लाभदायक ट्रेडिंग के लिए संकेत

पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें

पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें
निवेश कहाँ करें

पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

We'd love to hear from you

We are always available to address the needs of our users.
+91-9606800800

पर्सनल फाइनेंस: सिर्फ टैक्स या पैसे बचाने के लिए निवेश करना गलत, इन बातों को अपनाकर कमा सकते हैं ज्यादा मुनाफा

अनुशासित और सही निवेश आपको बिना कर्ज के जाल में फंसे धन बनाने और भविष्य की वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करता है। विशेषज्ञों के अनुसार जैसे ही इनकम शुरू हो वैसे ही इन्वेस्टमेंट शुरू कर देना चाहिए। आज बाजार में निवेश के लिए स्टॉक, यूनिट-लिंक बीमा योजना, बॉन्ड, फिक्स्ड डिपॉजिट, RD , म्यूचुअल फंड और नेशनल पेंशन सिस्टम सहित कई ऑप्शन उपलब्ध हैं। ऐसे में निवेश के लिए कोई भी स्कीम को चुनने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

सिर्फ टैक्स या पैसे बचाने के लिए निवेश करना गलत
हमारे देश में निवेश को सीधे टैक्स बचाने या पैसों की बचत से जोड़ा जाता है और निवेश करने के लिए कोई उद्देश्य या लक्ष्य निर्धारित नहीं किए जाते हैं। इस कारण ज्यादातर लोगों को अपने पैसों पर उतना रिटर्न नहीं मिल पाता है जितना मिलना चाहिए। कई लोग टैक्स बचने के लिए जल्दबाजी में कहीं भी निवेश कर देते हैं, जो गलत है। आज कल टैक्स सेविंग के लिए भी बाजार में कई विकल्प मौजूद हैं, इसीलिए निवेश करने से पहले उपलब्ध सभी विकल्पों की ठीक से तुलना करनी चाहिए।

ज्यादा लम्बे लक्ष्य की बजाए छोटे-छोटे लक्ष्य बनाएं
कभी भी बहुत ज्यादा समय के लिए या बड़े-बड़े लक्ष्य बनाने से बचना चाहिए। बड़े लक्ष्य को छोटे-छोटे हिस्सों में बांटना चाहिए। इससे आप अपने निवेश की सही से निगरानी भी कर सकेंगे। और मान लीजिए अगर आपका निवेश सही रिटर्न नहीं दे रहा है तो, आप कुछ समय बाद उसके मैच्योर होने पर उसे कहीं और निवेश कर सकते हैं।

जल्द से जल्द शुरू करें निवेश
निवेश शुरू करने का सबसे सही समय वही है जब आपकी इनकम शुरू हो जाए। जैसे ही आपकी आमदनी शुरू हो आपको अपनी कैपेसिटी के हिसाब से निवेश शुरू कर देना चाहिए। क्योंकि कोरोना काल ने लोगों को सीखा दिया है कि बुरे वक्त में आपकी सेविंग ही आपके काम आती है, इसीलिए जल्द से जल्द निवेश के शुरुआत करना सही रहता है।

एक ही जगह न लगाएं पूरा पैसा
कभी भी अपना पूरा पैसा एक ही जगह निवेश नहीं करना चाहिए। आपको अपने पोर्टफोलियो में विविधता रखनी चाहिए, क्योंकि जरूरी नहीं कि आपने जहां पैसा लगाया है वो आपको रिटर्न दे ही। मान लीजिए आप दो जगह 100-100 रुपए निवेश करते हैं। पहले से आपको 10% का रिटर्न मिला और दूसरी जगह से 5% का नुकसान हुआ। तो ऐसे में भी आप फायदे में ही रहेंगे। वहीं अगर पहले से आपको 10% का नुकसान और दूसरी जगह से 5% का फायदा हुआ। तो ऐसे में भी दूसरी जगह से हुआ फायदा आपके नुकसान को कम कर देगा।

निवेश अवधि का रखें ध्यान
आप कितने समय के लिए अपना पैसा निवेश करना चाहते हैं या कर सकते हैं, इस बात का विशेष ध्यान रखें। क्योंकि कई सेविंग स्कीम और योजनाएं लॉक इन पीरियड के साथ आती हैं। यानी इस पीरियड में आप अपना निवेश किया हुआ पैसा नहीं निकाल सकेंगे। इसीलिए इस बात का विशेष ध्यान रखें कि आप जहां निवेश कर रहे हैं उसमें लॉक इन पीरियड तो नहीं हैं और अगर है तो कितना है।

निवेश विकल्पों की ठीक से तुलना करना जरूरी
आपकी एक गलती आपकी सालों की कमाई बर्बाद कर सकती है। ऐसे में पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें कहीं भी पैसा लगाने से पहले निवेश विकल्पों की तुलना ठीक से करना चाहिए। आपको देखना चाहिए कि किस स्कीम या योजना ने बीते सालों में कितना रिटर्न दिया हैं और यहां निवेश करना सुरक्षित है या नहीं।

Station Guruji

रिपोर्टर पूरी बात बता रहे थे पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें कि शिवकुमार में अपना पैसा वहां निवेश किया जहां उन्हें कुछ ज्यादा जानकारी नहीं थी। साथ ही गलत दोस्तों के साथ उन्होंने कई गलत आदतों को सीख ली। जिसके कारण उनका करोड़ रुपया बर्बाद हो गया और आज दूध बेचकर गुजारा कर रहे हैं।

दोस्तों यह महत्वपूर्ण है कि हम कितना कमाते हैं। इससे ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि हम कितना बचाते हैं और सबसे ज्यादा महत्व यह है कि हम उस बचाए हुए पैसे को कहां निवेश करते हैं।

भारतीय शिक्षा व्यवस्था की सबसे बड़ी दोष यह है कि यहां यह नहीं सिखाती है हमें पैसा किस प्रकार बचाकर और कहां का निवेश करना चाहिए। आपका प्रिय दोस्त भी रूपए पैसे या निवेश संबंधी बातें आप से नहीं करता होगा।

कोई दोस्त जो किसी इंश्योरेंस कंपनी का एजेंट होगा तो जरूर आपसे इंश्योरेंस में निवेश करने का सलाह देता होगा। जिससे उनका मोटा कमीशन मिल सके। इसके अलावा कोई भी आपका दोस्त आपको निवेश पर चर्चा नहीं करता होगा।

हम भारतीय इस पर चर्चा बहुत कम करता है। यही कारण है कि हमलोग को निवेश करना नहीं आता है। दुख की बात यह है कि अभी भी केवल 2% ही भारतीय स्टॉक मार्केट में निवेश करते हैं। बिना बचत, बिना निवेश किए हम अमीर कैसे बन सकते हैं।

बिल गेट्स की बात यह बहुत महत्वपूर्ण है कि यदि आप गरीब जन्म लिए तो यह आपका दोष नहीं है लेकिन यदि आप गरीब मर गए तो यह आपका दोष है।

निवेश कहां करें?

दोस्तों अमीर तो सभी बनना चाहते हैं। पैसे तो सभी कमाते हैं। एक व्यक्ति कर्ज में डूबा रहता है तो दूसरे इस प्रकार निवेश करते हैं उस पर पैसे की बारिश होती जाते हैं। आखिर क्या कारण है कि एक ही नौकरी, एक ही तनख्वाह, कोई तो करोड़पति बन जाता है और कोई दिवालिया। इसका मुख्य कारण है निवेश संबंधी ज्ञान।

मैं हमेशा इस बात पर जोर देता हूं कि हमारे पास जानकारी होना अति आवश्यक है। पहले जमाने में जिसके पास जितनी ज्यादा जमीन होती थी उतनी ही ज्यादा कमाता था।

कुछ समय बाद उद्योग का जमाना आया। जिसके पास जितना उद्योग है वह उतना अमीर है। आज का समय ज्ञान का पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें समय है। जिसके पास जितना ज्ञान है वह उतना कमाता है।

अपने माइंड को हमेशा ओपन रखें। दिन प्रतिदिन हर चीज बदल रही है। वह भी संचार क्रांति के बाद बहुत तेजी से बदल रहे हैं। हमें बदलते समय में अपने निवेश को हमेशा बदलते रहना चाहिए।

कुछ समय पहले लोग बैंक या डाकघर में एफडी कराते थे। आज के टाइम में जिसके पास ज्ञान है वह भी भूल कर भी एफडी नहीं कराता। रियल एस्टेट, स्टॉक मार्केट, मुचल फंड, एसआईपी जैसे निवेश के कई विकल्प हैं। आप इस पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें बारे में अच्छी तरह पढ़िए और ज्ञान लीजिए।

किसी के कहने या कुछ भी सुन लेने से कहीं भी निवेश नहीं करना चाहिए। निवेश करने से ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि उसके बारे में जानना।

स्टॉक मार्केट के जादूगर कहे जाने वाले वारेन बफेट कहते हैं कि खतरा तब उत्पन्न होती है जब हमें यह पता नहीं कि हम क्या कर रहे हैंया उस चीज में निवेश करते हैं जिसकी हमें जानकारी नहीं है।

इसलिए निवेश से महत्वपूर्ण निवेश संबंधी ज्ञान है। निवेश संबंधी ज्ञान को लेते रहें। जितना ज्ञान बढ़ेगा उतना ही आपके पैसा बढ़ेगा। पैसा तो आता है जाता है लेकिन एक बार आपको निवेश संबंधी ज्ञान प्राप्त हो गया वह कभी जाएगा नहीं।

बिना ज्ञान के पैसा मिल भी जाएगा तो बहुत जल्दी चला जाएगा। जैसे ऊपर आपको मैं एक कहानी सुशील कुमार के बारे में बताया। जिसे बिना ज्ञान का पैसा आया उसी तरह वह चला गया।

कई बार देखते या सुनते होंगे कि कोई भिखारी को लाखों की लॉटरी लग जाती है लेकिन कुछ समय बाद वह फिर से भीख मांगना शुरू कर देता है। क्योंकि उसे पैसा संबंधी कुछ जानकारी ही नहीं है।

यदि भिखारी को यह ज्ञान हो जाए कि इस पैसे को कहां निवेश करना चाहिए जिससे उसे आने वाले टाइम में पैसिव इनकम मिलता रहे तो वह दोबारा कभी भी भिख नहीं मांग सकता।

इसलिए आप कितना कमाते हैं यह महत्वपूर्ण है। महत्वपूर्ण यह है कि आपके पास कितना ज्ञान है और उस एक्टिव इनकम को आगे पैसिव इनकम में कैसे कन्वर्ट करते हैं।

स्टेशन गुरुजी

मैं स्टेशन गुरुजी आपको अच्छी-अच्छी बातें बताता रहता हूं। चाहे वह पढ़ाई लिखाई संबंधीत हो या फिर रुपए पैसे से संबंधित। आपको जब भी समय मिले दिन में 5 मिनट निकाल कर निवेश संबंधी ज्ञान लेते रहे।

गूगल पर जाए पैसे रुपए संबंधी कोई भी सवाल पूछे उसके पीछे स्टेशन गुरुजी लिख दे या बोल दे। आपके सामने जानकारी आ जाएगी। आप उसे पढ़ सकते हैं।

काम की बात: गाढ़ी कमाई को सोच समझकर करें निवेश, जहां सुरक्षा के साथ मिले ज्यादा रिटर्न

भाग-दौड़ की जिंदगी में हर कोई अपना पैसा वहां लगाना चाहता है, जहां उसे सुरक्षा के साथ ज्यादा रिटर्न भी मिल सके। हालांकि, कई बार ज्यादा फायदे के लालच में लोग ऐसी स्कीम में निवेश कर देते हैं, जहां उनके पैसे पर जोखिम ज्यादा रहता है। ऐसे में रिटर्न के साथ सुरक्षित निवेश का पूरा गणित बताती अजीत सिंह की रिपोर्ट-

निवेश (सांकेतिक तस्वीर)

हाल के वर्षों में आपने शारधा घोटाला और पीएसीएल जैसी तमाम कंपनियों के नाम सुने होंगे जो रातों-रात आती हैं और दोगुना करने या ज्यादा ब्याज का लालत देकर पैसे वसूलती हैं। कुछ दिन तक कंपनियां निवेशकों को पैसा तो देती हैं, पर जब यह ज्यादा पैसा जुटा पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें लेती हैं तो फिर रातों-रात फरार हो जाती हैं। इनसे बचने के साथ सुरक्षित निवेश के लिए आप फिक्स्ड डिपॉजिट, म्यूचुअल फंड, किसान विकास पत्र या फिर अन्य सरकारी साधनों में निवेश कर सकते हैं, जहां बेहतर रिटर्न मिलता है।

कितना रिटर्न ठीक होता है?
निवेश पर रिटर्न को महंगाई के हिसाब से देखना चाहिए। आज महंगाई दर 6% है। इसलिए उन योजनाओं में निवेश करें, जहां से सालाना 10 फीसदी रिटर्न मिल सके।

  • 6 फीसदी का रिटर्न तो आपको महंगाई से पीछा छुड़ाने के लिए चाहिए और फिर कम से कम 4 फीसदी रकम आपके पास बचनी चाहिए।
  • कभी भी ब्याज की दर महंगाई से 4 फीसदी ज्यादा होनी चाहिए। इसके लिए किसी एक योजना के बदले कई साधनों में निवेश करना चाहिए।
  • 14 फीसदी तक मिला औसत रिटर्न हर पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें साल एसआईपी में निवेश पर पिछले कुछ वर्षों में

बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट : पसंदीदा निवेश
यह पुराने जमाने से निवेश का पसंदीदा साधन है। ऐसा इसलिए क्योंकि यहां पर पैसा की सुरक्षा सबसे ज्यादा होती है। हालांकि, इसमें ब्याज दर सबसे कम है। इससे लोगों में एफडी का आकर्षण कम हो रहा है। इसके बावजूद बैंको का डिपॉजिट इस समय 160 लाख करोड़ रुपये के करीब है। हालांकि, लोगों में एफडी के प्रति आकर्षण बढ़ाने के लिए सरकार पांच साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर टैक्स में छूट दे रही है।

एसआईपी: म्यूचुअल फंड एसआईपी पिछले कुछ वर्षों से चर्चा में है। इसमें निवेशकों को 12-14 फीसदी तक रिटर्न मिल जाता है। कुछ ने तो 50 फीसदी तक रिटर्न दिया है। म्यूचुअल फंड का एक फायदा यह भी है कि यहां आपको चक्रवृद्धि ब्याज मिलता है। यानी आपने 10 रुपये का निवेश किया और वह एक साल मे 11 रुपये हो गया तो फिर दूसरे साल 11 रुपये पर रिटर्न मिलता है। आंकड़ों के मुताबिक, लोगों ने एसआईपी के जरिये म्यूचुअल फंड में सात माह में 10 हजार करोड़ से ज्यादा निवेश किया है।

एनसीडी: देश की प्रमुख कंपनियां जैसे टाटा, बिड़ला या अन्य कंपनियां नॉन कनवर्टिबल डिबेंचर्स (एनसीडी) लेकर आती हैं। इस पर तय ब्याज देती हैं, जो अमूमन 8-9 फीसदी होता है। लेकिन इसमें भी यह देखना जरूरी है कि कौन सी कंपनी सही है और किसका ब्याज देने का रिकॉर्ड अच्छा है। उदाहरण के तौर पर हाल में रेलिगेयर और फ्यूचर रिटेल अपने निवेशकों को ब्याज नहीं दे पाईं। इसलिए ऐसे साधनों में निवेश करने से पहले उनकी वित्तीय स्थितियां देखनी जरूरी है।

शेयर बाजार: अगर आपको शेयर बाजार की जानकारी और थोड़ा जोखिम लेना चाहते हैं तो बेहतर मुनाफा कम सकते हैं। हालांकि कई बार आंकलन गलत हो सकता है और इससे आपको घाटा भी हो सकता है। ऐसी स्थिति में आपके पास विकल्प पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें है कि इक्विटी म्यूचुअल फंड खरीदें जहां पर आपको ठीक-ठाक रिटर्न मिलेगा। यह कंपनियां आपके पैसों को सीधे शेयर में ही निवेश करती हैं और मामूली कमीशन लेती हैं।

सरकारी प्रतिभूतियां: आप चाहें तो एक औसत दर्जे के और सुरक्षित रिटर्न के लिए किसान विकास पत्र, पोस्ट ऑफिस योजना, पीपीएफ या फिर किसी और साधन में निवेश कर सकते हैं। यहां भी पैसा सुरक्षित रहता है पर कम ब्याज मिलता है। इनके अलावा, कुछ पैसों को रियल एस्टेट और सोने में भी निवेश कर सकते हैं, जहां लंबे समय में ठीक-ठाक फायदा मिलने की उम्मीद रहती है।

लंबी अवधि में मुनाफा: हमेशा उन साधनों में निवेश करना चाहिए, जहां आपका पैसा सुरक्षित रहे और मंहगाई से ज्यादा रिटर्न मिले। ऐसे में आप शेयर बाजार और म्यूचुअल फंड का रास्ता अपना सकते हैं। ध्यान रखें कि बिना किसी सलाहकार के खुद से निवेश का फैसला न करें। पिछले कुछ वर्षों में शेयर बाजार लंबी अवधि में बेहतर रिटर्न दिया है। -किशोर ओस्तवाल चेयरमैन, सीएनआई रिसर्च

विस्तार

हाल के वर्षों में आपने शारधा घोटाला और पीएसीएल जैसी तमाम कंपनियों के नाम सुने होंगे जो रातों-रात आती हैं और दोगुना करने या ज्यादा ब्याज का लालत देकर पैसे वसूलती हैं। कुछ दिन तक कंपनियां निवेशकों को पैसा तो देती हैं, पर जब यह ज्यादा पैसा जुटा लेती हैं तो फिर रातों-रात फरार हो जाती हैं। इनसे बचने के साथ सुरक्षित निवेश के लिए आप फिक्स्ड डिपॉजिट, म्यूचुअल फंड, किसान विकास पत्र या फिर अन्य सरकारी साधनों में निवेश कर सकते हैं, जहां बेहतर रिटर्न मिलता है।

कितना रिटर्न ठीक होता है?
निवेश पर रिटर्न को महंगाई के हिसाब से देखना चाहिए। आज महंगाई दर 6% है। इसलिए उन योजनाओं में निवेश करें, जहां से सालाना 10 फीसदी रिटर्न मिल सके।

    6 फीसदी का रिटर्न तो आपको महंगाई से पीछा छुड़ाने के लिए चाहिए और फिर कम से कम 4 फीसदी रकम आपके पास बचनी चाहिए।


बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट : पसंदीदा निवेश
यह पुराने जमाने से निवेश का पसंदीदा साधन है। ऐसा इसलिए क्योंकि यहां पर पैसा की सुरक्षा सबसे ज्यादा होती है। हालांकि, इसमें ब्याज दर सबसे कम है। इससे लोगों में एफडी का आकर्षण कम हो रहा है। इसके बावजूद बैंको का डिपॉजिट इस समय 160 लाख करोड़ रुपये के करीब है। हालांकि, लोगों में एफडी के प्रति आकर्षण बढ़ाने के लिए सरकार पांच साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर टैक्स में छूट दे रही है।

एसआईपी: म्यूचुअल फंड एसआईपी पिछले कुछ वर्षों से चर्चा में है। इसमें निवेशकों को 12-14 फीसदी तक रिटर्न मिल जाता है। कुछ ने तो 50 फीसदी तक रिटर्न दिया है। म्यूचुअल फंड का एक फायदा यह भी है कि यहां आपको चक्रवृद्धि ब्याज मिलता है। यानी आपने 10 रुपये का निवेश किया और वह एक साल मे 11 रुपये हो गया तो फिर दूसरे साल 11 रुपये पर रिटर्न मिलता है। आंकड़ों के मुताबिक, लोगों ने एसआईपी के जरिये म्यूचुअल फंड में सात माह में 10 हजार करोड़ से ज्यादा निवेश किया है।

एनसीडी: देश की प्रमुख कंपनियां जैसे टाटा, बिड़ला या अन्य कंपनियां नॉन कनवर्टिबल डिबेंचर्स (एनसीडी) लेकर आती हैं। इस पर तय ब्याज देती हैं, जो अमूमन 8-9 फीसदी होता है। लेकिन इसमें भी यह देखना जरूरी है कि कौन सी कंपनी सही है और किसका ब्याज देने का रिकॉर्ड अच्छा है। उदाहरण के तौर पर हाल में रेलिगेयर और फ्यूचर रिटेल अपने निवेशकों को ब्याज नहीं दे पाईं। इसलिए ऐसे साधनों में निवेश करने से पहले उनकी वित्तीय स्थितियां देखनी जरूरी है।

शेयर बाजार: अगर आपको शेयर बाजार की जानकारी और थोड़ा जोखिम लेना चाहते हैं तो बेहतर मुनाफा कम सकते हैं। हालांकि कई बार आंकलन गलत हो सकता है और इससे आपको घाटा भी हो सकता है। ऐसी स्थिति में आपके पास विकल्प है कि इक्विटी म्यूचुअल फंड खरीदें जहां पर आपको ठीक-ठाक रिटर्न मिलेगा। यह कंपनियां आपके पैसों को सीधे शेयर में ही निवेश करती हैं और मामूली कमीशन लेती हैं।

सरकारी प्रतिभूतियां: आप चाहें तो एक औसत दर्जे के और सुरक्षित रिटर्न के लिए किसान विकास पत्र, पोस्ट ऑफिस योजना, पीपीएफ या फिर किसी और साधन में निवेश कर सकते हैं। यहां भी पैसा सुरक्षित रहता है पर कम ब्याज मिलता है। इनके अलावा, कुछ पैसों को रियल एस्टेट और सोने में भी निवेश कर सकते हैं, जहां लंबे समय में ठीक-ठाक फायदा मिलने की उम्मीद रहती है।

लंबी अवधि में मुनाफा: हमेशा उन साधनों में निवेश करना चाहिए, जहां आपका पैसा सुरक्षित रहे और मंहगाई से ज्यादा रिटर्न मिले। ऐसे में आप शेयर बाजार और म्यूचुअल फंड का रास्ता अपना सकते हैं। ध्यान रखें कि बिना किसी सलाहकार के खुद से निवेश का फैसला न करें। पिछले कुछ वर्षों में शेयर बाजार लंबी अवधि में बेहतर रिटर्न दिया है। -किशोर ओस्तवाल चेयरमैन, सीएनआई रिसर्च

Where to invest in Hindi निवेश कहां करें

Where to invest in पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें Hindi निवेश कहां करें इन विकल्पों के बारे में जानिए और समझिए कि पैसा कहां इन्वेस्ट करें जहां आप का पैसा सुरक्षित रहे और आपको उचित रिटर्न भी मिले। निवेश के विकल्प जो कि पोस्ट ऑफिस, बैंक खाते, शेयर बाजार, रियल स्टेट या म्यूचुअल फंड के माध्यम से उपलब्ध हैं। कहां निवेश करें कि हमारी बचत बढ़ सके और हमारे फायनैन्शल लक्षयों को पूरा कर सके फिर चाहे वो लक्ष्य घर बनाना हो, बच्चों की शिक्षा हो, बेटी की शादी या कोई अन्य। Where to invest in Hindi.

Where to invest in Hindi निवेश कहां करें

निवेश कहाँ करें

Where to invest in Hindi बचत और निवेश में अंतर

वित्तीय उद्योग में दो अवधारणाएं हैं जो अधिकांश लेनदेन गतिविधियों का आधार बनती हैं। एक बचत है और दूसरा निवेश। आम तौर पर लोग इनमें फर्क नहीं कर पाते हैं मगर दोनों अवधारणाओं के बीच एक बड़ा अंतर होता है। मैंने अपने एक लेख में बचत और निवेश में अंतर को अच्छे तरीके से समझाया है। वित्तीय संदर्भ के निवेश का मतलब है आज किसी भी धन को भविष्य के समय सीमा में वित्तीय लाभ की पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें उम्मीद में व्यय करना। Understanding diffrance in saving and investment and Where to invest in Hindi.

Investment Meaning in Hindi निवेश का अर्थ

कोई भी निवेश एक उम्मीद के साथ संपत्ति खरीदने या बनाने का कार्य है कि इससे ब्याज कमाई या लाभांश या पूंजीगत बढ़ोतरी या किसी भी अन्य रिटर्न का लाभ मिलेगा जो प्रारंभ में रखे गए पैसे की तुलना में लाभदायक है। निवेश पर खर्च किए गए पैसे मुख्य रूप से किसी विशिष्ट अवधि में कुछ प्रकार की वापसी प्राप्त करने के उद्देश्य से किए जाते हैं।

Where to invest your Saving

कई बार लोग निवेश और बचत का अंतर नहीं समझ पाते हैं। बचत और निवेश एक दूसरे से अलग हैं। कह सकते हैं कि धन को सुरक्षित रखना बचत है पर उस बचत को आक्रामक रूप से इस तरह बचाना कि उस से रिटर्न प्राप्त हो सके उसे निवेश कहेंगे। यदि आप बचत और निवेश के अंतर को समझ लेते हैं तो अब यह भी समझिए कि आपके लिए कौन सा निवेश अच्छा रहेगा और अपनी आवश्यकता के अनुसार निवेश कहाँ करें। आज यहाँ विस्तार से निवेश के विकल्पों की चर्चा की जा रही है।

निवेश कहां करें Where to Invest

निवेश की श्रेणी में आने वाले काफी लोकप्रिय निवेश के विकल्प हैं फिक्स्ड डिपॉजिट, शेयर, म्यूचुअल फंड, बीमा और रियल एस्टेट इत्यादि। ये श्रेणियां निवेशकों के बीच काफी लोकप्रिय हैं क्योंकि आपके पैसे को बढ़ाने के लिए यह निवेश काफी सहयोग करते हैं। निम्नलिखित निवेश उत्पाद हैं जिनके बारे में जान कर आप निश्चय कर सकेंगे कि निवेश कहां करें, किस निवेश में जोखिम की मात्रा कितनी है और बेहतर रिटर्न के लिए और पैसा कहां इन्वेस्ट करें।

शेयर मार्केट Share Market

स्टॉक या इक्विटी शेयर हैं जो कंपनियों द्वारा जारी की जाती हैं और आम जनता द्वारा खरीदी जाती हैं। यह कंपनियों का धन जुटाने का तरीका है। स्टॉक एक कंपनी के स्वामित्व के हिस्से का अधिकार है। शेयर, स्टॉक और इक्विटी सभी का एक ही मतलब है। शेयर दुनिया में सबसे लोकप्रिय निवेश के साधनों में से एक हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि स्टॉक द्वारा मिलने वाला रिटर्न आमतौर पर किसी अन्य निवेश के साधन से अधिक होता हैं। हालांकि शेयरों में यदि उच्च रिटर्न मिलता है तो इनमें निवेश का जोखिम भी काफी अधिक है। शेयर बाजार में निवेश कहां करें यह जानने से पहले शेयर बाज़ार को जान लेना बहुत आवश्यक है।

लघु बचत योजनाएं Small Saving Schemes

भारतीय वित्तीय बाजार में लघु बचत योजनाएं लोकप्रिय बचत उपकरण हैं जिनसे सुरक्षित और निश्चित आय होती है। जैसा कि नाम से ही पता चलता है, ये योजनाएं छोटी मात्रा में पैसे बचाने के लिए हैं। इन निवेश योजनाओं के पीछे विचार लगभग सभी आर्थिक वर्गों से लोगों में बचत की आदत डालना है। छोटी बचतों में निवेश के लिए डाक घर बचत योजनाएं बहुत महत्वपूर्ण हैं। कुछ सबसे आम लघु बचत योजनाएं हैं सुकन्या समृद्धि योजना, ईपीएफ (कर्मचारी भविष्य निधि), एनपीएस (राष्ट्रीय पेंशन योजना), नेशनल सेविंग सर्टीफिकेट, किसान विकास पत्र, व्यक्तिगत भविष्य निधि (पीपीएफ) आदि। लगभग सभी लघु बचत योजनाएं सरकार द्वारा शुरू की जाती हैं ताकि देश में बचत योजनाओं के प्रसार को बढ़ाया जा सके। आइए इनमें से कुछ सबसे प्रमुख योजनाओं को देखें।

कर्मचारी भविष्य निधि EPF

कर्मचारी भविष्य निधि एक और लघु बचत योजना है जो मुख्य रूप से आपके एम्प्लॉअर द्वारा प्रदान की जाती है। इसमें निजी और सार्वजनिक दोनों संगठनों के वेतनभोगी व्यक्ति शामिल हैं। ईपीएफ योजना के लिए पंजीकरण करने के लिए 20 से अधिक कर्मचारी किसी भी कम्पनी में होना अनिवार्य है। प्रत्येक महीने लगभग 12% वेतन से कटौती की जाती है और कर्मचारी के ईपीएफ खाते में उसे जमा करवा दिया जाता है। यह ईपीएफ खाता कर्मचारी भविष्य निधि संगठन द्वारा रखा जाता है, जिसे आमतौर पर ईपीएफओ के नाम से जाना जाता है। ईपीएफ में जमा राशि पर आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर छूट मिलती है।

सुकन्या समृद्धि योजना Sukanya Smridhi Yojna

सुकन्या समृद्धि योजना एक विशेष योजना है जिसे बालिकाओं की वित्तीय कल्याण की सुविधा के लिए केंद्र सरकार द्वारा लॉन्च किया गया है। इस योजना को कन्या के माता-पिता या कानूनी अभिभावक द्वारा लिया जा सकता है और योजना के तहत कम से कम प्रति वर्ष 1000 रुपये की राशि जमा की जा सकती है। यह लड़की के 21 साल की उम्र तक पहुंचने के बाद परिपक्व हो जाती है। 18 साल की उम्र तक पहुंचने के बाद इस योजना से पैसे निकलने की अनुमति होती है यदि कन्या के लिए शादी या शिक्षा से संबंधित वित्तीय आवश्यकता होती है।

राष्ट्रीय पेंशन योजना NPS

यदि आप सोच रहे हैं कि रेटायर्मेंट के लिए निवेश कहां करें तो राष्ट्रीय पेंशन योजना आपके लिए है। राष्ट्रीय पेंशन योजना निजी और सार्वजनिक दोनों क्षेत्रों में काम कर रहे व्यक्तियों को नियमित पेंशन राशि सुनिश्चित करने के लिए सबसे लोकप्रिय योजनाओं में से एक है। व्यक्तियों को या तो अपने कॉर्पोरेट भत्ते के हिस्से के रूप में एनपीएस की पेशकश की जाती है या वे स्वयं भी इस योजना में निवेश कर सकते हैं। एनपीएस में निवेश की गयी राशि आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर छूट के लिए पैसा कमाने के लिए निवेश कहां करें पात्र है। इस योजना में खाता धारक के 60 वर्ष की आयु तक पहुंचने के बाद जमा राशि की वापसी की अनुमति है। परिपक्वता पर वापस निकाला गया कॉर्पस बिल्कुल कर मुक्त है।

म्यूचुअल फंड्स Mutual Funds

म्यूचुअल फंड वित्तीय उपकरण हैं जो व्यावसायिक रूप से प्रबंधित होते हैं और विभिन्न प्रतिभूतियों में किसी भी निवेशक की ओर से पैसा निवेश करते हैं। इन म्यूचुअल फंडों को विभिन्न प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है, जिन पर वे निवेश करते हैं। कुछ सबसे लोकप्रिय म्यूचुअल फंड संतुलित फंड, स्टॉक फंड, ओपन-एंड फंड आदि हैं। इन फंडों को उनके प्रतिशत आवंटन के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। इक्विटी फंड पूरी तरह से इक्विटी में निवेश करता है और अधिक जोखिम और अधिक रिटर्न देने वाला निवेश है जबकि डेट फंड पूरी तरह से ऋण और मनी मार्केट उपकरणों में निवेश करता है और इसलिए कम जोखिम वाला निवेश है। आप अपने जोखिम के अनुसार विभिन्न तरह के म्यूचुअल फंड्स में से सुनिश्चहित कर सकते हैं कि अपनी ज़रूरतों के अनुसार निवेश कहां करें।

सावधि जमा Fixed Deposit

सावधि जमा यानी फिक्स्ड डिपॉजिट पैसे बचाने के सबसे पुराने और सुरक्षित तरीकों में से एक हैं। ये आवश्यक रूप से सक्रिय निवेश उपकरण नहीं हैं, बल्कि रिटर्न बचाने और कमाई करने के लिए एक निष्क्रिय तरीका हैं। फिक्स्ड डिपॉजिट बैंक, पोस्ट ऑफिस, NBFC या अन्य कम्पनियों में किया जा सकता है। फिक्स्ड डिपॉजिट में निश्चित दिनों या महीनों या वर्षों के लिए एक निश्चित राशि को जमा किया जाता है। बदले में इस पैसे पर ब्याज अर्जित किया जाता है। ब्याज दर जमा अवधि के साथ और अलग अलग बैंकों में अलग अलग हो सकता ही।

रियल एस्टेट Real Estate

प्रॉपर्टी की क़ीमतें हर गुजरने वाले दिन के साथ बढ़ रही है जिसने रियल एस्टेट को निवेशकों के लिए निवेश का बेहतरीन मौका मिलता है। संपत्ति खरीदने और बेचने पर निवेशकों को पर्याप्त रिटर्न मिल सकता है। संपत्ति की की बढ़ती कीमतें इस अचल संपत्ति को एक अच्छा निवेश का विकल्प बनातीं है। शहरीकरण के तेजी से बढ़ने के साथ साथ रियल एस्टेट की कीमतें आसमान से ऊपर चढ़ रही हैं। इसने रियल एस्टेट निवेशकों के लिए अच्छे अवसर मिल रहे है। ज्यादातर निवेशक बैंकों से रियल एस्टेट खरीदने के लिए ऋण लेते हैं और फिर संपत्ति के मूल्य में बढ़ोतरी के कारण मुनाफा कमा कर बेच देते हैं।

Where to invest for Better Returns

यहाँ हमने आपके सामने कई विकल्प प्रस्तुत किए Where to invest in Hindi जिससे स्पष्ट हो सके कि निवेश कहां करें, निवेश के कौन कौन से विकल्प उपलब्ध हैं और अपनी निवेश करने की क्षमता और रिस्क लेने की क्षमता के अनुसार पैसा कहाँ इन्वेस्ट करें जिससे आप अच्छा रिटर्न प्राप्त कर सकें।

रेटिंग: 4.15
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 441
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *