लाभदायक ट्रेडिंग के लिए संकेत

विदेशी मुद्रा क्यों

विदेशी मुद्रा क्यों

विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे काम करता है

हिंदी

विदेशी मुद्रा व्यापार क्या है, और यह कैसे काम करता है?

सबसे पहले, यह समझना जरूरी है कि विदेशी मुद्रा बाजार क्या है। विदेशी मुद्रा या विदेशी विदेशी मुद्रा क्यों मुद्रा बाजार वह जगह है जहां एक मुद्रा का दूसरे के लिए कारोबार किया जाता है। यह दुनिया के सबसे सक्रिय रूप से कारोबार किए गए वित्तीय बाजारों में से एक है। वॉल्यूम इतने विशाल हैं कि वे दुनिया भर के शेयर बाजारों में सभी संयुक्त लेनदेन से अधिक हैं।

विदेशी मुद्रा बाजार की एक वैश्विक पहुंच है जहां दुनिया भर से खरीदार और विक्रेता व्यापार के लिए एक साथ आते हैं। ये व्यापारी एक दूसरे के बीच सहमत मूल्य पर धन का आदान प्रदान करते हैं। इस प्रक्रिया के माध्यम से व्यक्ति, कॉर्पोरेट और देशों के केंद्रीय बैंक एक मुद्रा का दूसरे में आदान-प्रदान करते हैं। जब हम विदेश यात्रा करते हैं, तो हम सभी विदेशी देश की कुछ मुद्रा खरीदते हैं। यह अनिवार्य रूप से एक विदेशी मुद्रा लेनदेन है।

इसी तरह, कंपनियों को अन्य देशों में वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने की आवश्यकता होती है और इसके लिए विदेशी मुद्रा की आवश्यकता होगी। मान लें कि भारत में एक कंपनी संयुक्त राज्य अमेरिका से उत्पाद खरीद रही है। भारतीय कंपनी को उत्पादों के आपूर्तिकर्ता का भुगतान अमेरिकी डॉलर में करना पड़ता है। इसका मतलब यह है कि कंपनी को खरीद करने के लिए जिस डॉलर की जरूरत है उसके बराबर रुपये का आदान-प्रदान करना होगा। विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे काम करता है?

अब जब हमने विदेशी मुद्रा व्यापार की मूल बातें समझ ली हैं, तो हम देखेंगे कि यह इतने बड़े पैमाने पर क्यों किया जाता है। मुख्य कारण अटकलें हैं: मुद्रा के मूल्य में परिवर्तन विदेशी मुद्रा क्यों से लाभ कमाने के लिए विदेशी मुद्रा व्यापार किया जाता है। विभिन्न आर्थिक और राजनीतिक कारकों के कारण मुद्रा मूल्य बदलते रहते हैं, जिनमें भुगतान संतुलन, मुद्रास्फीति और ब्याज दर में परिवर्तन शामिल हैं। ये मूल्य परिवर्तन उन व्यापारियों के लिए आकर्षक बनाते हैं, जो अपने हंच सही होने से लाभ की उम्मीद करते हैं। हालांकि, अधिक लाभ की संभावना के साथ, उच्च जोखिम आता है।

शेयरों की तरह, विदेशी मुद्रा व्यापार के लिए कोई केंद्रीय बाजार नहीं है। दुनिया भर के व्यापारियों के बीच कंप्यूटर नेटवर्क का उपयोग करके लेन-देन होता है। मुद्राओं का कारोबार न्यू यॉर्क, टोक्यो, लंदन, हांगकांग, सिंगापुर, पेरिस, आदि जैसे प्रमुख वित्तीय केंद्रों में किया जाता है। इसलिए जब एक बाजार बंद हो जाता है, तो दूसरा खुलता है। यही कारण है कि विदेशी मुद्रा बाजार दिन या रात के लगभग किसी भी समय सक्रिय रहते हैं।

मुद्रा व्यापार की मूल बातों के पहलुओं में से एक यह है कि यह जोड़े में होता है – एक मुद्रा की कीमत की तुलना दूसरे के साथ की जाती है। मूल्य उद्धरण में प्रकट होने वाले पहले को आधार मुद्रा के रूप में जाना जाता है, और दूसरे को उद्धरण मुद्रा कहा जाता है। उदाहरण के लिए, यू एस डॉलर / भारतीय रुपया जोड़ी व्यापारी को यह जानकारी देती है कि एक अमेरिकी डॉलर (मूल मुद्रा) खरीदने के लिए कितने भारतीय रुपए की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए, एक विशिष्ट तिथि पर जोड़ी यू एस डॉलर 1/ भारतीय रुपया 67.5 रुपये हो सकती है। आधार मुद्रा को हमेशा एक इकाई के रूप में व्यक्त किया जाता है।विदेशी मुद्रा व्यापार में कोई भी मुद्रा आधार मुद्रा हो सकती है।

विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे करें?

अब जब आप जानते हैं कि विदेशी मुद्रा विदेशी मुद्रा क्यों व्यापार कैसे काम करता है, तो मुद्रा व्यापार करने के लिए तीन अलग-अलग प्रकार के विदेशी मुद्रा बाजारों को समझना आवश्यक है।

स्पॉट मार्केट:

यह एक मुद्रा जोड़ी के भौतिक आदान-प्रदान को संदर्भित करता है। एक स्पॉट लेनदेन एक ही बिंदु पर होता है – व्यापार को ‘स्पॉट’ पर बसाया जाता है। ट्रेडिंग एक संक्षिप्त अवधि के दौरान होता है। मौजूदा बाजार में, मुद्राएं मौजूदा कीमत पर खरीदी और बेची जाती है। किसी भी अन्य वस्तु की तरह, मुद्रा की कीमत आपूर्ति और मांग पर आधारित होती है। मुद्रा दरें अन्य कारकों से भी प्रभावित होती हैं जैसे ब्याज दरों, अर्थव्यवस्था की स्थिति, राजनीतिक स्थिति, दूसरों के बीच अन्य। एक स्पॉट सौदे में, एक पार्टी किसी अन्य पार्टी को एक विशेष मुद्रा की एक निश्चित राशि प्रदान करती है। बदले में, यह एक सहमत मुद्रा विनिमय दर पर दूसरी पार्टी से एक और मुद्रा की एक सहमत राशि प्राप्त करता है।

फिर फॉरवर्ड विदेशी मुद्रा बाजार और वायदा विदेशी मुद्रा बाजार हैं। इन दोनों बाजारों में, मुद्राएं तुरंत हाथ नहीं बदलती हैं। इसके बजाय, एक निश्चित अंतिम तिथि पर एक विशिष्ट मूल्य पर, मुद्रा की एक निश्चित मात्रा के लिए अनुबंध हैं।

फॉरवर्ड्स मार्केट:

फॉरवर्ड फॉरेक्स मार्केट में, दो पार्टियां किसी निश्चित तिथि पर किसी निश्चित मूल्य पर किसी मुद्रा की एक निश्चित मात्रा में खरीदने या बेचने के लिए अनुबंध में प्रवेश करती हैं।

मुद्रा वायदा भविष्य की तारीख में निश्चित मूल्य पर किसी विशेष मुद्रा को खरीदने या बेचने के लिए अनुबंध हैं। इस तरह के अनुबंधों का एक मानक आकार और अंतिम अवधि है और सार्वजनिक एक्सचेंजों पर कारोबार किया जाता है। भारत में विदेशी मुद्रा व्यापार भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) द्वारा नियंत्रित किया जाता है। एक्सचेंजों द्वारा निकासी और निपटान का ध्यान रखा जाता है।

विदेशी मुद्रा व्यापार भारत में कैसे करें:

अब जब हमने मुद्रा व्यापार की मूल बातें देखी हैं, तो हम भारत में मुद्रा व्यापार करने के तरीके के बारे में और बात करेंगे।

भारत में, बीएसई और एनएसई मुद्रा वायदा और विकल्पों में व्यापार करने की पेशकश करते हैं। यू एस डॉलर /भारतीय रुपया सबसे अधिक कारोबार वाली मुद्रा जोड़ी है। हालांकि, जब मुद्रा व्यापार की बात आती है तो अन्य अनुबंध भी लोकप्रिय हो रहे हैं। यदि आप एक व्यापारी जो मुद्रा बदलावों पर एक स्थान लेना चाहता है, तो आप मुद्रा वायदा में व्यापार कर सकते हैं। मान लीजिए कि आप उम्मीद करते हैं कि अमेरिकी डॉलर जल्द ही भारतीय रुपए मुकाबले बढ़ जाएगा । आप तो अमरीकी डालर/ भारतीय रुपया वायदा खरीद सकते हैं। दूसरी ओर, यदि आप उम्मीद करते हैं कि अमेरिकी डॉलर के मुकाबले INR मजबूत होगा, तो आप यू एस डॉलर /भारतीय रुपया वायदा बेच सकते हैं।

हालांकि, यह समझने की जरूरत है कि विदेशी मुद्रा व्यापार हर किसी के लिए नहीं है। यह उच्च स्तर के जोखिम के साथ आता है। विदेशी मुद्रा में व्यापार करने से पहले, अपने जोखिम की भूख को जानना आवश्यक है और इसमें आवश्यक स्तर का ज्ञान और अनुभव भी होना चाहिए। विदेशी मुद्रा में व्यापार करते समय, आपको पता होना चाहिए कि कम से कम शुरुआत में पैसे खोने का एक अच्छा डर बना रहता है।

आखिर, अपने पास विदेशी मुद्रा का भंडार जमा क्यों करता है रिजर्व बैंक, विदेशी मुद्रा क्यों क्या आप जानते हैं?

विदेशी मुद्रा या विदेशी मुद्रा भंडार अनिवार्य रूप से भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा विदेशी मुद्राओं में आरक्षित के रूप में रखी गई संपत्ति है, जिसका इस्तेमाल आर्थिक संकट या आड़े वक्त में किया जाता है. आमतौर पर इसका इस्तेमाल विनिमय दर का समर्थन करने और मौद्रिक नीति बनाने के लिए किया जाता है.

विदेशी मुद्रा भंडार

नई दिल्ली : किसी भी देश के लिए विदेशी मुद्रा भंडार उतना ही आवश्यक है, जितना कि किसी घर में सोना का जमा होना जरूरी है. विदेशी मुद्रा भंडार जमा रहने के बाद कोई भी आवश्यक वस्तुओं का आसानी से आयात करने में सक्षम होता है. सबसे बड़ी बात यह है कि विदेशी मुद्रा भंडार आर्थिक संकट की स्थिति या आड़े वक्त में ठीक उसी तरह काम करता है, जिस तरह किसी घर में पैसों की कमी होने या विपत्ति के समय में सोना या गहना काम आता है. श्रीलंका की विदेशी मुद्रा भंडार में कमी आने का ही नतीजा है कि उसे आज आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है. महंगाई चरम पर है और दूसरे देशों से आवश्यक वस्तुओं का आयात पूरी तरह से प्रभावित है. विदेशी मुद्रा भंडार जमा करने की जिम्मेदारी भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के कंधों पर होती है.

क्या है विदेशी मुद्रा भंडार

विदेशी मुद्रा या विदेशी मुद्रा भंडार अनिवार्य रूप से भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा विदेशी मुद्राओं में आरक्षित के रूप में रखी गई संपत्ति है, जिसका इस्तेमाल आर्थिक संकट या आड़े वक्त में किया जाता है. आमतौर पर इसका इस्तेमाल विनिमय दर का समर्थन करने और मौद्रिक नीति बनाने के लिए किया जाता है. भारत के मामले में विदेशी मुद्रा भंडार में डॉलर, सोना और विशेष आहरण अधिकारों के लिए अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष का कोटा शामिल है. अंतरराष्ट्रीय व्यापार और वित्तीय प्रणाली में मुद्रा के महत्व को देखते हुए अधिकांश भंडार आमतौर पर अमेरिकी डॉलर में रखे जाते हैं. कुछ केंद्रीय बैंक अपने अमेरिकी डॉलर के भंडार के अलावा ब्रिटिश पाउंड, यूरो, चीनी युआन या जापानी येन को भी अपने भंडार में रखते हैं.

क्यों जरूरी है विदेशी मुद्रा का भंडारण

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सभी प्रकार के लेनदेन अमेरिकी डॉलर में तय किए जाते हैं. आयात का समर्थन करने के लिए किसी भी देश के लिए विदेशी मुद्रा भंडार का होना आवश्यक है. अगर किसी देश के पास विदेशी मुद्रा या उसके पास डॉलर नहीं होगा, तो वह आवश्यक वस्तुओं का दूसरे देशों से आयात नहीं कर सकता है, जैसा कि श्रीलंका के साथ हुआ. श्रीलंका में आर्थिक संकट आने के पीछे विदेशी मुद्रा भंडार में कमी आना है. कोरोना महामारी के दौरान उसका पर्यटन उद्योग बुरी तरह से प्रभावित हुआ. विदेश पर्यटकों के आगमन थम जाने से श्रीलंका के विदेशी मुद्रा भंडार में डॉलर की कमी आ गई, जिसकी वजह से वह अपने देश की जनता की रोजमर्रा की वस्तुओं का आयात करने में विफल हो गया. इसलिए महंगाई चरम पर पहुंच गई.

भारत ने श्रीलंका को दिया सहयोग

आलम यह कि आर्थिक संकट के इस दौर में भारत में पेट्रोलियम पदार्थ और खाद्य पदार्थों के अलावा दूसरे प्रकार की सहायता भी उपलब्ध कराई है. वहीं, अगर उसके पास विदेशी मुद्रा भंडार मजबूत होता, तो संकट के इस दौर में उसका आवश्यक वस्तुओं का आयात प्रभावित नहीं होता और देश में महंगाई चरम पर नहीं पहुंचती.

मौद्रिक और आर्थिक नीति बनाने में विदेशी मुद्रा सहायक

इससे भी अधिक महत्वपूर्ण यह है कि विदेशी मुद्रा भंडार घरेलू स्तर पर मौद्रिक और आर्थिक नीतियां तैयार करने में सरकार और रिजर्व बैंक के लिए अहम भूमिका निभाता है. विदेशी पूंजी प्रवाह में अचानक रुकावट आ जाने की वजह से हमारी आर्थिक और मौद्रिक नीतियां प्रभावित होने के साथ ही आम जनजीवन पर भी गहरा प्रभाव पड़ता है. इसे ऐसे भी समझ सकते हैं कि अगर घर में जब पैसे और पूंजी या फिर आमदनी में कमी आ जाती है या किसी की नौकरी अचानक छूट जाती है, तो घर में रखा हुआ सोना ही आड़े वक्त में काम आता है. सोना या गहनों को बेचकर घर का मुखिया परिवार की जरूरतों को पूरा करता है और स्थिति सामान्य होने के बाद वह फिर उतने ही या विदेशी मुद्रा क्यों उससे अधिक सोने का भंडारण कर लेता है. नकदी विदेशी मुद्रा जमा करने से इस तरह की चुनौतियों से निपटने में आसानी होती है और यह विश्वास दिलाता है कि बाहरी झटके के मामले में देश के महत्वपूर्ण आयात का समर्थन करने के लिए अभी भी पर्याप्त विदेशी मुद्रा होगी.

10 अप्रैल को खत्म सप्ताह में दो अरब डॉलर बढ़कर 476.5 अरब डॉलर पर पहुंचा विदेशी मुद्रा भंडार

10 अप्रैल को खत्म सप्ताह में दो अरब डॉलर बढ़कर 476.5 अरब डॉलर पर पहुंचा विदेशी मुद्रा भंडार

मई के आखिर विदेशी मुद्रा क्यों सप्ताह में 3.854 अरब डॉलर बढ़ा विदेशी मुद्रा भंडार

बता दें कि भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 27 मई को समाप्त हुए सप्ताह में 3.854 अरब डॉलर बढ़कर 601.363 अरब डॉलर हो गया. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के आंकड़ों के अनुसार, यह वृद्धि विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों में हुई बढ़ोतरी के कारण हुई है. इससे पिछले सप्ताह, विदेशी मुद्रा भंडार 4.230 अरब डॉलर बढ़कर 597.509 अरब डॉलर हो गया था. रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि का कारण विदेशी मुद्रा आस्तियों में वृद्धि होना है, जो कुल मुद्रा भंडार का एक महत्वपूर्ण घटक है. आंकड़ों के अनुसार विदेशी मुद्रा आस्तियां (एफसीए) 3.61 अरब डॉलर बढ़कर 536.988 अरब डॉलर हो गई.

Prabhat Khabar App :

देश, दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, टेक & ऑटो, क्रिकेट और राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

जानिए क्यों है ये चिंता का कारण? भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार घट रहा

भारतीय रिजर्व बैंक के ताजा आंकड़ों के अनुसार भारत का विदेशी मुद्रा भंडार आठ जुलाई को समाप्त हुए सप्ताह में 8.062 अरब डॉलर घटकर 15 महीनों के सबसे निचले स्तर 580.252 अरब डॉलर पर आ गया है। आरबीआई की ओर से जारी साप्ताहिक आंकड़ों से पता चलता है कि फॉरेन करेंसी असेट्स (एफसीए) में गिरावट के कारण विदेशी मुद्रा भंडार में कमी आई है। एफसीए, स्वर्ण भंडार और पूरे विदेशी मुद्रा भंडार का प्रमुख हिस्सा है।

बीते हफ्ते में एफसीए 6.656 अरब डॉलर घटकर 518.09 अरब डॉलर रह गया है। एफसीए में विदेशी मुद्रा भंडार में रखे गए यूरो, पाउंड और येन जैसी गैर अमेरिकी करेंसी का बढ़ना या गिराना दोनों का असर शामिल है। वहीं इस दौरान सोने का भंडार 1.236 अरब डॉलर गिरकर 39.186 अरब डॉलर पर आ गया है। वहीं बीते हफ्ते में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के साथ स्पेशल ड्राइंग राइट्स (SDR) 122 मिलियन डॉलर घटकर 18.012 बिलियन डॉलर रह गया है।

आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक आठ जुलाई को समाप्त हफ्ते के दौरान देश की आईएमएफ की रिजर्व पोजिशन 49 मिलियन डॉलर घटकर 4.966 बिलियन डॉलर रह गई है। एक जुलाई को समाप्त हफ्ते के दौरान यह भंडार 5.008 अरब डॉलर कम होकर 588.314 अरब डॉलर हो गया था। विदेशी मुद्रा भंडार में यह गिरावट ऐसे समय में दर्ज की गई है जब भारतीय रुपया कमजोर होकर अपने अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है। भारतीय रुपया फिलहाल फिसलते हुए डॉलर के मुकाबले लगभग 80 रुपये प्रति डॉलर के पास पहुंच गया है।

देश के विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट की खबरों के बाद यह जान लेना अहम हो जाता है कि आखिर यह विदेशी मुद्रा भंडार है क्या? अगर विदेशी मुद्रा भंडार में कमी हो रही तो इसका देश की अर्थव्यवस्था पर क्या असर पड़ने वाला है? दरअसल, भारत की बात करें तो हमारे देश का विदेशी मुद्रा भंडार केंद्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पास रखी गई धनराशि और परिसंपत्तियां हैं। विदेशी मुद्रा क्यों इनमें विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां (FCA), स्वर्ण भंडार, विशेष आहरण अधिकार (SDR) और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के साथ रिजर्व ट्रेंच शामिल होती हैं। अगर देश को जरूरत होती है तो वह विदेशी मुद्रा भंडार का इस्तेमाल कर अपने विदेशी ऋण का भुगतान कर सकता है।

देश में विदेशी मुद्रा भंडार के कम होने का असर सबसे पहला असर रुपये की मजबूती पर पड़ता है, जैसे-जैसे विदेशी मुद्रा भंडार घटने लगता है रुपये की कीमत कम होती जाती है। हमने हाल के दिनों में देखा है कि रुपये की कीमत लगातार गिरती जा रही है। शुक्रवार को भारतीय रुपये की कीमत डॉलर के मुकाबले गिरकर 79.72 रुपये प्रति डॉलर रह गई है।

आपको बता दें कि देश में जैसे-जैसे रुपये की कीमत कम होती जाती है देश का आयात मूल्य बढ़ने लगता है और निर्यात मूल्य घटने लगता है। ऐसी स्थिति में देश का व्यापार घाटा बढ़ने लगता है। हमारा देश बीते कुछ महीनों से इस स्थिति का सामना कर रहा है। बीते जून महीने में व्यापार घाटा बढ़कर अब तक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचकर 25.6 अरब डॉलर हो गया है।

व्यापार घाटा को कम करने की कवायद के तहत ही रिजर्व बैंक ने बीते सोमवार (11 जुलाई) को विदेश व्यापार रुपये में करने की भी सुविधा दे दी है। इसका इस्तेमाल विदेशी मुद्रा क्यों कर वर्तमान परिस्थितियों में रूस और श्रीलंका जैसे देशों के साथ व्यापार किया जा सकता है, जिससे रुपये को थोड़ी राहत मिल सकती है। आपको बता दें कि भारत सबसे ज्यादा कच्चे तेल का आयात करता है और रूस तेल का सबसे बड़ा निर्यातक देश है। अगर दोनों देशों के बीच रुपये में कारोबार शुरू होता है तो इससे रुपये को मजबूत बनाने में काफी मदद मिलेगी।

देश में जैसे-जैसे विदेशी मुद्रा का भंडार बढ़ता है रुपया मजबूत होता जाता है। इससे देश आर्थिक रूप से समृद्ध होता जाता और रुपये की कीमत में स्थिरता बनी रहती है। विदेशी रुपया भंडार बढ़ने से रुपये में आई मजबूती का फायदा विदेशों में निवेश करने वाले कारोबारियों पर भी पड़ता है। ऐसा होने से उन्हें अपनी मुद्रा का कम से कम निवेश करना पड़ता है।

रुपये का मूल्य और विदेशी मुद्रा भंडार

एक डॉलर का मूल्य करीब 82 रुपये हो चुका है। ऐसा इस वर्ष अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व की उस नीति के पश्चात हुआ है जिसमें उसने फेडरल फंड्स की दरों में तेज इजाफा किया था और उन्हें मार्च के 0.25 फीसदी से बढ़ाकर सितंबर में 3.25 फीसदी कर दिया था। अन्य कारकों मसलन तेल कीमतों आदि ने भी मदद नहीं की है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने भी हस्तक्षेप नहीं किया और विदेशी मुद्रा भंडार भी 3 सितंबर, 2021 के 642.45 अरब डॉलर के उच्चतम स्तर से 23 सितंबर, 2022 तक करीब 104.93 अरब डॉलर घट गया। परंतु ये आंकड़े जितना बताते हैं उससे अ​धिक छिपाते हैं। हमें तीन पहलुओं पर विचार करना होगा।

पहली बात, डॉलर वाली परिसंप​त्तियों के अलावा कुछ विदेशी मुद्रा भंडार यूरो, येन आदि विदेशी मुद्राओं में भी रहता है। विविधता की यह नीति अच्छी है। परंतु हुआ यह कि इन सभी मुद्राओं में काफी अधिक गिरावट आई और इसके चलते रिजर्व बैंक को विदेशी मुद्रा की हानि हुई। बहरहाल, अगर इन अन्य मुद्राओं का अवमूल्यन स्थायी न हो तो उस ​स्थिति में अभी जो नुकसान दिख रहा है वह आगे चलकर नहीं दिखेगा।

दूसरा, आरबीआई अपने विदेशी मुद्रा भंडार के पोर्टफोलियो में मध्यम अव​धि या दीर्घाव​धि के जितने बॉन्ड रखे हुए था उसे उसी ​अनुपात में नुकसान का सामना करना पड़ा। फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरें बढ़ाए जाने के बाद उसे नुकसान हुआ। परंतु यह स्पष्ट नहीं है कि आ​खिर आरबीआई ने ऐसे बॉन्ड क्यों रखे थे या ऐसे में उन्हें लगातार अपने पास क्यों रखे हुए था जब यह स्पष्ट था कि ब्याज दरों में इजाफा होगा। ऐसे में उसके विदेशी मुद्रा भंडार का मूल्य कम हुआ। यह पूरे देश का नुकसान है। तीसरा, विदेशी मुद्रा भंडार में कमी इसलिए भी आई कि रुपये के मूल्य में कमी आई। हालांकि इस पहलू के बारे में सभी लोग जानते हैं लेकिन इसे भलीभांति समझा नहीं गया है।

रुपये की गिरावट को थामने की को​शिश विदेशी मुद्रा भंडार में कमी के एक तिहाई हिस्से के ​लिए जिम्मेदार है। इसे एक और तरह से देखा जा सकता है तथा वह यह कि विदेशी मुद्रा भंडार के उच्चतम स्तर से केवल 5.4 फीसदी विदेशी मुद्रा क्यों हिस्सा रुपये में आई गिरावट से पिटने के लिए इस्तेमाल किया गया। यह हिस्सा और अ ​धिक होना चाहिए था। क्यों?

अल्पाव​धि के उतार-चढ़ाव की अनदेखी करें तो रुपया लगभग हर वर्ष डॉलर के मुकाबले कमजोर पड़ता है। ऐसा प्राथमिक तौर पर इसलिए है क्योंकि भारत में मुद्रास्फीति अमेरिका की तुलना में अधिक रहती है। परंतु​ फिलहाल हालात एकदम उलट हैं। फिलहाल भारत में मुद्रास्फीति की दर अमेरिका की तुलना में कम है। ऐसे में आदर्श ​स्थिति में अस्थायी रूप से ही सही रुपये का अ​धिमूल्यन होना चाहिए था। परंतु ऐसा नहीं हुआ। इसके विपरीत रुपये का अवमूल्यन हुआ और काफी ज्यादा हुआ। बहरहाल, यह संतुलन की ​स्थिति नहीं है। हकीकत में यह अति जितनी अ​धिक होगी, अंतरिम तौर पर कुछ नुकसान के बाद हालात बदलने की प्रवृ​त्ति भी उतनी ही अ​धिक दिखेगी।

आगे चलकर देखें तो रुपये में कुछ अधिमूल्यन देखने को मिल सकता है। कम से कम रुपये का अवमूल्यन सामान्य की तुलना में कुछ कम हुआ होता। आने वाले महीनों या तिमाहियों में ऐसा देखने को भी मिल सकता है। रुपये में गिरावट के लिए विदेशी मुद्रा भंडार के कुछ हिस्से के इस्तेमाल से ऐसा हो सकता है। यदि आरबीआई ने अ​धिक आक्रामक ढंग से हस्तक्षेप किया होता तो शायद हम अ​धिक गिरावट को थाम पाते। ऐसे हस्तक्षेप मुद्रास्फीति को लेकर लचीले लक्ष्य वाली नीतिगत व्यवस्था के साथ निरंतरता वाले होते हैं।

यह सच है कि सुझाई गई नीति के साथ आरबीआई के भंडार में भी अ​धिक कमी आती। परंतु विदेशी मुद्रा भंडार की बुनियादी भूमिका भी तो यही है कि वह इनका इस्तेमाल उस समय किया जाए जब रुपये की कीमतों में गिरावट आ रही हो। चाहे जो भी हो अभी भी हमारा विदेशी मुद्रा भंडार इतना तो है कि संभावित चालू खाते के घाटे की 65 माह तक भरपाई कर सके। इसके नौ महीने के आयात के बराबर होने का जो वैक​ल्पिक मॉडल पेश किया गया है वह भ्रामक है।

कई बार यह दलील दी जाती है कि हमें रुपये को बाजार में अपना स्तर तलाश करने देना चाहिए। खासतौर पर उस समय जबकि डॉलर के मुकाबले दुनिया की अन्य मुद्राओं के मूल्य में भी कमी आ रही है और भारत को अपनी निर्यात हिस्सेदारी का बचाव करने की आवश्यकता है। यह दलील वैध है बशर्ते कि अन्य मुद्राओं में आने वाली गिरावट की प्रकृति स्थायी हो। परंतु ऐसा होना मु​श्किल है। यदि वैसा हो तो रुपया भी अपेक्षाकृत ​स्थिर नजर आएगा।

अन्य मुद्राओं का मूल्य स्थायी रूप से कम रहने की संभावना इसलिए नहीं है क्योंकि अंतत: किसी मुद्रा की क्रय श​क्ति मायने रखती है। ऐसे में कई मुद्राओं का कम मूल्य (जैसा कि इस मामले में रुपये के साथ है) हमेशा नहीं बना रह सकता। येन इसका एक सटीक उदाहरण है। फिलहाल यह डॉलर के मुकाबले 145 पर कारोबार कर रहा है।

इस आलेख में हमने अंकेक्षण, पोर्टफोलियो चयन और रुपये में आने वाली गिरावट को कम करने में विदेशी मुद्रा भंडार की वास्तव में सीमित भूमिका पर बात कर चुके हैं। बहरहाल, कई अन्य नीतियां भी हैं लेकिन वह एक अलग किस्सा है।

रेटिंग: 4.79
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 299
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *