एफएक्स विकल्प

रुझान निर्देश

रुझान निर्देश

राजभाषा संबंधित कार्य

हिन्दी अनुभाग मंत्रालय में राजभाषा विभाग द्वारा जारी राजभाषा कार्यान्वयन संबंधी सभी दिशा-निर्देशों, नीतियों का अनुपालन करता है। राजभाषा अधिनियम, 1963 की धारा 3(3) और राजभाषा नियम 1976 के प्रावधानों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए विभिन्नस दस्ताजदेजों का कम से कम समय में अनुवाद उपलब्धा करवाता है। कार्मिकों को राजभाषा संबंधी प्रशिक्षण हेतु नियमित रूप से नामित किया जाता है। इसके अतिरिक्त राजभाषा के प्रचार-प्रसार में सतत प्रगति को सुनिश्चित करने के लिए बहुविध प्रोत्साहन योजनाएं कार्यान्वित करता है। हिन्दी के प्रति रुझान बढ़ाने हेतु हिन्दी कार्यशालाओं का आयोजन किया जाता है। विस्तृत..

UP Election Result 2022: यूपी के रुझानों को देख जश्न की तैयारी में जुटी BJP, कार्यकर्ताओं को दिल्ली दफ्तर पहुंचने के निर्देश

Uttar Pradesh Election Result 2022: उत्तर प्रदेश में बीजेपी ने रुझानों में बहुमत हासिल कर लिया है. ऐसे में राज्य में बीजेपी कार्यकर्ताओं का जश्न शुरू हो गया है.

By: नीरज पांडे, एबीपी न्यूज | Updated at : 10 Mar 2022 11:40 AM (IST)

BJP कार्यकर्ता (फाइल फोटो)

Uttar Pradesh Election Result 2022: पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे आज आ रहे हैं. अभी रुझानों में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर राज्यों में बीजेपी को जीत मिलती नजर रुझान निर्देश आ रही है. ऐसे में बीजेपी कार्यकर्ताओं को दिल्ली बीजेपी मुख्यालय पहुंचने के निर्देश दिए गए हैं. सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी के केंद्रीय कार्यालय में जीत का जश्न मनाया जाएगा. वहीं आज शाम बीजेपी के आला नेता पार्टी कार्यालय पहुंचेंगे. बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह भी इस जश्न में शामिल हो सकते हैं.

उत्तर प्रदेश में बीजेपी ने रुझानों में बहुमत हासिल कर लिया है. ऐसे में राज्य में बीजेपी कार्यकार्ताओं का जश्न शुरू हो गया है. रुझानों के मुताबिक आए आंकड़ों पर गौर करें तो बीजेपी 250 से ज्यादा सीटें जीत चुकी है, जबकि रुझानों में समाजवादी पार्टी 118 सीटों पर आगे है. वहीं, बीएसपी को 5 सीटें तो कांग्रेस 6 सीटें मिलती दिख रही है. बता दें कि अभी फाइनल नतीजे नहीं आए हैं.

रुझानों के बीच डिप्टी सीएम कैशव प्रसाद मौर्या का ट्वीट

चुनाव नतीजों के रुझान के बीच यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने ट्वीट कर लिखा है, "नई हवा है. सपा सफ़ा है. बेवजह अखिलेश ख़फ़ा हैं!" एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा है, "सपा गठबंधन के तथाकथित दिग्गज नेताओं को भी जनता ठुकरा रही है, बीजेपी को बदनाम करने के लिए सपा के अखिलेश यादव जी ने झूठ बोलने की आटोमैटिक मशीन के रूप में काम किया था."

News Reels

गोरखपुर शहर सीट से सीएम योगी आगे

वहीं, गोरखपुर शहर सीट से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सपा प्रत्याशी शुभावती शुक्ला से आगे चल रहे हैं. चुनाव नतीजों से पहले यूपी की कुल 403 विधानसभा सीटों पर एग्जिट पोल के नतीजे सामने आए थे, जिनमें ये बताया गया कि बीजेपी राज्य में एक बार फिर सरकार बना सकती है. कई एग्जिट पोल्स ने तो बीजेपी को 250 से ज्यादा सीटें मिलने का दावा किया है. एबीपी, सी-वोटर के एग्जिट पोल में बीजेपी को यूपी में 228 से 244 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है, वहीं सपा गठबंधन को 132 से 148 सीटें मिलने का अनुमान जताया रुझान निर्देश गया है.

ये भी पढ़ें-

Published at : 10 Mar 2022 11:34 AM (IST) Tags: BJP BJP workers Election 2022 Election Result 2022 UP Result 2022 हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Elections News in Hindi

Election in J&K: अब तक छह लाख लोगों ने मतदाता बनने के लिए किए दावे, कम रुझान पर आयोग गंभीर

अब तक रुझान निर्देश छह लाख फार्म छह प्राप्त हुए हैं। प्रत्येक जिले के चुनाव अधिकारी से कम संख्या में दावे आने के कारण जानने के साथ ही यह कहा गया कि बूथ स्तर तक इसमें तेजी लाई जाए।

vote

जम्मू-कश्मीर में मतदाता सूची में नाम दर्ज कराने के लिए कम रुझान है। अब तक नाम शामिल करने के लिए दावों से संबंधित छह लाख आवेदन पत्र ही जमा हो पाए हैं। सोमवार को चुनाव आयोग ने मतदाता सूची की प्रगति की समीक्षा कर इसमें तेजी लाने का सभी जिलों को निर्देश दिया है। वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई समीक्षा बैठक में सभी जिलों के चुनाव अधिकारी शामिल हुए। ज्ञात हो कि नाम शामिल कराने के लिए अंतिम तिथि 25 अक्तूबर है।

उप चुनाव आयुक्त हृदेश कुमार की अध्यक्षता में हुई बैठक में जिलावार मतदाता सूची बनाने के काम की प्रगति की जानकारी ली गई। सूत्रों के अनुसार इस दौरान यह बात सामने आई कि अब तक छह लाख फार्म छह प्राप्त हुए हैं। प्रत्येक जिले के चुनाव अधिकारी से कम संख्या में दावे आने के कारण जानने के साथ ही यह कहा गया कि बूथ स्तर तक इसमें तेजी लाई जाए।

राजनीतिक दलों के नुमाइंदों से भी संपर्क कर आम लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाने पर भी जोर दिया गया। विभिन्न माध्यमों से जागरूकता अभियान चलाने पर भी बल दिया गया। यह हिदायत दी गई कि यह हर हाल में सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी पात्र मतदाता का नाम शामिल होने से छूट न जाए। आखिर के 15 दिनों में युद्धस्तर पर बूथ स्तर तक 18 साल की आयु पूरी कर चुके युवाओं का नाम शामिल कराया जाए। सूत्रों ने बताया कि प्रत्येक जिले में विभिन्न आयु समूह के लोगों के बीच जागरूकता उत्पन्न की जाए।

छह पर्यवेक्षक नियुक्त
चुनाव आयोग ने मतदाता सूची बनाने के काम की निगरानी के लिए छह पर्यवेक्षक नियुक्त किए हैं। सचिव स्तर के अधिकारी संजीव वर्मा, सरिता चौहान, सौरभ भगत, शीतल नंदा के साथ ही दोनों संभाग के आयुक्त को यह जिम्मेदारी दी गई है कि वे नियमित रूप से निगरानी करें।

विस्तार

जम्मू-कश्मीर में मतदाता सूची में नाम दर्ज कराने के लिए कम रुझान है। अब तक नाम शामिल करने के लिए दावों से रुझान निर्देश संबंधित छह लाख आवेदन पत्र ही जमा हो पाए हैं। सोमवार को चुनाव आयोग ने मतदाता सूची की प्रगति की समीक्षा कर इसमें तेजी लाने का सभी जिलों को निर्देश दिया है। वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई समीक्षा बैठक में सभी जिलों के चुनाव अधिकारी शामिल हुए। ज्ञात हो कि नाम शामिल कराने के लिए अंतिम तिथि 25 अक्तूबर है।

उप चुनाव आयुक्त हृदेश कुमार की अध्यक्षता में हुई बैठक में जिलावार मतदाता सूची बनाने के काम की प्रगति की जानकारी ली गई। सूत्रों के अनुसार इस दौरान यह बात सामने आई कि अब तक छह लाख फार्म छह प्राप्त हुए हैं। प्रत्येक जिले के चुनाव अधिकारी से कम संख्या में दावे आने के कारण जानने के साथ ही यह कहा गया कि बूथ स्तर तक इसमें तेजी लाई जाए।

राजनीतिक दलों के नुमाइंदों से भी संपर्क कर आम लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाने पर भी जोर दिया गया। विभिन्न माध्यमों से जागरूकता अभियान चलाने पर भी बल दिया गया। यह हिदायत दी गई कि यह हर हाल में सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी पात्र मतदाता का नाम शामिल होने से छूट न जाए। आखिर के 15 दिनों में युद्धस्तर पर बूथ स्तर तक 18 साल की आयु पूरी कर चुके युवाओं का नाम शामिल कराया जाए। सूत्रों ने बताया कि प्रत्येक जिले में विभिन्न आयु समूह के लोगों के बीच जागरूकता उत्पन्न की जाए।

छह पर्यवेक्षक नियुक्त
चुनाव आयोग ने मतदाता सूची बनाने के काम की निगरानी के लिए छह पर्यवेक्षक नियुक्त किए हैं। सचिव स्तर के अधिकारी संजीव वर्मा, सरिता चौहान, सौरभ भगत, शीतल नंदा के साथ ही दोनों संभाग के आयुक्त को यह जिम्मेदारी दी गई है कि रुझान निर्देश वे नियमित रूप से निगरानी करें।

जिला निर्वाचन कार्यालय

औरैया नक्शा

मतदाताओं के लिए जानकारी के मुफ्त और निष्पक्ष प्रसारण प्रदान करने के उद्देश्य और मतदान तथ्यों की उपलब्धता और ऑनलाइन मतदाता पहचान पत्र प्रदान करने के उद्देश्य से जिला और मुख्यालयों के त हसीलों में मतदाता पंजीकरण केंद्र स्थापित किए गए हैं। जिला के सभी नागरिकों से एक मजबूत लोकतंत्र की भागीदारी में अमूल्य सहयोग और सुझावों का अनुरोध किया रुझान निर्देश जाता है।

LokSabha Election 2019 : पल-पल मतदान का रुझान लेते रहे योगी आदित्‍यनाथ, देते रहे दिशा-निर्देश

LokSabha Election 2019 : पल-पल मतदान का रुझान लेते रहे योगी आदित्‍यनाथ, देते रहे दिशा-निर्देश

गोरखपुर, जेएनएन। LokSabha Election 2019 गोरखनाथ क्षेत्र में मौजूद कन्या प्राथमिक विद्यालय मतदान केंद्र में मतदान करने के बाद सुबह करीब साढ़े सात बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर चले गए और पूरे दिन मंदिर परिसर स्थित अपने आवास से बाहर नहीं निकले। हालांकि मुख्यमंत्री पूरे दिन आवास में ही रहे लेकिन मतदान को लेकर उनकी सक्रियता लगातार बनी रही।

वह लगातार प्रदेश की सभी सीटों पर पडऩे वाले मतदान प्रतिशत की हर घंटे जानकारी लेते रहे। गोरखपुर लोकसभा सीट और बांसगांव लोकसभा सीट पर पडऩे वाले मतदान पर योगी की विशेष नजर रही। गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र में होने वाले मतदान को लेकर तो रुझान निर्देश उनकी दृष्टि विधानसभावार रही। नगर, ग्रामीण, कैंपियरगंज, पिपराइच और सहजनवां सभी विधानसभा क्षेत्रों में पडऩे वाले मत प्रतिशत को लेकर वह हर घंटे समीक्षा करते रहे और उसे बढ़ाने के लिए संबंधित लोगों को जरूरी निर्देश देते रहे।

यह सिलसिला तबतक चलता रहा, जबतक मतदान का समय समाप्त नहीं हो गया। मतदान सम्पन्न हुआ तो उन्होंने गुरु श्रीगोरक्षनाथ चिकित्सालय के डॉक्टरों के साथ बैठक की और अस्पताल की सुविधाओं की वर्तमान स्थिति की जानकारी ली। बातचीत में उन्होंने अस्पताल की बेहतरी के लिए जरूरी दिशा-निर्देश रुझान निर्देश भी दिए। मुख्यमंत्री सोमवार को ही मंदिर परिसर में ही रहेंगे। मंगलवार को उनका वापस लखनऊ जाने का कार्यक्रम है। हालांकि इसे लेकर कोई आधिकारिक कार्यक्रम जारी नहीं हुआ है।

यहां पहले मतदान, फ‍िर उठी बरात

शादी जरूरी है, लेकिन मतदान भी उससे कम जरूरी नहीं है। इसे साबित किया है सलेमपुर के गवीश दूबे व गोरखपुर की पूनम ने। घर में विवाह है, बरात निकलनी है, तैयारियां करनी है, इन सब व्यस्तताओं के बावजूद संविधान द्वारा प्रदत्त इस मूलभूत अधिकार को गवीश व पूनम नहीं रुझान निर्देश भूले। उन्होंने मतदान केंद्रों पर पहुंचकर मतदान किया और लोकतंत्र में अपनी आस्था व्यक्त की। गबीश दूबे की सलेमपुर से गोरखपुर बरात आई, बरात निकलने के पूर्व उन्होंने मतदान किया। घर में बरात की तैयारी चल रही थी जिसके केंद्र में दूल्हा ही होता है, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने समय निकालकर पहले मतदान किया, फिर बरात निकली। इसी तरह अंधियारी बाग की पूनम की रविवार को रात रुझान निर्देश में शादी थी, घर में तैयारियां चल रही थीं। विवाह के दिन बहुत सी तैयारियां दुल्हन के इर्द-गिर्द घूमती हैं, सभी लोग व्यस्त थे, बावजूद इसके उन्होंने पिता के साथ बूथ पर पहुंचकर मतदान किया।

रेटिंग: 4.60
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 792
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *