांच हुए सैमसंग द्वारा Samsung का Galaxy A54 काफी दे देना अंदाज में बिक्री कर रहा है | इसलिए यह आप के खातिर एक अच्छा विकल्प साबित होने वाला है | Samsung Galaxy A54 क्योंकि इस नए सेगमेंट में काफी कुछ बदल चुका है सबसे महत्वपूर्ण कैमरा और तगड़ी बैटरी से लोग काफी हैरान है |

Samsung Galaxy A54 2022

एक तरह से देखा जाए तो एप्पल और वनप्लस जैसे बड़े ब्रांड को यह स्मार्टफोन सीधी टक्कर दे रहा है | आइए एक नजर डालें सैमसंग द्वारा लांच किए गए Galaxy A54 स्मार्ट फोन के फीचर्स और स्पेसिफिकेशन के बारे में !

इस पोस्ट में क्या है?

Samsung Galaxy A54 स्मार्टफोन के देखे फीचर्स

सैमसंग द्वारा लांच किए गए इस नए Samsung Galaxy A54 उनमें आपको 6.4 इंच का एक बेहतरीन सुपर अमोलेड फुल एचडी डिस्प्ले के साथ 120 Hz Refresh Rate की बेहतरीन क्वालिटी मिल जाएगी | सैमसंग के इस Galaxy A54 स्मार्टफोन में आपको प्रोसेसर के रूप में MediaTek Dimensity 700 MT6833 chipset धांसू प्रोफ़ेसर दिया गया है |

और जीपीयू के लिए इसमें Octa core (2.2 GHz, Dual core, Cortex A76 + 2 GHz, Hexa Core, Cortex A55) चिपसेट लगाए गए हैं | इस स्मार्टफोन में 4GB का रैम 128 जीबी का इंटरनल स्टोरेज मौजूद कर आ गया है | आप चाहे तो माइक्रो एसडी कार्ड की मदद से इसमें 512gb का स्टोरेज क्षमता बढ़ा सकते हैं |

देखें Samsung Galaxy A54 कैमरा और आने फीचर्स

सैमसंग द्वारा लांच किए गए इस नए स्मार्टफोन में Samsung Galaxy A54 कैमरा की बात की जाए तो आपको 50MP मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा तथा 8MP मेगापिक्सल का अल्ट्रा वाइड एंगल कैमरा और 5 मेगापिक्सल का माइक्रो कैमरा दिया गया है | फ्रंट साइड में सेल्फी हेतु आपको 32MP मेगापिक्सल का कैमरा सेंसर दिया गया है |

Samsung Galaxy A54

वही नहीं इसमें बैकअप के लिए 5000mAh की पावर बैटरी दी गई है | सिक्योरिटी के लिए ऑन स्क्रीन आपको फिंगरप्रिंट सेंसर सिक्योरिटी मिलेगी | इसके अतिरिक्त आपको आने फीचर्स में Wi-Fi 4 , ब्लूटूथ हॉटस्पॉट जीपीएस पोर्ट के रूप में C-Port जैसे अन्य फीचर्स भी शामिल किए गए हैं |

Samsung Galaxy A54 2022 – महत्वपूर्ण लिंक देखें

Leave a Comment Cancel reply

DISCLAIMER

Gadgetsupdateshindi.com यह वेब पोर्टल सरकारी योजना, न्यू गैजेट्स, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, टेक गेजेट्स, आधार कार्ड अपडेट, पैन कार्ड, पासपोर्ट, राशन कार्ड, आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड, प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री श्रम मानधन योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, जन आरोग्य योजना, शादी विवाह अनुदान योजना, स्व निधि योजना, न्यूज़ अपडेट, सरकार द्वारा जारी गवर्नमेंट स्कीम संबंधित न्यूज़ अपडेट तथा कॉमन सर्विस सेंटर के द्वारा प्रदान की गई अपडेट संबंधित जानकारियां उपलब्ध कराती है |

यह वेब पोर्टल किसी भी राज्य अथवा केंद्र सरकार के डिपार्टमेंट से नहीं है, या कहें कि किसी भी तरह का कोई सरकारी डिपार्टमेंट की वेब पोर्टल नहीं है| इस पर मिलने वाले सभी कांटेक्ट समाचार पत्रों और सोशल मीडिया तथा ट्यूटर पे ट्वीट किए हुए अधिकारियों के या राजनेताओं के संबंधित जानकारी को ही एकत्रित करके, आपके साथ साझा की जाती है |

Investment Fields : भूल जाएं एफडी, सड़क निर्माण में लगाएं पैसा, मिल रहा जबरदस्त ब्याज

एफडी निवेश का एक बहुद सुरक्षित विकल्प मानी जाती हैं। आपका एफडी से औसत रिटर्न भी मिलता है और आपका पैसा डूबने की आशंका नहीं होती। आज हम एक ऐसे ही निवेश विकल्प के बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें आपको एफडी से ज्यादा रिटर्न मिलेगा।

Investment Fields : भूल जाएं एफडी, सड़क निर्माण में लगाएं पैसा, मिल रहा जबरदस्त ब्याज

HR Breaking News (डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली)। एफडी निवेश का एक बहुद सुरक्षित विकल्प मानी जाती हैं. आपका एफडी से औसत रिटर्न भी मिलता है और आपका पैसा डूबने की आशंका नहीं होती. इसी तरह का एक और निवेश विकल्प है इनविट (InviT). नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) इनविट के जरिए एनसीडी (नॉन कनवर्टिबल डिबेंचर) लाने जा रही है. इसमें आपको 8.05 फीसदी तक का रिटर्न मिलेगा और न्यूनतम निवेश 10,000 रुपये का होगा.

एनसीडी के जरिए एनएचएआई की 1500 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है. यहां मैच्योरिटी पीरियड 25 साल का होगा. इस इश्यू का 25 फीसदी हिस्सा खुदरा निवेशकों के लिए आरक्षित है. गौरतलब है कि एनसीडी पर रिटर्न की गारंटी सरकार या एनएचआई नहीं देते हैं लेकिन ये AAA रेटेड इश्यू है जिसे 2 अलग-अलग एजेंसी ने रेट किया है.


लंबी अवधि के निवेश के लिए आकर्षक विकल्प


इस इश्यू को लेकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि मौजूदा माहौल में यह लंबी अवधि के निवेश के लिए एक आकर्षक विकल्प है. उन्होंने कहा कि इनविट के साथ फायदा यह है कि इसे अनुभवी लोगों द्वारा मैनेज किया जाता है और इसमें सुनिश्चित व स्थाई कैश फ्लो बना रहता है. उन्होंने आह्वान किया कि इसमें निवेश कर हर भारतीय आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में योगदान कर सकता है. बकौल गडकरी, देश की तरक्की तभी संभव है जब देश के ही आम लोग इसे आगे लेकर जाएंगे.

क्या है एनसीडी


एनसीडी के जरिए कंपनियां या संस्थाएं अपनी जरूरतों के लिए लोगों से कर्ज लेती हैं. इसके मैच्योरिटी पीरियड के दौरान कंपनी या वह संस्था आपको ब्याज दर देती रहती है. इसलिए इसे फिक्स्ड रिटर्न एसेट माना जाता है. मैच्योरिटी पीरियड खत्म होने के बाद कंपनी आपका पूरा पैसा वापस विकल्प ट्रेडिंग लौटा देती है. इसे बॉन्ड की तरह देखा जा सकता है. एनएचआई के एनसीडी की ब्याज दर 7.9 फीसदी है लेकिन इसे 6 महीने पर दिया जाएगा इसलिए सालाना आधार पर इसकी असल यील्ड 8.05 फीसदी हो जाएगी.


कैसे करें निवेश


आप अपने स्टॉक ब्रोकर के जरिए इसमें पैसा लगा सकते हैं. आपके अप्लाई करने के बाद अकाउंट में उतना पैसा ब्लॉक हो जाएगा और इश्यू बंद होने के बाद आपको एसेट एलोकेट कर दी जाएगी. इसकी ट्रेडिंग बीएसई और एनएसई पर ही होगी. निवेश से पहले जान लें कि एनसीडी मिले ब्याज पर टैक्स लगता है.

रेटिंग: 4.50
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 237
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *