निवेश के तरीके

उच्च आवृत्ति व्यापार

उच्च आवृत्ति व्यापार

Guan Yu Machinery Factory Co., Ltd.| गुआन यू - पेशेवर निर्माता जो अत्यधिक कुशल कंपन विभाजक और शक्तिशाली लौह-रिमूवर में विशिष्ट है।

गुआन यू अनुसंधान एवं विकास, निर्माण और निरीक्षण में आधुनिक उच्च आवृत्ति व्यापार सुविधाओं से लैस है। गुआन यू ने बीस से अधिक वर्षों से कंपन विभाजकों और आयरन-रिमूवर पर ध्यान केंद्रित किया है और खुद को समर्पित उच्च आवृत्ति व्यापार किया है। प्रौद्योगिकी में हमारी विशेषज्ञता हमारी मशीनों को बेहद लोकप्रिय और विश्वसनीय बनाती है। गुआन यू आईएसओ 9001 गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली के लिए मान्यता उच्च आवृत्ति व्यापार प्राप्त है और हमारी मशीनें सीई अंकन के लिए योग्य हैं।

नवीनतम कार्यक्रम

इंटरपैक 2017 - हॉल: 04, बूथ: 4G13

प्रक्रियाएं और पैकेजिंग अग्रणी व्यापार मेला डसेलडोर्फ

2017 ताइपे अंतर्राष्ट्रीय खाद्य प्रसंस्करण और फार्मास्युटिकल मशीनरी शो

2017 ताइपे उच्च आवृत्ति व्यापार इंटरनेशनल फूड प्रोसेसिंग एंड फार्मास्युटिकल मशीनरी शो जल्द ही आवेदन.

ओमीक्रोन के डर, मुद्रास्फीति का दबाव बढ़ने के बावजूद व्यापार बहाली में तेजी आयी: नोमुरा

मुंबई, 29 नवंबर (भाषा) कोरोना वायरस के नये वैरिएंट ओमीक्रोन के डर और मुद्रास्फीति का दबाव बढ़ने के बावजूद व्यापार बहाली में तेजी आयी है। एक जापानी ब्रोकरेज कंपनी ने सोमवार को यह जानकारी दी। उच्च आवृत्ति व्यापार नोमुरा इंडिया का ‘बिजनेस रिजम्पशन इंडेक्स’ रविवार को समाप्त सात दिन के लिए 114.5 तक पहुंच गया, जबकि इससे पिछले सप्ताह में यह 114 पर था। यह सूचकांक साप्ताहिक आधार पर कारोबारी गतिविधियों की कोविड-पूर्व सप्ताहों से तुलना करता है। नोमुरा ने कहा, "ओमीक्रोन से उपजी अनिश्चितता के बावजूद, उच्च आवृत्ति के डेटा से पता चलता है कि अर्थव्यवस्था सुधार के रास्ते पर बढ़

नोमुरा इंडिया का ‘बिजनेस रिजम्पशन इंडेक्स’ रविवार को समाप्त सात दिन के लिए 114.5 तक पहुंच गया, जबकि उच्च आवृत्ति व्यापार इससे पिछले सप्ताह में यह 114 पर था। यह सूचकांक साप्ताहिक आधार पर कारोबारी गतिविधियों की कोविड-पूर्व उच्च आवृत्ति व्यापार सप्ताहों से तुलना करता है।

नोमुरा ने कहा, "ओमीक्रोन से उपजी अनिश्चितता के बावजूद, उच्च आवृत्ति के उच्च आवृत्ति व्यापार डेटा से पता चलता है कि अर्थव्यवस्था सुधार के रास्ते पर बढ़ रही है और मुद्रास्फीति का दबाव तेज हो रहा है।"

ब्रोकरेज ने कहा कि सीमा फिर से खुलने की संभावना धीमी होगी, क्योंकि विश्वस्तर पर कोविड के नये स्वरूप के पाए जाने के बाद भारत सरकार अपने अंतरराष्ट्रीय यात्रा दिशानिर्देशों की समीक्षा करने और उन्हें कड़ा करने के बारे में सोच रही है। साथ ही कई राज्य अलर्ट पर हैं।

हालांकि, पर्यटन पर अर्थव्यवस्था की निर्भरता "अपेक्षाकृत कम" है क्योंकि 2019 में इसका सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में हिस्सा केवल 1.1 प्रतिशत था।

नोमुरा ने कहा कि घरेलू संपर्क-गहन सेवाओं का निरंतर सामान्यीकरण, संक्रमण के मामलों के कम रहने पर निर्भर करता है क्योंकि यह एक तथ्य है कि केवल 32 प्रतिशत आबादी का ही पूर्ण टीकाकरण हुआ है।

Navbharat Times News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म. पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

घरेलू संवृद्धि दर मज़बूत बनी रहेगी

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के गवर्नर उर्जित पटेल के अनुसार, घरेलू संवृद्धि दर अच्छे मानसून के कारण उचित रूप से मज़बूत बनी रहेगी जो कि इस महीने की शुरुआत में हुई मौद्रिक समिति की बैठक की रिपोर्ट में अब तक सामान्य मानी जा रही थी। यह कृषि क्षेत्र के लिये एक शुभ संकेत है।

बुरा दौर अब पीछे, भारत की जीडीपी दर चौथी तिमाही में होगी वृद्धि के रास्ते पर: पारेख

आवास ऋण देने वाली कंपनी एचडीएफसी के गैर-कार्यकारी चेयरमैन दीपक पारेख ने गुरुवार को कहा कि बुरा दौर अब पीछे निकल रहा है और विभिन्न क्षेत्रों में मांग में आ उच्च आवृत्ति व्यापार रही तेजी को देखते हुए भारत का सकल घरेलू.

बुरा दौर अब पीछे, भारत की जीडीपी दर चौथी तिमाही में होगी वृद्धि के रास्ते पर: पारेख

आवास ऋण देने वाली कंपनी एचडीएफसी के गैर-कार्यकारी चेयरमैन दीपक पारेख ने गुरुवार को कहा कि बुरा दौर अब पीछे निकल रहा है और विभिन्न क्षेत्रों में मांग में आ रही तेजी को देखते हुए भारत का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) दर चौथी तिमाही में वृद्धि के रास्ते पर पहुंच जायेगी।

कनाडा-भारत व्यापार परिषद द्वारा डिजिटल तरीके से आयोजित सम्मेलन में उन्होंने कहा, ''उच्च आवृत्ति के आंकड़े (पीएमआई, व्यापार, बिजली खपत आंकड़े आदि) में माह-दर-माह आधार पर सुधार हो रहा है। अभी काफी कुछ की जरूरत है लेकिन इतना कहा जा सकता उच्च आवृत्ति व्यापार है कि बुरा दौर समाप्त हो गया है।

पारेख ने उदाहरण देते हुए कहा कि टोल संग्रह कोविड-19 पूर्व के स्तर के 88 प्रतिशत पर पहुंच गया है, ई-वे बिल बढ़ रहे हैं और बिजली खपत बेहतर हुई है। उन्होंने कहा कि इस तिमाही में आवास की बिक्री 34 प्रतिशत बढ़ी है। लोग अपार्टमेंट में बने-बनाये मकान खरीद रहे हैं।

पारेख ने कहा कि कृषि क्षेत्र की स्थिति काफी अच्छी है और इस साल रिकार्ड 30 करोड़ टन खाद्यान्न उत्पादन का अनुमान है। वृद्धि परिदृश्य के बारे में उन्होंने कहा, ''पहली तिमाही में 24 उच्च आवृत्ति व्यापार प्रतिशत की गिरावट आयी लेकिन मैं उसको लेकर चिंतित नहीं हूं क्योंकि उस दौरान तिमाही में काफी दिनों तक देश में पूरी तरह से 'लॉकडाउन था।

पारेख ने कहा, ''सितंबर में समाप्त दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि में 5 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है। लेकिन अंतिम तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर सकारात्मक दायरे में होगी। मैं भारत की संभावना और क्षमता को लेकर पूरी तरह से आशावादी हूं। उन्होंने कहा कि भारत घरेलू खपत आधारित अर्थव्यवस्था है और आने वाले महीनों में मांग बढ़ेगी।

रेटिंग: 4.14
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 828
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *