बेस्ट ब्रोकर

विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ

विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ
बिटकॉइन, 2009 में सातोशी नाकामोतो द्वारा बनाई गई पहली क्रिप्टोकरंसी है। उन्होंने एक नई मुद्रा लॉन्च करने का फैसला किया

ऑस्ट्रेलिया से व्यापार समझौता बड़ी उपलब्धि

करार के बाद उम्मीद की जा रही है कि भारत में इससे करीब दस लाख नई नौकरियों के अवसर मिलेंगे। इसी तरह ऑस्ट्रेलिया में भी रोजगार के अवसर बनेंगे। विदेशी मुद्रा में इजाफा होगा। करीब एक लाख छात्रों को ऑस्ट्रेलिया में अध्ययन के लिए आसान वीजा सुविधा उपलब्ध होगी। अब भारतीय रसोइयों और योग प्रशिक्षकों को भी आसानी से वीजा मिल सकेंगे।

बीते सप्ताह ऑस्ट्रेलियाई संसद ने अंतत: भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच मुक्त व्यापार समझौते को अपनी मंजूरी दे दी है। जो न केवल ऐतिहासिक है, बल्कि दुनिया में बढ़ते भारत के कद की भी परिचायक है। इस समझौते की आधारशिला विगत अप्रैल माह में रखी गई थी, विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ जिसके अब अगले साल जनवरी माह से लागू होने की उम्मीद है। मॉरिशस और संयुक्त अरब अमीरात के बाद ऑस्ट्रेलिया, ऐसा तीसरा देश होगा जिससे भारत का मुक्त व्यापार करार हुआ है। यह व्यापारिक करार, क्वाड संगठन के बाद भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंधों में एक मील का पत्थर साबित होगा। दोनों देशों के बीच परस्पर सहयोग को बढ़ावा विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ देने के साथ आर्थिक विकास और रणनीतिक साझेदारी को विस्तार देने में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका भी रहेगी। ब्रिटेन के साथ होने वाले बहुप्रतीक्षित मुक्त व्यापार समझौते से पहले, इस करार का होना किसी उपलब्धि से कम नहीं है। अब आशा यह की जा रही है कि ब्रिटेन से मुक्त व्यापार का करार अब दिसंबर में हो जाए। जो कि हमारे देश के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता की श्रेणी में आता है। यहां बता दें कि वर्ष 2011 में विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ जापान के साथ हुए ऐसे करार के बाद किसी विकसित देश के साथ भारत का आॅस्ट्रेलिया से करार हुआ है।

Sensex Today : तीन दिनों की बढ़त के बाद शेयर बाजार की तेजी पर लगा ब्रेक, डॉलर के मुकाबले रुपया 16 पैसे मजबूत

Updated: November 25, 2022 11:32 AM IST

Bombay Stock Exchange (BSE)

Sensex Today : एशियाई बाजारों में कमजोरी के रुख के बीच शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में प्रमुख शेयर सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट हुई और इसके साथ ही बाजारों में तीन दिन से जारी तेजी थम गई.

Also Read:

इस दौरान 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 101.03 अंक गिरकर 62,171.65 अंक पर आ गया. व्यापक एनएसई निफ्टी 24.20 अंक टूटकर 18,459.90 अंक पर था.

सेंसेक्स में बजाज फाइनेंस, नेस्ले, एशियन पेंट्स, हिंदुस्तान यूनिलीवर, इंफोसिस, टाइटन, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस, पॉवर ग्रिड और आईटीसी गिरने वाले प्रमुख शेयरों में शामिल थे.

डॉलर के मुकाबले रुपये में आई मजबूती

अमेरिकी मुद्रा में कमजोरी के चलते रुपया शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 16 पैसे विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ बढ़कर 81.54 पर पहुंच गया.

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ में रुपया डॉलर के मुकाबले 81.69 पर खुला, और फिर मजबूती के साथ 81.54 के स्तर पर पहुंच गया. इस तरह स्थानीय मुद्रा ने पिछले बंद भाव के मुकाबले 16 पैसे की बढ़त दर्ज की.

बृहस्पतिवार को अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया 23 पैसे की तेजी के साथ 81.70 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था.

विदेशी मुद्रा कारोबारियों ने कहा कि फेडरल ओपन मार्केट समिति के ब्योरे के बाद अमेरिकी डॉलर अपने ऊंचे स्तर विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ से नीचे आ गया है.

इस बीच छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.23 प्रतिशत गिरकर 105.82 पर आ गया.

वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 0.20 फीसदी बढ़कर 85.51 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया.

MCD Election: एमसीडी चुनाव घोषणा पत्र जारी करने से पहले भाजपा ने किए वादे

MCD Election: एमसीडी चुनाव घोषणा पत्र जारी करने से पहले भाजपा ने किए वादे

नई दिल्ली, 24 नवंबर : दिल्ली नगर निगम (MCD) के चार दिसंबर को होने वाले चुनावों में जीत की चाहत रखने वाली भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने गुरुवार को चुनावी घोषणा पत्र जारी करने से एक दिन पहले कई वादे किए. एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, दिल्ली भाजपा विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ प्रमुख आदेश गुप्ता ने कहा, "भाजपा उन व्यापारियों को संपत्ति कर में राहत देगी, जिनके पास स्वीकृत कॉलोनियों, अनधिकृत कॉलोनियों, गांवों में प्रतिष्ठान हैं. हम ट्रेडर लाइसेंस के नियमों को भी सरल करेंगे, ताकि लोगों को एमसीडी कार्यालय के चक्कर न लगाने पड़े."

उन्होंने कहा कि भाजपा हमेशा व्यापारियों के साथ खड़ी रही है और जब 2006-2007 में दिल्ली में वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों को सील कर दिया गया था, हम व्यापारिक समुदाय के साथ खड़े थे और कई राहत उपाय किए हैं. यह भी पढ़ें: MCD Election: आप ने भाजपा से मुकाबले के लिए फिजिकल कैंपेन की उम्मीद जताई

विदेशी निवेशकों को लुभाने लगा भारतीय शेयर बाजार, नंवबर में अब तक 31,630 करोड़ का किया निवेश

शेयर बाजार में तेजी और डिजिटल क्रांति का असर, भारत में अमीरों की संख्या 2021 में और बढ़ी

LagatarDesk : भारतीय शेयर बाजार पर विदेशी निवेशकों का भरोसा बढ़ता नजर आ है. फॉरेन इन्वेस्टर्स एक बार फिर से शेयर बाजार में वापसी कर रहे हैं. डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (एफपीआई) ने नवंबर में अब तक भारतीय शेयर बाजार में 31,630 करोड़ निवेश किये हैं. 1-25 नवंबर के दौरान एफपीआई ने शेयरों में शुद्ध रूप से 31,630 करोड़ इन्वेस्ट किया है. समीक्षाधीन अवधि में एफपीआई ने कर्ज या बॉन्ड बाजार से 2,300 करोड़ रुपये की निकासी की है. (पढ़ें, भारत जोड़ो यात्रा में झामुमो की भागीदारी, मंत्री मिथिलेश ठाकुर सहित कांग्रेस के नेता इंदौर रवाना)

जनवरी से अबतक फॉरेन इन्वेस्टर्स ने निकाले 1.37 लाख करोड़

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, अक्टूबर में एफपीआई ने भारतीय शेयर बाजार से आठ करोड़ निकाले थे. जबकि सितंबर में 7,624 करोड़ और अगस्त में 51,विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ 200 करोड़ की बिकवाली की थी. हालांकि जुलाई में फॉरेन इन्वेस्टर्स विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ ने बाजार से 5,000 करोड़ के शेयर खरीदे थे. इससे पहले अक्टूबर 2021 से एफपीआई लगातार नौ माह तक बिकवाली की थी. इस साल अभी तक एफपीआई ने शेयरों से 1.37 लाख करोड़ निकाले हैं.

मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक-प्रबंधक शोध हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि नवंबर में एफपीआई का फ्लो बढ़ने की वजह शेयर बाजारों में तेजी, भारतीय अर्थव्यवस्था और रुपये की स्थिरता है. कोटक सिक्योरिटीज के इक्विटी शोध (खुदरा) प्रमुख श्रीकांत चौहान का कहना है कि भू-राजनीतिक चिंताओं की वजह से निकट भविष्य में एफपीआई का रुख उतार-चढ़ाव वाला रह सकता है.

सौंदर्य, स्वास्थ्य और जीवन शैली विकल्प

लेख की सिफारिश करें लेख पर टिप्पणी करें विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ लेख प्रिंट करें इस लेख को फेसबुक पर साझा करें इस विदेशी मुद्रा और मुद्रा व्यापार के लाभ लेख क ट्विटर पर साझा करें इस लेख को लिंक्डइन पर साझा करें इस लेख को रेडिट पर साझा करें इस लेख को Pinterest पर साझा करें विशेषज्ञ लेखक वर्जीनिया लोज़ानो

एक क्रिप्टोक्यूरेंसी या क्रिप्टोक्यूरेंसी (सैक्सन की क्रिप्टोक्यूरेंसी) एक आभासी मुद्रा है जो किसी भी मध्यस्थ के बिना इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन की एक प्रणाली के माध्यम से वस्तुओं और सेवाओं का आदान-प्रदान करने का कार्य करती है। व्यापार शुरू करने वाली पहली क्रिप्टोक्यूरेंसी 2009 में बिटकॉइन थी, और तब से कई अन्य लोग उभरे हैं, जैसे कि लिटकोइन, रिपल, डॉगकॉइन और अन्य।

रेटिंग: 4.48
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 132
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *