विदेशी मुद्रा क्लब

तकनीकी विश्लेषण आपको क्या बताता है

तकनीकी विश्लेषण आपको क्या बताता है
  • Head and Shoulders is considered to be one of the most reliable chart patterns which signifies that the trend is about to change. There are two types of this pattern - head and shoulders top that shows that upward movement may soon end and head and shoulders bottom, which means that downtrend is about to reverse.
  • Doji – is a candle with a short body (which means that the candle opened and closed at almost the same price) and relatively long wicks on each side that show market volatility during a period of time. Doji usually signifies market indecision since neither bullish nor bearish trend prevails.
  • Bullish hammer - a candle that usually occurs at a turn of the downtrend. This candle must have wicks twice as long as the body.
  • Hanging man - bearish counterpart of bullish hammer that has a shorter body and long wicks and is usually found at the before the reversal of the uptrend.
  • Another popular chart pattern is the triangle. There are three types of triangles: symmetrical, ascending and descending. The symmetrical triangle is a pattern where two trend lines that meet at one point and neither of them is flat. This pattern usually confirms the direction of the current trend. In an ascending triangle, the upper trendline is flat and the lower one is headed upwards. This pattern is considered to be bullish and may predict a breakout. Descending triangle has a flat lower line and the upper trendline is descending. Descending triangle is a bearish pattern signifying an upcoming breakdown.

तकनीकी विश्लेषण आपको क्या बताता है

पैसे की पाठशाला
अक्सर लोग शेयर बाजार से डरते हैं, लेकिन वास्तव में हर वह काम खतरनाक है जिसे आपको करना नहीं आता। अगर आपने कार चलाना नहीं सीखा और कार चलाने लगे तो क्या होगा? जब आप किसी भी ऐसे कारोबार में पैसा लगाते हैं, जिसकी आपको अच्छी जानकारी नहीं है, तो आप अपनी सारी पूँजी गँवा सकते हैं।

अक्सर लोग शेयर बाजार को एक निवेश या कारोबार मानते ही नहीं, वे इसे सट्टा बाजार की तरह देखते हैं। अगर आप इसे सट्टा बाजार मान कर सौदे करेंगे तो उसके परिणाम भी सट्टे की तरह ही आयेंगे। बिना जानकारी के हर कारोबार एक सट्टा ही है। लोग कुछ सीखे बिना, समय दिये बिना 100% कमाई की इच्छा रखते हैं। यह कैसे मुमकिन है? जब नजरिया ही गलत हो तो नुकसान होगा ही। लेकिन लोग इस नुकसान का दोष शेयर बाजार को देते हैं।
कैसे समझें किसी शेयर या कमोडिटी को?
किसी शेयर या कमोडिटी में निवेश और सौदे करने के लिए दो तरह से विश्लेषण किया जाता है - बुनियादी बातों (फंडामेंटल) और तकनीकी विश्लेषण (टेक्निकल एनालिसिस) के आधार पर। तकनीकी विश्लेषण किसी शेयर या कमोडिटी में आने वाली मांग और आपूर्ति को को समझने का तरीका है। जब भी किसी शेयर में एक सौदा होता है तो उसमें एक लेने वाला और एक बेचने वाला होता है। तकनीकी विश्लेषण खरीदारों और बेचने वालों की संख्या और उससे मूल्य पर होने वाले असर को समझने का तरीका है। हम सब जानते हैं कि जब मांग ज्यादा होती है तो मूल्य उपर जाता है और जब आपूर्ति ज्यादा होती है तो मूल्य नीचे आता है।
तकनीकी विश्लेषण का मनोविज्ञान
तकनीकी विश्लेषण में मनोविज्ञान की खास भूमिका है। हम जब बुनियादी तरीके से किसी कंपनी का आकलन करते हैं तो उसकी आर्थिक स्थिति, उसके कारोबार और लाभ-हानि वगैरह को देखा जाता है। लेकिन तकनीकी विश्लेषण में शेयर या कमोडिटी के केवल मूल्य के व्यवहार को देखा जाता है। इसमें यह माना जाता है कि किसी भी कंपनी के बारे में जो भी जानकारियाँ उपलब्ध हैं, उनका असर उसके शेयर के मूल्य में पहले ही आ चुका है। मतलब यह कि एक शेयर का मूल्य हर उपलब्ध जानकारी को पहले ही दर्शा रहा है।
किसी भी शेयर के मूल्य में उतार-चढ़ाव के तमाम बुनियादी कारण होते हैं, जैसे उस कंपनी की आमदनी, विश्व अर्थव्यवस्था की हालत, घरेलू अर्थव्यवस्था की हालत, ब्याज दरें, मौसम, राजनीति, अंतरराष्ट्रीय राजनीति, शेयर बाजार में आने-जाने वाली नकदी (लिक्विडिटी) की हालत वगैरह। इन सब कारणों से बाजार में काम करने वाले निवेशकों और कारोबारियों के उत्साह पर असर होता है और इसी वजह से शेयरों के मूल्य में छोटी अवधि में भी लगातार उतार-चढ़ाव चलता रहता है। छोटी अवधि में शेयरों के मूल्य पर बुनियादी बातों से कहीं ज्यादा असर धारणा और उत्साह का होता है।
लोगों के मन पर जो धारणाएँ सबसे ज्यादा असर डालती हैं, वे हैं डर और लालच। किसी भी चीज को लेने वाले के मन में लालच यह रहता है कि सस्ता मिल रहा है और डर यह रहता है कि कल यह इतना सस्ता नहीं मिलेगा। उसी समय बेचने वाले में लालच यह रहता है कि आज महंगा बिक रहा है और डर यह रहता है कि कल इस भाव पर नहीं बिकेगा। दोनों में ये भावनाएँ एक साथ काम करती हैं, जिससे एक सौदा हो जाता है। दोनों में से एक में भी डर या लालच नहीं हो तो वह सौदा नहीं हो सकता। इस सौदे के होने से भाव में उपर या नीचे की ओर जो भी बदलाव आता है, उसी के उतार चड़ाव को तकनीकी विश्लेषण में समझा जाता है। सीधे-सीधे यह किसी चीज के भाव के व्यवहार का विश्लेषण है।
कैसे काम करता है तकनीकी विश्लेषण?
सवाल है कि जो भाव निकल चुका है, उसका विश्लेषण करके क्या मिलेगा? दरअसल तकनीकी विश्लेषण इस सोच पर टिका है कि इतिहास अपने आपको दोहराता है। बाजार में भाव ऊपर-नीचे होने से भाव की कुछ खास तरह की संरचनाएँ (प्राइस पैटर्न) बनती हैं और ये संरचनाएँ बार-बार अपने आप को दोहराती हैं। अगर कभी कोई खास संरचना बनने पर भाव गिर जाता है तो अगली बार किसी और शेयर में वैसी ही संरचना बनने पर उसका भी भाव गिर जाने की काफी संभावना होती है।
आप किसी किसान से पूछें कि बारिश आने वाली है या नहीं तो वह सरल तरीके से आसमान में देखेगा और बादलों को देख कर, या हवा में नमी को महसूस करके आपको लगभग सही-सही बता देगा कि बारिश आने वाली है या नहीं। वह किसान भी एक तरह से तकनीकी विश्लेषण का इस्तेमाल कर रहा है, भले ही उसे इसका नाम तक नहीं पता। उस किसान का अनुभव उसे बताता है कि बारिश होने से पहले बादल कैसे होते हैं, हवा की गति कैसी होती है, हवा में नमी कैसी होती है। वह अनुभव उसे मिलता है सालों से बार-बार बारिश के पहले की संरचनाओं को समझ कर।
ऐसे ही आप किसी तकनीकी विश्लेषक से किसी शेयर के बारे में पूछेंगे तो वह उसकी कीमत का चार्ट देखेगा और उसमें बनती संरचनाओं के आधार पर आगे का अनुमान लगायेगा। मतलब यह है कि तकनीकी विश्लेषण किसी शेयर या कमोडिटी की कीमतों के पिछले व्यवहार को पैमाना बना कर भविष्य का अंदाजा लगाने के एक सुविचारित अध्ययन का नाम है।
जिंदगी में हर जगह है तकनीकी विश्लेषण
यह कोई ऐसी चीज नहीं है जिसका आपका इस्तेमाल न करते हों। सिर्फ आपको इसका नाम नहीं पता। एक पति अपनी पत्नी के ऐतिहासिक व्यवहार को पैमाना बना कर ही उससे आज व्यवहार करता है। वह जानता है कि पिछली बार किसी खास परिस्थिति में किसी बात का परिणाम क्या हुआ था। अगर वैसी ही परिस्थिति आज फिर आयी है तो अपने पुराने अनुभव से वह जानता है कि आज क्या करना है! वह भी ऐतिहासिक व्यवहार को आधार बना कर भविष्य का अनुमान लगा रहा है, यानी एक तरह से तकनीकी विश्लेषण का ही सहारा ले रहा है।
बच्चे अपने माँ-बाप के साथ, अधिकारी अपने अधीन काम करने वालों के साथ, प्रेमी प्रेमिका के साथ, गुरु शिष्य के साथ, खिलाड़ी दूसरे खिलाड़ी के साथ, हर समय इसी का इस्तेमाल करते हैं। वे एक-दूसरे के ऐतिहासिक व्यवहार का विश्लेषण करके भविष्य की संभावनाओं का अंदाजा लगाते हैं। समय के साथ उनका विश्लेषण सटीक होता जाता और उसके साथ ही उनका अंदाजा सही होने लगता है। कभी-कभी आपकी सोची हुई संभावना के हिसाब से काम नहीं होता। तब आपको लगता है कि आपका अंदाजा गलत हो गया और आप उसके हिसाब से अपना व्यवहार बदल लेते हैं। तकनीकी विश्लेषण में यही बात घाटा काटने के स्तर (स्टॉप लॉस) की तरह से दिखती है।
चतुर पैसे के पैरों की छाप
यह मान कर चलें कि जिस समय आप बाजार में खरीद-बिक्री कर रहे होते हैं, बिल्कुल उसी समय आपसे कहीं ज्यादा चतुर और ज्यादा बड़ी पूँजी ले कर चलने वाला निवेशक भी इस बाजार में मौजूद होता है। उस चतुर निवेशक या चतुर पैसे (स्मार्ट मनी) की जानकारी, सूचनाओं और पूँजी का स्तर आपसे कहीं ज्यादा है। उस चतुर पैसे का आकर इतना बड़ा होता है कि उसकी आने और जाने के पदचिह्न देखे जा सकते हैं। अगर आप उसके पैरों की छाप को पहचानते हैं तो उस चतुर पैसे का भावों पर असर साफ देख सकते हैं। आप कई बार देखते हैं कि जब किसी कंपनी के नतीजे अच्छे नहीं आते तो उसके शेयर का भाव नतीजे आने से पहले ही गिर चुका होता है। चतुर पैसे को पहले से यह अहसास होता है कि नतीजे अच्छे नहीं आने वाले, इसलिए वह उस शेयर से पहले ही बाहर निकल जाता है।
तकनीकी विश्लेषण की मदद से आप जान सकते हैं कि वह चतुर पैसा किधर जा रहा है और कहाँ से बाहर हो रहा है। अगर आप उस चतुर पैसे के पीछे चलेंगे तो नुकसान का जोखिम कम होगा।
उस चतुर पैसे का कोई नाम नहीं है। वह कोई म्यूचुअल फंड, कोई बैंक, कोई बीमा कंपनी, कोई हेज फंड, कोई बड़ा निवेशक, कोई विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) - कोई भी हो सकता है। तकनीकी विश्लेषण में उसका नाम जानने की जरूरत भी नहीं है। लेकिन उसका काम दिखाई देता है।
उस चतुर पैसे के बहाव की दिशा को देख कर आप बाजार की चाल का अंदाजा लगा सकते हैं। वह चतुर पैसा जब किसी शेयर में निवेश करता है या उससे बाहर निकलता है तो उस शेयर के भाव पर एक बड़ा असर छोड़ जाता है। उस भाव का विश्लेषण करके एक तकनीकी विश्लेषक उस शेयर को खरीदने या बेचने का फैसला कर सकता है।

तकनीकी विश्लेषण के लिए गाइड

तकनीकी विश्लेषण मूल्य और मात्रा सहित ऐतिहासिक बाजार डेटा का अध्ययन है। बाजार मनोविज्ञान, व्यवहार अर्थशास्त्र और मात्रात्मक विश्लेषण से अंतर्दृष्टि का उपयोग करते हुए, तकनीकी विश्लेषकों का लक्ष्य भविष्य के बाजार व्यवहार की भविष्यवाणी करने के लिए पिछले प्रदर्शन का उपयोग करना है। तकनीकी विश्लेषण के दो सबसे सामान्य रूप चार्ट पैटर्न और तकनीकी (सांख्यिकीय) संकेतक हैं।

चाबी छीन लेना

  • तकनीकी विश्लेषण भविष्य के मूल्य आंदोलनों की भविष्यवाणी करने का प्रयास करता है, जिससे व्यापारियों को लाभ कमाने के लिए आवश्यक जानकारी मिलती है।
  • ट्रेडर्स संभावित ट्रेडों के लिए प्रवेश और निकास बिंदुओं की पहचान करने के लिए चार्ट में तकनीकी विश्लेषण उपकरण लागू करते हैं।
  • तकनीकी विश्लेषण की एक अंतर्निहित धारणा यह है कि बाजार ने सभी उपलब्ध सूचनाओं को संसाधित किया है और यह मूल्य चार्ट में परिलक्षित होता है।

तकनीकी विश्लेषण आपको क्या बताता है?

तकनीकी विश्लेषण विभिन्न रणनीतियों के लिए एक कंबल शब्द है जो एक शेयर में मूल्य कार्रवाई की व्याख्या पर निर्भर करता है। अधिकांश तकनीकी विश्लेषण यह निर्धारित करने पर केंद्रित है कि वर्तमान प्रवृत्ति जारी रहेगी या नहीं, और यदि नहीं, तो यह रिवर्स हो जाएगा। कुछ तकनीकी विश्लेषक ट्रेंडलाइन द्वारा कसम खाते हैं, अन्य लोग कैंडलस्टिक संरचनाओं का उपयोग करते हैं, और फिर भी अन्य गणितीय दृश्य के माध्यम से निर्मित बैंड और बक्से पसंद करते हैं। अधिकांश तकनीकी विश्लेषक ट्रेडों के लिए संभावित प्रवेश और निकास बिंदुओं को पहचानने के लिए उपकरणों के कुछ संयोजन का उपयोग करते हैं। एक चार्ट गठन एक छोटे विक्रेता के लिए एक प्रवेश बिंदु का संकेत दे सकता है, उदाहरण के लिए, लेकिन व्यापारी अलग-अलग समय अवधि के लिए चलती औसत पर गौर करेगा कि यह पुष्टि करने के लिए कि एक टूटने की संभावना है।

तकनीकी विश्लेषण का एक संक्षिप्त इतिहास

स्टॉक और रुझानों के तकनीकी विश्लेषण का उपयोग सैकड़ों वर्षों से किया गया है।यूरोप में, जोसेफ डी ला वेगा ने 17 वीं शताब्दी में डच बाजारों की भविष्यवाणी करने के लिए प्रारंभिक तकनीकी विश्लेषण तकनीकों को अपनाया।अपने आधुनिक रूप में, हालांकि, तकनीकी विश्लेषण मेंचार्ल्स डॉव, विलियम पी। हैमिल्टन, रॉबर्ट रिया, एडसन गोल्ड, औरकई अन्य लोगों का नाम है, जो निकोलस दरवास नाम के एक बॉलरूम डांसर थे।इन लोगों ने एक ज्वार के रूप में बाजार पर एक नए दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व किया जो कि अंतर्निहित कंपनी के विवरणों के बजाय चार्ट पर उच्च और चढ़ाव में सबसे अच्छा मापा जाता है।शुरुआती तकनीकी विश्लेषकों के सिद्धांतों के विविध संग्रह को एक साथ लाया गया और 1948 मेंरॉबर्ट डी। एडवर्ड्स और जॉन मैगी द्वारास्टॉक ट्रेंड्स केतकनीकी विश्लेषण के प्रकाशन के साथ औपचारिक रूप दिया गया ।

कैंडलस्टिक पैटर्न जापानी व्यापारियों के लिए अपने चावल की फसल के लिए व्यापारिक पैटर्न का पता लगाने के लिए उत्सुक हैं। इन प्राचीन प्रतिमानों का अध्ययन 1990 के दशक में अमेरिका में इंटरनेट डे ट्रेडिंग के आगमन के साथ लोकप्रिय हुआ। ट्रेडरों की सिफारिश करते समय निवेशकों ने उपयोग के लिए नए पैटर्न की खोज के लिए ऐतिहासिक स्टॉक चार्ट का विश्लेषण किया। विशेष रूप से कैंडलस्टिक रिवर्सल पैटर्न निवेशकों की पहचान करने के लिए गंभीर रूप से महत्वपूर्ण हैं, और कई अन्य आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले कैंडलस्टिक चार्टिंग पैटर्न हैं। Doji और engulfing पैटर्न सभी एक आसन्न मंदी उत्क्रमण भविष्यवाणी करने के लिए किया जाता है।

तकनीकी विश्लेषण का उपयोग कैसे करें

तकनीकी विश्लेषण का मूल सिद्धांत यह है कि बाजार मूल्य उन सभी उपलब्ध सूचनाओं को दर्शाता है जो बाजार को प्रभावित कर सकती हैं। परिणामस्वरूप, आर्थिक, मौलिक या नए विकास को देखने की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि वे पहले से ही एक सुरक्षा में दिए गए हैं। तकनीकी विश्लेषकों का आम तौर पर मानना ​​है कि कीमतें रुझान में होती हैं और जब बाजार के समग्र मनोविज्ञान की बात आती है तो इतिहास खुद को दोहराता है। तकनीकी विश्लेषण के दो प्रमुख प्रकार चार्ट पैटर्न और तकनीकी (सांख्यिकीय) संकेतक हैं।

चार्ट पैटर्न तकनीकी विश्लेषण का एक व्यक्तिपरक रूप है जहां तकनीशियन विशिष्ट पैटर्न को देखकर चार्ट पर समर्थन और प्रतिरोध के क्षेत्रों की पहचान करने का प्रयास करते हैं । मनोवैज्ञानिक कारकों के आधार पर इन पैटर्न को यह अनुमान लगाने के लिए डिज़ाइन किया गया है कि एक विशिष्ट मूल्य बिंदु और समय से ब्रेकआउट या ब्रेकडाउन के बाद कीमतें कहाँ पर हैं। उदाहरण के लिए, एक आरोही त्रिकोण चार्ट पैटर्न एक तेजी चार्ट पैटर्न है जो प्रतिरोध का एक प्रमुख क्षेत्र दिखाता है। इस प्रतिरोध से एक ब्रेकआउट एक महत्वपूर्ण, उच्च-मात्रा में उच्चतर हो सकता है।

तकनीकी संकेतक तकनीकी विश्लेषण का एक सांख्यिकीय रूप हैं जहां तकनीशियन कीमतों और संस्करणों के लिए विभिन्न गणितीय सूत्र लागू करते हैं। सबसे आम तकनीकी संकेतक औसत चल रहे हैं, जो चिकनी कीमत डेटा को ट्रेंड स्पॉट करने में आसान बनाने में मदद करते हैं। अधिक जटिल तकनीकी संकेतकों में चलती औसत अभिसरण विचलन (एमएसीडी) शामिल है, जो कई चलती औसत के बीच परस्पर क्रिया को देखता है। कई ट्रेडिंग सिस्टम तकनीकी संकेतकों पर आधारित होते हैं क्योंकि उन्हें मात्रात्मक रूप से गणना की जा सकती है।

तकनीकी विश्लेषण और मौलिक विश्लेषण के बीच अंतर

मौलिक विश्लेषण और तकनीकी विश्लेषण वित्त में दो बड़े गुट हैं। जबकि तकनीकी विश्लेषकों का मानना ​​है कि सबसे अच्छा दृष्टिकोण प्रवृत्ति का पालन करना है क्योंकि यह बाजार की कार्रवाई के माध्यम से बनता है, मौलिक विश्लेषकों का मानना ​​है कि बाजार अक्सर मूल्य को अनदेखा करता है। फंडामेंटल एनालिस्ट बैलेंस शीट के माध्यम से खुदाई के पक्ष में चार्ट रुझानों की अनदेखी करेंगे और आंतरिक मूल्य की तलाश में किसी कंपनी के बाजार प्रोफाइल को वर्तमान में कीमत में प्रतिबिंबित नहीं करेंगे। सफल निवेशकों के कई उदाहरण हैं जो अपने व्यापार का मार्गदर्शन करने के लिए मौलिक और तकनीकी विश्लेषण का उपयोग करते हैं और यहां तक ​​कि उन दोनों के तत्वों को शामिल करते हैं। कुल मिलाकर, हालांकि, तकनीकी विश्लेषण खुद को तेजी से निवेश की गति के लिए उधार देता है, जबकि मौलिक विश्लेषण में आम तौर पर एक अतिरिक्त समय परिश्रम के लिए आवश्यक समय के आधार पर लंबी अवधि और होल्डिंग अवधि होती है।

तकनीकी विश्लेषण की सीमाएं

तकनीकी विश्लेषण में विशेष ट्रेड ट्रिगर्स के आधार पर किसी भी रणनीति की समान सीमा होती है। चार्ट की गलत व्याख्या की तकनीकी विश्लेषण आपको क्या बताता है जा सकती है। कम मात्रा पर गठन की भविष्यवाणी की जा सकती है। चलती औसत के लिए उपयोग की जा रही अवधि आपके द्वारा किए जा रहे व्यापार के प्रकार के लिए बहुत लंबी या बहुत कम हो सकती है। उन लोगों को छोड़कर, स्टॉक और रुझानों के तकनीकी विश्लेषण में खुद के लिए एक आकर्षक सीमा है।

जैसा कि अधिक तकनीकी विश्लेषण रणनीतियों, उपकरण और तकनीक व्यापक रूप से अपनाई जाती हैं, इनका मूल्य कार्रवाई पर एक सामग्री प्रभाव पड़ता है। उदाहरण के लिए, क्या वे तीन काले कौवे बन रहे हैं क्योंकि कीमत की जानकारी एक मंदी के उलट का औचित्य साबित कर रही है या क्योंकि व्यापारी सार्वभौमिक रूप से सहमत हैं कि उन्हें एक मंदी से उलट होना चाहिए और छोटे पदों को लेने के बारे में लाना चाहिए? हालांकि यह एक दिलचस्प सवाल है, एक सच्चे तकनीकी विश्लेषक वास्तव में तब तक परवाह नहीं करते हैं जब तक कि ट्रेडिंग मॉडल काम करना जारी रखता है।

अग्रिम पठन:

इन्वेस्टोपेडिया में तकनीकी विश्लेषण के विषय पर कई लेख और ट्यूटोरियल हैं। इस पृष्ठ के बाईं ओर मेनू पट्टी पर इस यात्रा में लेख के लिंक का पालन करें। इसके अलावा, आगे पढ़ने के लिए आप निम्नलिखित की जांच कर सकते हैं:

Technical analysis

Technical analysis is a method of price forecasting that involves pattern recognition on a chart. Analysts employ various tools to identify levels of support and resistance, breakouts and breakdowns, trends and trading ranges. Knowing the strategies basics, one can likely find oneself able to implement some of the key elements into a self-designed strategy.

Charts

A chart is a graphic representation of how the price changes within the set period of time. In almost any trading platform you will find candlestick, bar and line chart types. All three are based on the same data but display them in different ways.

  • Line chart is a simple and basic type that only shows closing prices.
  • On the bar chart you can observe open, high, low and closing prices for each period of time. The vertical line is created by high and low prices, the dash on the left shows the open price and the dash on the right represents the close price.
  • Perhaps the most popular type, candlestick chart shows open, high, low and closing prices during the set period of time as well. Each candlestick consists of the “body” created by open and closing prices and the “wicks” that show high and low prices for each period. This type of chart is usually displayed in two different colours - one represents bullish candlesticks while the other represents bearish. Bullish candlestick means that close price was higher than open price while bearish candlestick represents the opposite - close price was lower than open price.

Forex Line - Bar - Candlestick charts

Note, however, that all of the charts described above show bid price only and you should not rely on them to identify where the ask price was at any given time.

Timeframes

Time frame denotes तकनीकी विश्लेषण आपको क्या बताता है the amount of time it takes to complete each candle or bar and how much data it includes. For example, time frame H1 shows how much the bid price fluctuated within an hour. You can customize time frame for each chart in your trading platform.

In general, shorter times frames are believed to produce more signals, however a significant part of them tends to be false. In contrast, longer time frames may provide relatively less signals but they will be stronger and more significant for a particular trend.

Here is how the same price data look when you change periodicity:

Timeframes in Forex trading platform

Trend

Identifying the trend or the direction the market moves towards is one of the basic techniques in the analysis. Occasionally it can be determined by simply looking at the chart. Other cases will require more profound analysis of the price data.

There are two major types of market trends:

  • Uptrend - a series of escalating highs and lows;
  • Downtrend - a series of lower highs and lower lows on chart.

A lack of any particular direction is occasionally referred as to sideways or horizontal trend.

Forex trends

To identify a trend you can simply draw a straight line in the direction of the price moves on a chart. "Trend lines" are available in almost every trading platform and may be considered one of the beginner-friendly technical analysis tools. Another option is a technical indicator that can determine and display a trend when added to a chart.तकनीकी विश्लेषण आपको क्या बताता है

Support and resistance

Finding support and resistance levels allows to determine when and in which direction should a position be opened and the potential profit or loss may be. Support is the price level which an asset has difficulty going below and resistance denotes the level which the pair has a difficulty rising above. These levels, however, do not always hold and a "breakout" or a “breakdown” occasionally occurs in one direction or another.

Support and resistance levels form a trading range - a horizontal corridor that contains price fluctuations during a period of time.

Technical analysis: Support and Resistance levels

A price movement through the identified level of resistance is referred to as breakout. Its bearish counterpart is called breakdown - a price movement through the identified level of support. Both breakout and breakdown are usually followed by increase in volatility.

To identify support and resistance you can simply mark the levels where the price had difficulty rising above and falling below in the past. Various technical indicators (i.e. Fibonacci or Pivot Points) can determine and draw the levels on the chart automatically.

Chart patterns

Chart pattern is a distinct formation that predicts future price movement or creates a buy or sell signal. The theory behind it is basedon the assumption that certain patterns observed previously indicate where the price is currently headed.

  • Head and Shoulders is considered to be one of the most reliable chart patterns which signifies that the trend is about to change. There are two types of this pattern - head and shoulders top that shows that upward movement may soon end and head and shoulders bottom, which means that downtrend is about to reverse.
  • Doji – is a candle with a short body (which means that the candle opened and closed at almost the same price) and relatively long wicks on each side that show market volatility during a period of time. Doji usually signifies market indecision since neither bullish nor bearish trend prevails.
  • Bullish hammer - a candle that usually occurs at a turn of the downtrend. This candle must have wicks twice as long as the body.
  • Hanging man - bearish counterpart of bullish hammer that has a shorter body and long wicks and is usually found at the before the reversal of the uptrend.
  • Another popular chart pattern is the triangle. There are three types of triangles: symmetrical, ascending and descending. The symmetrical triangle is a pattern where two trend lines that meet at one point and neither of them is flat. This pattern usually confirms the direction of the current trend. In an ascending triangle, the upper trendline is flat and the lower one is headed upwards. This pattern is considered to be bullish and may predict a breakout. Descending triangle has a flat lower line and the upper trendline is descending. Descending triangle is a bearish pattern signifying an upcoming breakdown.

Indicators

One of the tools that allows to predict or confirm trends, patterns, support and resistance levels or buy and sell signals is a technical indicator. It is a software developed specifically for your trading platform that makes calculations based on price movements and volatility. Both cTrader and MT4 have a wide range of readily available indicators, however you can always download a custom one or even create it yourself.

Simply adding an indicator to a price chart may greatly extend your understanding of the current market situation and help to decide in which direction you should be trading. For instance, to identify support and resistance levels, such indicators as तकनीकी विश्लेषण आपको क्या बताता है Fibonacci or Pivot Points may come in handy. Momentum indicator will help you to measure the rate of price change and Zig Zag can be used to predict when the trend will be more likely to reverse.

To learn more on how indicators can be installed and customized, please check instructions for MT4 or cTrader in our Manuals section.

तकनीकी विश्लेषण का परिचय

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

Please take quiz to earn badge

Please take quiz to earn badge

शैक्षिक सामग्री का एक पूरा भंडार जो निवेशकों और व्यापारियों को शेयर बाजारों की बारीकियों को समझने में मदद करता है

  • हमारे बारे में
  • मदद/अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न
  • साइट मैप
  • आलेख जानकारी
  • गोपनीयता नीति
  • नियम एवं शर्तें

'प्रतिभूति बाजार में निवेश बाजार जोखिम के अधीन हैं, निवेश करने से पहले सभी संबंधित दस्तावेजों को ध्यान से पढ़ें।'

स्मार्ट मनी एक शैक्षिक मंच है। एंजेल वन ने निवेश और व्यापार पर सैद्धांतिक अवधारणाओं को कवर करने के लिए लघु पाठ्यक्रम बनाए हैं। ये किसी भी तरह से संकेत नहीं हैं या बाजारों में मूल्य आंदोलन की भविष्यवाणी करने का प्रयास नहीं करते हैं। इसलिए सभी छात्रों को केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए पाठ्यक्रम सामग्री पर विचार करना चाहिए और उल्लिखित किसी भी उदाहरण, गणना या वास्तविक दुनिया की संस्थाओं को एंजेल वन के शोध विचारों या निवेश राय का संकेत या प्रतिनिधित्व नहीं माना जाना चाहिए।

स्मार्ट मनी विशेष रूप से शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है और निवेश पर कोई सलाह/सुझाव प्रदान नहीं करता है या किसी भी स्टॉक को खरीदने और बेचने की सिफारिश नहीं करता है। स्मार्ट मनी एक्सचेंज ट्रेडेड उत्पाद नहीं है और इससे संबंधित किसी भी विवाद को एक्सचेंज प्लेटफॉर्म पर नहीं निपटाया जाएगा।

हम आपसे संपर्क करने के लिए और आपको हमारे उत्पादों और सेवाओं के बारे में जानकारी और नवीनतम अपडेट प्रदान करने के लिए केवल वैध व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए आपकी संपर्क जानकारी एकत्र करते हैं, बनाए रखते हैं और उपयोग करते हैं। हम आपकी संपर्क जानकारी को तीसरे पक्ष को बेचते या किराए पर नहीं देते तकनीकी विश्लेषण आपको क्या बताता है हैं। कृपया ध्यान दें कि उपरोक्त विवरण जमा करके, आप हमें कॉल/एसएमएस करने के लिए अधिकृत कर रहे हैं, भले ही आप डीएनडी के तहत पंजीकृत हों। हम आपको 12 महीने की अवधि के लिए कॉल/एसएमएस करेंगे।

एंजेल वन लिमिटेड (जिसे पहले एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड के नाम से जाना जाता था), पंजीकृत कार्यालय: जी -1, आकृति ट्रेड सेंटर, रोड नंबर 7, एमआईडीसी, अंधेरी (ई), मुंबई - 400 093। सीआईएन: एल 67120 एमएच1996पीएलसी 101709, सेबी रेग। नंबर: INZ000161534-BSE कैश/F&O/CD (सदस्य आईडी: 612), NSE कैश/F&O/CD (सदस्य आईडी: 12798), MSEI कैश/F&O/CD(सदस्य आईडी: 10500), MCX कमोडिटी डेरिवेटिव्स (सदस्य आईडी) : 12685) और एनसीडीईएक्स कमोडिटी डेरिवेटिव्स (सदस्य आईडी: 220), सीडीएसएल पंजीकरण। संख्या: IN-DP-384-2018, PMS Regn। नंबर: INP000001546, रिसर्च एनालिस्ट SEBI Regn। नंबर: INH000000164, निवेश सलाहकार SEBI Regn। नंबर: INA000008172, AMFI Regn। संख्या: एआरएन-77404, पेर्डा पंजीकरण संख्या 19092018। अनुपालन अधिकारी: सुश्री ऋचा घोष।

किसी भी प्रश्न के लिए, कृपया नीचे दिए गए विवरण पर हमसे संपर्क करें 080-47480048
[email protected]

तकनीकी विश्लेषण का परिचय

ज्ञान की शक्ति का क्रिया में अनुवाद करो। मुफ़्त खोलें* डीमैट खाता

के साथ व्यापार करने के लिए तैयार?

Please take quiz to earn badge

Please take quiz to earn badge

शैक्षिक सामग्री का एक पूरा भंडार जो निवेशकों और व्यापारियों को शेयर बाजारों की बारीकियों को समझने में मदद करता है

  • हमारे बारे में
  • मदद/अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न
  • साइट मैप
  • आलेख जानकारी
  • गोपनीयता नीति
  • नियम एवं शर्तें

'प्रतिभूति बाजार में निवेश बाजार जोखिम के अधीन हैं, निवेश करने से पहले सभी संबंधित दस्तावेजों को ध्यान से पढ़ें।'

स्मार्ट मनी एक शैक्षिक मंच है। एंजेल वन ने निवेश और व्यापार पर सैद्धांतिक अवधारणाओं को कवर करने के लिए लघु पाठ्यक्रम बनाए हैं। ये किसी भी तरह से संकेत नहीं हैं या बाजारों में मूल्य आंदोलन की भविष्यवाणी करने का प्रयास नहीं करते हैं। इसलिए सभी छात्रों को केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए पाठ्यक्रम सामग्री पर विचार करना चाहिए और उल्लिखित किसी भी उदाहरण, गणना या वास्तविक दुनिया की संस्थाओं को एंजेल वन के शोध विचारों या निवेश राय का संकेत या प्रतिनिधित्व नहीं माना जाना चाहिए।

स्मार्ट मनी विशेष रूप से शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है और निवेश पर कोई सलाह/सुझाव प्रदान नहीं करता है या किसी भी स्टॉक को खरीदने और बेचने की सिफारिश नहीं करता है। स्मार्ट मनी एक्सचेंज ट्रेडेड उत्पाद नहीं है और इससे संबंधित किसी भी विवाद को एक्सचेंज प्लेटफॉर्म पर नहीं निपटाया जाएगा।

हम आपसे संपर्क करने के लिए और आपको हमारे उत्पादों और सेवाओं के बारे में जानकारी और नवीनतम अपडेट प्रदान करने के लिए केवल वैध व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए आपकी संपर्क जानकारी एकत्र करते हैं, बनाए रखते हैं और उपयोग करते हैं। हम आपकी संपर्क जानकारी को तीसरे पक्ष को बेचते या किराए पर नहीं देते हैं। कृपया ध्यान दें तकनीकी विश्लेषण आपको क्या बताता है कि उपरोक्त विवरण जमा करके, आप हमें कॉल/एसएमएस करने के लिए अधिकृत कर रहे हैं, भले ही आप डीएनडी के तहत पंजीकृत हों। हम आपको 12 महीने की अवधि के लिए कॉल/एसएमएस करेंगे।

एंजेल वन लिमिटेड (जिसे पहले एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड के नाम से जाना जाता था), पंजीकृत कार्यालय: जी -1, आकृति ट्रेड सेंटर, रोड नंबर 7, एमआईडीसी, अंधेरी (ई), मुंबई - 400 093। सीआईएन: एल 67120 एमएच1996पीएलसी 101709, सेबी रेग। नंबर: INZ000161534-BSE कैश/F&O/CD (सदस्य आईडी: 612), NSE कैश/F&O/CD (सदस्य आईडी: 12798), MSEI कैश/F&O/CD(सदस्य आईडी: 10500), MCX कमोडिटी डेरिवेटिव्स (सदस्य आईडी) : 12685) और एनसीडीईएक्स कमोडिटी डेरिवेटिव्स (सदस्य आईडी: 220), सीडीएसएल पंजीकरण। संख्या: IN-DP-384-2018, PMS Regn। नंबर: INP000001546, रिसर्च एनालिस्ट SEBI Regn। नंबर: INH000000164, निवेश सलाहकार SEBI Regn। नंबर: INA000008172, AMFI Regn। संख्या: एआरएन-77404, पेर्डा पंजीकरण संख्या 19092018। अनुपालन अधिकारी: सुश्री ऋचा घोष।

किसी भी प्रश्न के लिए, कृपया नीचे दिए गए विवरण पर हमसे संपर्क करें 080-47480048
[email protected]king.com

रेटिंग: 4.56
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 847
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *