एफएक्स विकल्प

क्या विकल्प स्टॉक से बेहतर हैं

क्या विकल्प स्टॉक से बेहतर हैं
375% का ताबड़तोड़ रिटर्न, अब कंपनी 1 शेयर पर देगी एक शेयर बोनस; जानें रिकॉर्ड डेट

इन पांच शेयरों में करें निवेश, लॉन्ग टर्म में शानदार रिटर्न की उम्मीद!

aajtak.in

शेयर बाजार में निवेश से पहले लोगों के मन में सवाल होते हैं कि किस कंपनी के शेयरों पैसे लगाएं. अगर आप ज्यादा जोखिम उठाना नहीं चाहते हैं तो हम आपके लिए 5 ऐसे शेयर चुनकर लाए हैं. जिसमें आप बेहतर रिटर्न के लिए निवेश कर सकते हैं. दरअसल, शेयर बाजार की भाषा में कहा जाता है कि जितना ज्यादा जोखिम, उतना ज्यादा रिटर्न. यानी ज्यादा रिटर्न के लिए ज्यादा जोखिम उठाना पड़ता है. (Photo: File)

लॉन्ग टर्म के लिए निवेश

मार्केट एक्सपर्ट और tradeswift के डायरेक्टर संदीप जैन ने 5 स्टॉक्स के नाम सुझाए हैं. उनका कहना है कि अगर निवेश का नजरिया लंबा है, तो फिर इन 5 शेयरों में बेहतर रिटर्न के लिए पैसे लगा सकते हैं. उन्होंने बताया कि कम से कम 6 महीने का वक्त लेकर इन 5 शेयरों में निवेश किया जा सकता है. (Photo: File)

Infosys share

Infosys
संदीप जैन का पहला पसंदीदा स्टॉक दिग्गज आईटी कंपनी इंफोसिस है. कोरोना संकट के दौरान आईटी कंपनियों का कारोबार बढ़ा है. फिलहाल यह स्टॉक 1402 रुपये का है, यह स्टॉक इसी महीने 5 फीसदी करेक्ट हो चुका है.

HDFC Limited

HDFC Limited
लॉर्ज कैप कंपनी HDFC Limited में लॉन्ग टर्म के लिए निवेश किया जा सकता है. इस कंपनी का लोन बुक पिछले एक साल में मजबूत हुआ है. फिलहाल एचडीएफसी लिमिटेड का शेयर 2,522 रुपये है. (Photo: File)

ITC company share

ITC
मंगलवार को ITC के शेयर 208 रुपये पर बंद हुए हैं. यह कंपनी अपने निवेशकों को शानदार डिविडेंट देने के लिए जानी जाती है. वैसे पिछले एक महीने में यह शेयर अपने उच्चतम स्तर से 15 फीसदी नीचे आ चुका है. निवेश का नजरिया लंबा है तो फिर अच्छे रिटर्न के लिए पैसे लगा सकते हैं. (Photo: File)

 ICICI Bank


ICICI Bank
प्राइवेट सेक्टर का दूसरा सबसे बड़ा बैंक ICICI Bank के शेयरों में निवेश से कुछ महीनों में अच्छा रिटर्न मिल सकता है. ICICI बैंक का शेयर 560 रुपये के आसपास है. इसी साल फरवरी में इस स्टॉक ने 680 रुपये के स्तर को छुआ था. जहां से स्टॉक करीब 20 फीसदी करेक्ट हुआ है. (Photo: File)

Mahindra EPC

Mahindra EPC
मार्केट एक्सपर्ट संदीप ने लॉन्ग टर्म के लिए पांचवां स्टॉक्स Mahindra EPC को चुना है. उनके मुताबिक इस स्टॉक्स में बेहतर रिटर्न देने की क्षमता है. मंगलवार को यह स्टॉक एनएसई पर 142 रुपये पर बंद हुआ था. (Photo: File)

आपके काम की खबर: जानिए स्टॉक मार्केट और रियल एस्टेट में से कौन सा विकल्प है बेहतर

टाइम्स नाउ डिजिटल

स्टॉक और रियल एस्टेट में निवेश भारत में दो सामान्य लॉन्ग टर्म निवेश विकल्प हैं। क्या आपने कभी विश्लेषण किया है कि इनमें से कौन-सा निवेश विकल्प (स्टॉक बनाम रियल एस्टेट) आपको आने वाले वर्षों में अमीर बना देगा? इन एसेट क्लास में अपना पैसा लगाकर आप कितनी संपत्ति जमा कर सकते हैं?

Investment tips

आमतौर पर यह तर्क दिया जाता है कि शेयरों में निवेश रियल एस्टेट निवेश से कहीं बेहतर है। क्या वास्तव में ऐसा है? इस प्रश्न का वास्तव में कोई सटीक उत्तर नहीं है क्योंकि यह व्यक्तिगत प्राथमिकताओं और वित्तीय उद्देश्यों पर निर्भर करता है। आइए इन दो लोकप्रिय निवेश विकल्पों के गुण और दोषों पर एक नजर डालें: स्टॉक बनाम रियल एस्टेट में निवेश।

स्टॉक्स में निवेश

स्टॉक्स में निवेश करने से आपको कंपनी में हिस्सेदारी मिलती है। स्टॉक निवेश जोखिम लेने वाले निवेशकों का हमेशा से पसंदीदा रहा है जो शेयर बाजार से बड़ा और बेहतर रिटर्न हासिल करना चाहते हैं। हम सभी जानते हैं कि शेयर बाजार जोखिम के अधीन हैं। लेकिन, जैसा कि कहा जाता है, "जितना अधिक जोखिम, उतना अधिक रिटर्न" तो शेयर बाजार से भी ऐसी ही उम्मीद की जा सकती है।

शेयरों पर लाभांश अर्जित करना और उन्हें सही समय पर बेचकर लाभ जोड़ना, आय का अच्छा स्रोत प्रदान करता है।

रियल एस्टेट में निवेश

रियल एस्टेट या अचल संपत्ति, एक टैंजिबल एसेट ने दशकों से निवेशकों के लिए लगातार धन अर्जित किया है। वाणिज्यिक हो या आवासीय, रियल एस्टेट में निवेश अधिक धन रखने वाले लोगों का पसंदीदा विकल्प रहा है।

एक निवेशक के रूप में, भारत के विभिन्न शहरों और स्थानों में रियल एस्टेट से रिटर्न काफी भिन्न हो सकता है। घर के अलावा जहां आप रहते हैं, यदि आप कोई अतिरिक्त संपत्ति किराए पर देने की योजना बना रहे हैं, तो यह आपको समय के साथ पूंजी वृद्धि के साथ नियमित किराये की आय प्रदान कर सकता है।

स्टॉक्स बनाम रियल एस्टेट में निवेशः तुलना

लॉन्ग टर्म निवेश- स्टॉक के साथ-साथ रियल एस्टेट दोनों में निवेश को लॉन्ग टर्म निवेश साधन माना जाता है। विशेषज्ञ आमतौर पर इन दोनों परिदृश्यों में काफी लंबी अवधि के लिए निवेशित रहने की सलाह देते हैं।

आपको रियल एस्टेट की तुलना में अपेक्षाकृत कम अवधि में शेयरों से कमाई करने का मौका मिल सकता है। लेकिन, बाजार में तेजी आने तक, आपको अपनी वास्तविक क्षमता अर्जित करने के लिए अपनी संपत्ति को अधिक वर्षों तक रखना पड़ सकता है।

तेज और सुविधाजनक- यहां कोई भी अनुमान लगा सकता है कि शेयरों में निवेश करना इतना तेज़ और सुविधाजनक है, और इसमें लर्निंग कर्व भी छोटा है। आपको बस एक प्रतिष्ठित स्टॉक ब्रोकर के साथ जुड़ना है, डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलना है, इसे अपने बैंक खाते से लिंक करना है और आप शुरुआत कर सकते हैं।

रियल एस्टेट निवेश एक लंबी प्रक्रिया है जिसमें अंतिम सौदा करने से पहले बहुत सारी कागजी कार्रवाई और गहन विश्लेषण शामिल है।

स्टॉक्स बनाम रियल एस्टेट में तरलता- रियल एस्टेट में निवेश की तुलना में स्टॉक या इक्विटी में निवेश उच्च तरलता प्रदान करता है। आपके पास बाजार समय में अपने स्टॉक निवेशों से ऑनलाइन बाहर निकलने का विकल्प है। आपको अपनी वर्तमान आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अपने सभी इक्विटी क्या विकल्प स्टॉक से बेहतर हैं निवेशों को नहीं, बल्कि कुछ को खत्म करने का विकल्प भी रहता है।

लेकिन, जब आप अपना पैसा रियल एस्टेट में निवेश करते हैं, तो आप इसे जल्दी से नहीं निकाल सकते। संपत्ति को तुरंत बेचना संभव नहीं होगा। आपको बाजार के मजबूत होने का इंतजार करना होगा और वांछित लाभ प्राप्त करने के लिए उपयुक्त खरीदार की तलाश करनी होगी।

बाजार में उतार-चढ़ाव- स्टॉक के साथ-साथ रियल एस्टेट में निवेश से बाजार में उतार-चढ़ाव का खतरा रहता है। स्टॉक लंबे समय में उच्च धन उत्पन्न करने के लिए सिद्ध हुए हैं। यह मानव स्वभाव है कि चरम स्थितियों में अति प्रतिक्रिया करता है जिससे आवेगपूर्ण स्टॉक खरीदने / बेचने के फैसले होते हैं। इस वजह से बाजार के जोखिमों को वहन करते हुए मजबूत निवेश पोर्टफोलियो बनाने के लिए पर्याप्त अनुशासित होना आवश्यक है।

रियल एस्टेट को भी बाजार के उतार-चढ़ाव से दूर नहीं रखा जाता है। आप भारी मात्रा में मुनाफा हासिल कर सकते हैं, यहां बड़ा नुकसान उठा सकते हैं या यदि बाजार धीमा है तो अपना पैसा फंसा सकते हैं।

निवेश का विविधीकरण- शेयरों में निवेश करने से आपको कम मात्रा में भी अपने निवेश में विविधता लाने का मौका मिलता है। आप विभिन्न कंपनियों और इक्विटी साधनों के शेयरों में निवेश कर सकते हैं।

जबकि रियल एस्टेट निवेश में, विविधीकरण की कोई गुंजाइश नहीं है और इसके लिए पर्याप्त मात्रा में धन की आवश्यकता होती है, वह भी एकमुश्त।

स्टॉक बनाम रियल एस्टेट में निवेश: एक अंतिम फैसला
स्टॉक और रियल एस्टेट में निवेश के अपने फायदे और नुकसान हैं। दोनों में से किसी एक के साथ पैसा बनाने के लिए, इसके लिए योजनाबद्ध और व्यवस्थित रणनीति की आवश्यकता होती है। शेयरों और रियल एस्टेट, दोनों ही निवेश में आप अपने-अपने तरीके से यूनिक साबित हो सकते हैं।

हालांकि, जब हम सक्रिय रूप से ओवरऑल लाभ और आय सृजन क्षमता की तुलना करते हैं, तो शेयरों में निवेश निश्चित तौर पर बेहतर है।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि हाल तक रियल एस्टेट भारी पैसा कमाने का एक आकर्षक संस्करण हुआ करता था। लेकिन, इसकी चमक और आकर्षण बाजार में भारी गिरावट के कारण खोता जा रहा है।

मनोवैज्ञानिक रूप से लोग अपने हितों के आधार पर स्टॉक या रियल एस्टेट की ओर आकर्षित होते हैं। लेकिन, व्यावहारिक रूप से आपको अपने लॉन्ग टर्म वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए रणनीति बनाने की आवश्यकता है। इसके अलावा, संपत्ति के मालिक होने से व्यक्तिगत संतुष्टि मिलती है। लेकिन, अगर आपके पास पहले से ही एक है, तो आप निश्चित रूप से शेयरों में निवेश करके अपने पैसे को और बढ़ाने की उम्मीद कर सकते हैं।

(इस लेख के लेखक, TradeSmart के सीईओ विकास सिंघानिया हैं)
(डिस्क्लेमर: ये लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए)

क्या विकल्प स्टॉक से बेहतर हैं

पहला कदम कई उपलब्ध विकल्पों जैसे स्टॉक, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड, डेरिवेटिव आदि में से निवेश के प्रकार को चुनना है. निर्णय लेने से पहले प्रत्येक विकल्प को समझना बेहतर रहेगा.

Written by Web Desk Team | Published :September 9, 2022 , 6:54 am IST

पिछले दो दशकों के दौरान शेयर बाजार में निवेश करने को लेकर लगातार वृद्धि देखी गई है. हालांकि, बाजार में अभी भी उतार-चढ़ाव चिंता का विषय बना हुआ है. यदि आप अब इसकी शुरुआत कर रहे हैं और शेयर बाजार में धन निवेश करने का इरादा रखते हैं तो ये उतार-चढ़ाव आपके पोर्टफोलियो को प्रभावित कर सकते हैं. बाजार में जब तक आप किसी रणनीति के साथ व्यापार नहीं करते हैं, तब तक आपको नुकसान का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए इस आर्टिकल में हम Beginners के लिए कुछ टिप्स लेकर आए हैं, जो शेयर बाजार में निवेश करने के लिए मददगार साबित हो सकते हैं –

स्टॉक मार्केट क्या है?
शेयर बाजार एक्सचेंजों, कंपनियों और निवेशकों के लिए इक्विटी, डेरिवेटिव, बॉन्ड, म्यूचुअल फंड आदि जैसी विभिन्न सिक्योरिटीज को सूचीबद्ध करने, खरीदने या बेचने का एक प्लेटफार्म है. आमतौर पर इसमें विभिन्न स्टॉक एक्सचेंज शामिल होते हैं, जो फॉर्मल (Formal) या ओवर-द-काउंटर (OTC) होते हैं. ये वित्तीय साधनों की सूची के साथ शेयर बाजार में लेनदेन की सुविधा प्रदान करते हैं.

भारत में शेयर बाजार के कार्यों को Securities and Exchange Board of India जैसे शासकीय संस्था द्वारा मैनेज व मॉनिटर किया जाता है. स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग कैसे सीखें, यह समझने के लिए इन कार्यों को समझना महत्वपूर्ण है.

शॉर्ट-टर्म और लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट के बीच अंतर – Beginners को कैसे चुनना चाहिए?
Beginners के लिए स्टॉक ट्रेडिंग के सबसे भ्रमित पहलुओं में से एक निवेश क्षितिज (investment horizon) को समझना है. बता दें, निवेश क्षितिज (investment horizon) वह समय होता है, जिसमें एक निवेशक पोर्टफोलियो होल्ड करने के लिए तैयार रहता है. आमतौर पर, दो निवेश क्षितिज (investment horizon) होते हैं: शॉर्ट-टर्म और लॉन्ग-टर्म. दोनों के बीच अंतर इस प्रकार है –

शॉर्ट-टर्म इन्वेस्टमेंट के फायदे
एक शॉर्ट-टर्म इन्वेस्टमेंट तब होता है जब कोई निवेशक सिक्योरिटीज को 3-4 महीने के भीतर बेचने के लिए खरीदता है. यह शेयर मार्किट में तुरंत लाभ कमाने की सुविधा प्रदान करता है. इस प्रक्रिया में निवेशकों को शेयर बाजार में लंबे समय तक अपना पैसा नहीं रखना पड़ता है और फिर भी सिक्योरिटीज की कीमतों में वृद्धि होने पर लाभ होता है.

लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट के फायदे
लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट को मूल्य निवेश (Value Investment) भी कहा जाता है. लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट में आप सिक्योरिटीज को कई वर्षों तक रखने के लिए खरीदते हैं. ज्यादा समय तक सिक्योरिटीज होल्ड करने से मार्किट रिस्क कम होने की संभावनाएं होती हैं क्योंकि ज्यादातर वे समय के साथ बढ़ते हैं. इस तरह के निवेश निवेशकों को सिक्योरिटीज की सबसे अच्छी वैल्यू प्रदान करते हैं क्योंकि विस्तारित अवधि अच्छे मुनाफे की संभावना को बढ़ाती है.

Beginners को किस प्रकार के निवेश का विकल्प चुनना चाहिए?:
निवेश लक्ष्य के आधार पर दोनों प्रकार के निवेश सही हैं. यदि आप तेजी से मुनाफा कमाना चाहते हैं और निवेशित धन को लंबे समय तक रखे बिना रिस्क लेने की क्षमता रखते हैं, तो आप शॉर्ट-टर्म इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं.

दूसरी ओर, यदि निवेशक ज्याद जोखिम नहीं लेना चाहते हैं और भविष्य के लिए व्यवस्थित रूप से निवेश करना चाहते हैं, तो आप लॉन्ग-टर्म पर विचार कर सकते हैं.

शेयर मार्किट में निवेश को लेकर Beginners के लिए step-by-step Guide

Beginners के लिए क्या विकल्प स्टॉक से बेहतर हैं शेयर बाजार में निवेश करने की प्रक्रिया में सिक्योरिटीज को खरीदने और बेचने की प्रक्रिया को समझना भी शामिल है. यहां Beginners के लिए शेयर बाजार में निवेश करने के तरीके के बारे में step-by-step Guid दी गई है –

1.निवेश का एक प्रकार चुनें: पहला कदम कई उपलब्ध विकल्पों जैसे स्टॉक, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड, डेरिवेटिव आदि में से निवेश के प्रकार को चुनना है. निर्णय लेने से पहले प्रत्येक विकल्प को समझना बेहतर रहेगा.

2.डीमैट खाता खोलें: आपकी सिक्योरिटीज को इलेक्ट्रॉनिक रूप (Online) में रखने के लिए एक डीमैट खाता महत्वपूर्ण है. इसलिए निवेश करने से पहले डीमैट खाता खोलना अनिवार्य है. डीमैट खाता खोलने के लिए किसी एक को चुनने से पहले विभिन्न स्टॉक ब्रोकरों की तुलना और विश्लेषण करना एक अच्छा कदम साबित हो सकता है.

3.उपलब्ध स्टॉक विकल्पों पर रिसर्च और अध्ययन करें: नुकसान को कम करने और लाभ में बढ़ोतरी के लिए चुने हुए प्रकार के निवेश पर शोध करना जरूरी है. आप समाचार पत्रों, टीवी चैनलों या स्टॉक ब्रोकर द्वारा उपलब्ध जानकारी के माध्यम से चुनी गई सिक्योरिटी पर रिसर्च और अध्ययन कर सकते हैं.

4.अपने लक्ष्य के अनुरूप स्टॉक में निवेश करें: निवेश लक्ष्य निर्धारित करने के बाद आपको स्टॉक या अन्य निवेश उत्पादों में निवेश करना चाहिए. लक्ष्य यह सुनिश्चित करेगा कि आप एक आदर्श investment horizon, निवेश राशि, सुरक्षा और जोखिम उठाने की क्षमता का चयन करें.

5.अपने पोर्टफोलियो की नियमित रूप से निगरानी करें: एक बार जब आप किसी निवेश लक्ष्य के आधार पर सिक्योरिटी में निवेश कर लेते हैं, तो नियमित रूप से पोर्टफोलियो की निगरानी करना महत्वपूर्ण है. मॉनिटरिंग आपके निवेश के परफॉरमेंस को समझने, नुकसान को कम करने और उन शेयरों की पहचान करने में मदद करती है जो आगे के निवेश के लिए बेहतर परफॉर्म कर रहे हैं.

6.Trends और उतार-चढ़ाव के साथ बने रहें: शेयर बाजार उतार-चढाव एक आम बात है जो सूचीबद्ध सिक्योरिटीज की कीमत में वृद्धि या कमी करता है. शेयर बाजार में मौजूदा घटनाओं के बारे में अपडेट रहकर बाजार की दिशा (रुझान) को समझना जरूरी है. यह मौजूदा और भविष्य के निवेशों के संबंध में बेहतर निर्णय लेने की सोच को विकसित करता है.

Beginners शेयर बाजार में निवेश कैसे करें? Ask 5paisa

5paisa भारत के सबसे तेजी से बढ़ते डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर्स में से एक है और पहली सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध ऑनलाइन ब्रोकरेज कंपनी है. हम देश की शीर्ष 10 डिस्काउंट ब्रोकिंग फर्मों में शामिल हैं. हम सुगम ट्रेडिंग अनुभव का आनंद लेने के लिए सर्वोत्तम डीमैट खाता और ट्रेडिंग सुविधाएं प्रदान करते हैं.
5paisa वित्तीय सेवाओं (financial services) के लिए वन-स्टॉप डेस्टिनेशन है, जिसमें स्टॉक और म्यूचुअल फंड निवेश, इक्विटी ट्रेडिंग, बीमा, रिसर्च प्रोडक्ट्स (Research Products), डिजिटल गोल्ड निवेश, कमोडिटी और मुद्रा व्यापार (Commodity and Currency Trading), रोबो एडवाइजरी, व्यक्तिगत ऋण (Personal Loan) आदि शामिल हैं. इसलिए आज ही 5paisa के साथ अपना डीमैट खाता खोलें.

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न –

प्रश्न 1.शेयर बाजार में निवेश करने के लिए किन डाक्यूमेंट्स की जरूरत होती है?
उत्तर: डीमैट खाता खोलने के लिए आवश्यक डाक्यूमेंट्स आपके बैंक विवरण के साथ आपका पैन और आधार कार्ड हैं.

Q.2:क्या आपको शेयर बाजार में निवेश करने के लिए एक नया खाता खोलने की आवश्यकता है?
उत्तर: शेयर बाजार में निवेश करने के लिए डीमैट खाता खोलना अनिवार्य है. यदि आपके पास पहले से ही एक डीमैट खाता है, तो आपको शेयर बाजार में निवेश करने के लिए नए खाते की आवश्यकता नहीं है.

Q.3:मुझे शॉर्ट-टर्म या लॉन्ग-टर्म किस में इन्वेस्ट करना चाहिए?

उत्तर: यदि आपकी जोखिम लेने की क्षमता अधिक है और आप शीघ्र लाभ अर्जित करना चाहते हैं, तो आप एक शॉर्ट-टर्म निवेश कर सकते हैं. यदि आपके पास कम जोखिम लेने की क्षमता है, और आप तुरंत लाभ का लालच नहीं रखते हैं, तो आप लॉन्ग-टर्म निवेश कर सकते हैं.

म्युचुअल फंड हो तो ऐसा, 10,000 के SIP ने दिया ₹1.8 करोड़ का रिटर्न; हर तीन साल में पैसा डबल

ऐसे निवेशक जो स्टॉक मार्केट में डायरेक्ट निवेश करने से बचना चाहते हैं उनके लिए म्युचअल फंड बेहतर विकल्प माना जाता है। आम तौर पर देखा जाता है कि म्युचुअल फंड में फायदा लॉन्ग टर्म के दौरान ही मिलता है।

म्युचुअल फंड हो तो ऐसा, 10,000 के SIP ने दिया ₹1.8 करोड़ का रिटर्न; हर तीन साल में पैसा डबल

ऐसे निवेशक जो स्टॉक मार्केट में डायरेक्ट निवेश करने से बचना चाहते हैं उनके लिए म्युचअल फंड बेहतर विकल्प माना जाता है। आम तौर पर देखा जाता है कि म्युचुअल फंड में फायदा लॉन्ग टर्म के दौरान ही मिलता ही है। ICICI Prudential Multi-Asset म्युचुअल फंड ने लॉन्ग टर्म में निवेशकों किस्मत ही बदल दिया। इसमें एसआईपी के जरिए इस फंड में निवेश करने वाले निवेशक आज करोड़पति बन गए हैं।

ICICI Prudential Multi-Asset फंड 20 साल पहले 21 अक्टूबर 2002 को लॉन्च किया गया था। 3 नवबंर 2022 तक इस म्युचुअल फंड का कंपाउंड एनुअल ग्रोथ रेट (CAGR) 21.21 प्रतिशत रहा है। जिस किसी ने 2002 में इस फंड में 10 हजार रुपये का मंथली निवेश शुरू किया होगा, उसका रिटर्न अबतक 1.8 करोड़ रुपये हो गया होगा। बता दें, वैल्यू रिसर्च ने इस फंड को 4 स्टार रेटिंग दी है।

70 रुपये के प्रीमियम पर पहुंचा इस IPO का शेयर, अगले सप्ताह दांव लगा पाएंगे निवेशक

साल दर साल कैसा रहा प्रदर्शन?

10 हजार रुपये के मंथली एसआईपी ने 20 साल में 1.8 करोड़ रुपये का रिटर्न ICICI Prudential Multi-Asset फंड ने दिया है। अगर किसी ने 10 हजार रुपये की एसआईपी की शुरुआत 10 साल पहले किया होगा तो उसका रिटर्न इस फंड ने 26 लाख रुपये बना दिया है। जिस किसी निवेशक ने 5 साल पहले इस फंड पर भरोसा जताकर 10 हजार रुपये का निवेश शुरू किया होगा उसका रिटर्न 9.51 लाख रुपये हो गया होगा। वहीं, 3 साल में 10 हजार रुपये के मंथली निवेश ने 5.17 लाख रुपये का फंड जनरेट किया है।

बीते दो साल के दौरान 10 हजार रुपये हर महीना निवेश पर 2.96 लाख रुपये का रिटर्न मिला है। वहीं, 1 साल पहले ही जिस किसी ने निवेश करना शुरू किया होगा उसका रिटर्न अबतक बढ़कर 1.30 लाख रुपये हो गया होगा। बता दें, पिछले कुछ सालों के ट्रेंड को देखें तो ICICI Prudential Multi-Asset फंड ने हर तीन साल पर निवेशकों के पैसे को डबल कर दिया है।

375% का ताबड़तोड़ रिटर्न, अब कंपनी 1 शेयर पर देगी एक शेयर बोनस; जानें रिकॉर्ड डेट

बेस्ट स्टॉक मार्केट बुक्स हिंदी में | बिगिनर्स के लिए

शेयर मार्केट में निवेश से पैसा कमाना जब तक आसान नहीं हैं जब तक आप इसके बेसिक कॉन्सेप्ट को सही से सीख नहीं लेते। स्टॉक मार्केट सीखना एक निरतंर प्रक्रिया हैं जो आपको किताबों और मैगज़ीन से बेहतर शायद ही कहीं ओर से मिल पाएं।

शेयर मार्केट सीखने के लिए अंग्रेजी में आपको ढेरों किताबें मिल जाएगी। परन्तु हिंदी भाषा में कुछ गिनी-चुनी ही किताबे मौजूद हैं जो की आपको शेयर मार्केट सीखने में मदद कर सकती हैं।

आज इस आर्टिकल के माध्यम से मैं आपको Best Stock Market Books in Hindi बताऊंगा जिससे की आप अपने शेयर मार्केट ज्ञान को एक कदम आगे ले जा सकते हैं।

Best Stock Market Books in Hindi

आपको मैं 7 Best Stock Market Books in Hindi बताऊंगा जिनमें इन्वेस्टिंग और ट्रेडिंग से सम्बंधित बेस्ट किताबें शामिल होगी।

Best Stock Market Books in Hindi

(1) शेयर मार्केट गाइड

ये किताब शेयर मार्केट बिगिनर के लिए एक बेहतरीन किताब मानी जाती हैं। भारतीय लेखक द्वारा लिखित होने के कारण ये पढ़ने और समझने में बहुत आसान हैं।

शेयर मार्केट गाइड किताब श्रीमती सुधा श्रीमाली द्वारा लिखी गई हैं। ये किताब 1 जनवरी 2020 को प्रकाशित की गई थी।

किताब की सीधी, स्पष्ट-सरल भाषा, शेयर बाज़ार की कार्य प्रणाली, कमोडिटी मार्केट, म्यूच्यूअल फण्ड, एसेट एलोकेशन इसे एक अच्छी किताब बनाते हैं।

इस किताब में मुख्य रूप आपको ये जानकारी मिलेगी –

  • शेयर मार्केट की बेसिक जानकारी
  • प्राथमिक और द्वितीयक मार्केट
  • स्टॉक एक्सचेंज कैसे कार्य करता हैं?
  • ट्रेडिंग
  • स्टॉक ब्रोकर कैसे चुने
  • शेयर मार्केट में कैसे निवेश करें
  • कमोडिटी, म्यूच्यूअल फण्ड और डेरीवेटिव की जानकारी
  • शेयर मार्किट क्रैश

कुल मिलाकर अगर आप एक नए निवेशक हैं और शेयर मार्केट को शुरू से सीखना चाहते हैं तो आप निश्चित तौर पर इस किताब के साथ शुरुवात कर सकते हैं।

इस किताब को आप यहां से ख़रीद सकते हैं –

ये भी पढ़ें –

(2) बफ़े और ग्राहम से सीखें शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना

आर्यमन डालमिया द्वारा लिखित ये पुस्तक 1 जनवरी 2021 को प्रकाशित की गई थी। ये स्टॉक मार्केट की किताब इन्वेस्टिंग गुरु मिस्टर वारेन बफ़े और बेंजीमन ग्राहम के सिद्वान्तों पर आधारित हैं।

ये स्टॉक मार्किट की किताब हमें निवेश के मूलभूत सिद्धांत, वास्तविक उदाहरणों के साथ समझाती हैं। ये सभी निवेश के सिद्धांत निवेश सिद्धांतों के जनक बेंजामिन ग्राहम ने प्रतिपादित किये थे।

साथ ही इस पुस्तक में बताया गया हैं की कैसे मिस्टर वॉरेन बफे ने बेंजामिन ग्राहम के नियमों का पालन करके निवेश के द्वारा संपत्ति बनाई और विश्व के तीसरे सबसे अमीर व्यक्ति बन गए।

इस बुक के भारतीय लेखक होने की वजह से इसमें भारतीय स्टॉक मार्केट का संदर्भ बहुत ही आसान भाषा में समझाया गया हैं। इसलिए अगर आप एक नए निवेशक हैं तो ये किताब आपके लिए बेस्ट शेयर मार्केट बुक इन हिंदी हो सकती हैं।

इस किताब को आप यहां से ख़रीद सकते हैं –

(3) शेयर बाजार में कैसे नुकसान से बचें और धनवान बने

अगर Best Share Market Books in Hindi की बात की जाएँ तो ये बुक मेरी सबसे पसंदीदा बुक हैं। इसका एक बहुत बड़ा कारण हैं की ये किताब आपको वो सिखाती हैं जो की अच्छे-अच्छे लेखकों की किताब आपको सीखा नहीं पाती हैं।

स्टॉक मार्केट में पैसा सभी कमाना चाहते हैं लेकिन शेयर मार्केट में सबसे महत्वपूर्ण होता हैं अपना पैसा बचाना। ये आपको कोई नहीं सिखाता। ये किताब आपको बखूबी सिखाती हैं की कैसे आप शुरुवाती दौर में नुकसान से बच सकते हैं। इस बुक में शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स बहुत ही आसान भाषा में दिए गए हैं।

अधिकतर लोगों की यहीं कहानी रहती हैं की वे बिना सोचे-समझे ट्रेडिंग करते हैं, फिर नुकसान खाते हैं और अंत में शेयर मार्केट को सट्टा मार्केट बताकर हमेशा के लिए अलविदा कह देते हैं।

इसलिए जिससे की आपको इन सब समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ें आपको ये बुक अवश्य पढ़नी चाहिए। ये किताब प्रसेनजीत पॉल द्वारा लिखी गई हैं।

इस किताब को आप यहां से ख़रीद सकते हैं –

(4) इंवेस्टोनॉमी

ये स्टॉक मार्किट की बुक मिस्टर प्रांजल कामरा द्वारा लिखी गई पुस्तक हैं। स्टॉक मार्किट में वैल्यू इन्वेस्टिंग पैसा बनाने की सबसे बेहतरीन टेक्निक मानी जाती हैं।

इंवेस्टोनॉमी भी हमें वैल्यू इन्वेस्टिंग के कांसेप्ट ही समझाती हैं। वैल्यू इन्वेस्टिंग के द्वारा ही जैसे बेंजामिन ग्राहम, वॉरेन बफे, चार्ली मुंगर, पीटर लिंच आदि ने संपत्ति बनाई हैं।

ये किताब आज के समय के निवेश के सिद्धांत समझाती हैं, साथ ही शेयर बाजार के रहस्यों से भी पर्दा उठाती हैं। ये बुक आम भ्रांतियों और गलत धारणाओं को भी दूर करने का प्रयास करती हैं। ये किताब मौजूदा निवेशकों के साथ ही भावी निवेशकों को सशक्त बनाने पर आधारित हैं।

साथ ही ऐसे निवेशक जो शेयर मार्केट से काफी डरते हैं, उनके लिए ये किताब काफी बढ़िया साबित हो सकती हैं।

इस किताब को आप यहां से ख़रीद सकते हैं –

(5) धन-सम्पति का मनोविज्ञान

शेयर मार्केट को सीखने के लिए ये आवश्यक नहीं की आप बस स्टॉक मार्केट की क्या विकल्प स्टॉक से बेहतर हैं ही किताबें पढ़े। धन-सम्पति का मनोविज्ञान (The Psychology of Money) बुक एक ऐसी किताब हैं जो आपको वेल्थ, निवेश, लालच और धन का मनोविज्ञान बताती हैं।

साथ में ये किताब समझाती हैं की कैसे पैसे को काम पर लगाएं, कैसे पैसों को मैनेज और निवेश करें।

मनी सम्बंधित ये पुस्तक मेरी पसंदीदा बुक्स में से एक हैं। मेरी राय में आपको ये किताब एक बार अवश्य पढ़नी चाहिए। ये किताब आपकी मनी सम्बंधित धारणा को बिलकुल परिवर्तित कर देगी। धन-सम्पति का मनोविज्ञान बुक मॉर्गन हाउजल द्वारा लिखी गई हैं।

इस किताब को आप यहां से ख़रीद सकते हैं –

(6) टेक्निकल एनालिसिस और कैंडलस्टिक की पहचान

अगर आप स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करना सीखना चाहते हैं तो हिंदी में ये किताब आपकी लिए बढ़िया विकल्प हो सकता हैं। ये किताब मिस्टर रवि पटेल द्वारा लिखी गई हैं।

इस शेयर मार्केट की बुक में आपको निम्न बाते जानने को मिलेगी –

  • स्टॉक मार्केट विश्लेषण का परिचय
  • तकनीकी विश्लेषण की मूल बातें
  • कैंडलस्टिक का परिचय
  • चार्ट पैटर्न का परिचय
  • टेक्निकल इंडिकेटर
  • टेक्निकक्ल एनालिसिस
  • स्टॉप लॉस थ्योरी
  • केस स्टडीज

इस प्रकार ये किताब आपको इंट्राडे और नियमित ट्रेडिंग में काफी बढ़िया सहायता कर सकती हैं।

इस किताब को आप यहां से ख़रीद सकते हैं –

(7) ऑप्शन ट्रेडिंग से पैसों का पेड़ कैसे लगाए

ऑप्शन ट्रेडिंग सीखने के लिए ये किताब Best Stock Market क्या विकल्प स्टॉक से बेहतर हैं Book in Hindi मानी जाती हैं। ऑप्शन ट्रेडिंग से सम्बंधित मार्केट में अनेक किताबें मौजूद हैं परन्तु वो नए निवेशकों को समझने में काफी कठिन साबित होती हैं।

परन्तु ये ऑप्शन ट्रेडिंग की बुक पढ़ने और समझने में बहुत ही आसान हैं जिसे कम पढ़ा-लिखा आदमी भी आसानी से समझ सकता हैं।

अगर आप ट्रेडिंग से अपनी एक नियमित आय का जरिया बनाना चाहते हैं तो आपको निश्चित तौर पर एक बार तो ये किताब जरूर पढ़नी चाहिए।

ऑप्शन ट्रेडिंग से पैसों का पेड़ कैसे लगाए बुक महेश चंद्र कौशिक द्वारा लिखी गई हैं।

इस किताब को आप यहां से ख़रीद सकते हैं –

निष्कर्ष

अगर स्टॉक मार्केट को सीखने की बात की जाए तो ये कोई एक दिन का काम नहीं हैं। इसे सीखने में समय लगता हैं। स्टॉक मार्केट को सीखने के लिए बुक्स सबसे बेहतरीन विकल्प माना जा सकता हैं। साथ ही आप धीरे-धीरे अपने अनुभव से स्टॉक मार्केट में सीखते जाएंगे।

स्टॉक मार्केट में सफल होने के लिए आवश्यक हैं कि आप अच्छी तैयारी के साथ शेयर मार्केट में निवेश की शुरुआत करें। अगर आप बिना सोचे-समझे और किसी की टिप्स के आधार पर ही स्टॉक मार्केट में निवेश करते हैं तो आप को भारी नुकसान हो सकता हैं। जिससे आप लंबी अवधि में अच्छी वेल्थ बनाने से चूक सकते हैं।

इसीलिए हमेशा रिसर्च और एनालिसिस करने के बाद ही किसी कंपनी के स्टॉक में निवेश करें।

दोस्तों, आज आपने इस आर्टिकल में Best Stock Market Books in Hindi के बारें में जाना। अगर आपके कोई भी सवाल या सुझाव हैं तो आप मुझे कमेंट बॉक्स के माध्यम से बता सकते हैं।

रेटिंग: 4.53
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 571
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *