बेस्ट ब्रोकर

ट्रेडिंग सर्वर्स के नए नाम

ट्रेडिंग सर्वर्स के नए नाम
बिटकॉइन को किसने बनाया – Who founded Bitcoin?

बिटकॉइन क्या है जानिए-What is Bitcoin in Hindi

बिटकॉइन क्या है जानिए? - what is bitcoin in hindi

बिटकॉइन क्या है जानिए? - what is bitcoin in hindi

Bitcoin एक डिजिटल करेन्सी यानी की आभासी मुद्रा है जिसका अस्तित्व तो है लेकिन इंटरनेट पर ही है । बिटकॉइन पूरी तरह से मुक्त रूप में कार्य करती है, यानी की इसके ऊपर किसी बैंक या सरकार का कंट्रोल नहीं होता है। एक ऐसी करेन्सी जो की पूरी तरह से वर्चूअल होती है। इसे आप कैश का ऑनलाइन वर्ज़न भी समझ सकते हैं।

Bitcoin एक decentralized ब्लॉकचेन होती है । इसलिए इसके सभी transaction को पूरा होने के लिए peer-to-peer blockchain network का इस्तमाल किया जाता है, यानी की यहाँ सभी ख़रीदारी को कन्फ़र्म users के द्वारा किया जाता है। वहीं किसी बैंक या सरकार का हस्तक्षेप यहाँ बिलकुल भी नहीं होता है।

Decentralised blockchain यानी की ऐसा सिस्टम जहा एक व्यक्ति ट्रांजेक्शन करता है । मान लीजिए किसी दूसरे व्यक्ति बिटकॉइन भेजने के लिए तो उस ट्रांजेक्शन को blockhain पर पहले से मौजूद कंप्यूटर सर्वर कन्फर्म करते है तभी ट्रांजेक्शन पूरा होता है । उन कंप्यूटर सर्वर्स को Miners कहते है । बदले में उन्हें हर transaction पर कुछ फीस मिलती है ।

Bitcoin जिस blockchain पर काम करता है उसके साथ किए गए लेनदेन सार्वजनिक रूप से और दिनांक और समय के रूप से ब्लॉकचेन पर संग्रहीत किए जाते हैं। इसका मतलब है कि कोई भी अब तक किए गए सभी लेन-देन ट्रेडिंग सर्वर्स के नए नाम को देख सकता है। बिटकॉइन के Wallet address से भी आप किसी भी व्यक्ति का पूरे जीवन काल का transcation देख सकते है ।

बिटकॉइन को किसने बनाया – Who founded Bitcoin?

बिटकॉइन को किसने बनाया – Who founded Bitcoin?

बिटकॉइन को 2009 में Satoshi Nakamoto नाम के एक व्यक्ति या समूह द्वारा पेश किया गया था। इसके whitepaper में बिटकॉइन के बारे में कुछ इस प्रकार बताया गया था बिटकॉइन का मतलब है नकदी का एक डिजिटल संस्करण बनाने का एक तरीका था, जहां एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को आसानी से भुगतान कर सके या भुगतान प्राप्त कर सके बिना किसी वित्तीय संस्थान या अन्य बिचौलिए के हस्तक्षेप के।

बिटकॉइन का इस्तेमाल कोई भी कर सकता है जैसे हम सब internet का इस्तेमाल करते हैं और उसका भी कोई मालिक नहीं है ठीक उसी तरह Bitcoin भी है. बिटकॉइन किसी व्यक्ति के अधीन नही है । जब तक संसार में एक कंप्यूटर सिस्टम मौजूद है । और वो माइनिंग के लिए लगा है । तब तक बिटकॉइन का ट्रांजेक्शन बंद नही होगा

बिटकॉइन इतना लोकप्रिय क्यों है?

Bitcoin का transactions बहुत ही तेज और कुशल काम करता है. और साथ ही साथ इसके ट्रांजेक्शन ऑनर गोपनीय रहते है। किस वॉलेट से किस वॉलेट में गया ये तो सार्वजनिक रहता है । लेकिन उस वॉलेट का मालिक कौन है ये आम जनमानस नही देख सकते । आज कल बहुत से लोग Bitcoin को अपना रहे हैं जैसे Freelancers, developers, entrepreneurs, not for profit organisations इत्यादि और इसी की वजह से bitcoin का प्रयोग पूरी दुनिया में Worldwide payment के लिए किया जा रहा है.

जैसे रुपए का इस्तेमाल कर हम online transactions करते हैं तो banks के payment process को हमें follow करना होता है तभी जाकर हम transaction कर पाते हैं और हमारे किये गए हर transactions का हिसाब हमारे bank account में मौजूद रहता है जिससे की ये पता लगाया जा सकता है की पैसे कहाँ और कितने खर्च किये गए हैं उसे हम bank statement कहते है, लेकिन Bitcoin का तो कोई भी मालिक नहीं है इसलिए उसके साथ किये गए हर एक transactions एक public ledger(खाते) में record होकर रहता हैं जिसे bitcoin “blockchain” कहते हैं.
यहां पर bitcoin के साथ किये गए सभी transactions की details store रहती है और यही blockchain इसका प्रमाण होता है की transaction हुआ है या नहीं.

बिटकॉइन वॉलेट क्या है? what is bitcoin wallet

Bitcoin को हम केवल इलेक्ट्रानिकली स्टोर करके रख सकते हैं और इसे रखने के लिए बिटकॉइन वॉलेट की जरुरत होती है। यह दो प्रकार के होते हैं कोल्ड वॉलेट और हॉट वॉलेट। ऑनलाइन/वेब-आधारित वॉलेट को हम हॉट वॉलेट कहते है। हार्डवेयर वॉलेट को हम कोल्ड वॉलेट कहते है। इन में से एक वॉलेट इस्तेमाल कर हमें इसमें अकाउंट बनाना होता है। ये वॉलेट हमें पते (यानी बिटकॉइन पाने के लिए) के रूप में अनोखी ID प्रदान करती है जो alphanumeric होती है। जैसे की मान लीजिये आप ने कहीं से Bitcoin कमाया है और उसको आपको अपने अकाउंट में स्टोर करना है तो आपको वहां पर उस पते की जरुरत पड़ेगी और उसी के मदद से आप Bitcoin को अपने वॉलेट में रख सकते हैं।

बिटकॉइन माइनर क्या होता है? What is bitcoin miner in hindi

सभी देशों में करेंसी नोट छापने की एक सीमा होती है, ठीक वैसे ही Bitcoin बनाने की भी एक सीमा होती हैं। सीमा यह हैं कि मार्केट में बिटकॉइन 2 करोड़ 10 लाख से ज्यादा नहीं आ सकते। फ़िलहाल मार्केट में यह 1 करोड़ 70 लाख के करीब हैं। जो नए बिटकॉइन हैं, वो माइनिंग के जरिए आते हैं।

मान लीजिये कि आपको किसी को Bitcoin भेजना है तो उस भेजने के प्रक्रिया को वेरीफाई करते हैं और वेरीफाई करने वालों को माइनर कहते हैं। जिनके पास उच्च शक्ति कंप्यूटर होते हैं। इन कंप्यूटर से बिटकॉइन ट्रांजेक्शन को वेरीफाई करते हैं। और बदले में उन्हें इनाम के रूप में बिटकॉइन मिलते है ।

कहा से खरीद सकते है बिटकॉइन?ट्रेडिंग सर्वर्स के नए नाम

बिटकॉइन को आप इंडिया में Coindcx, Wazirx, Coinswitch Kuber, से खरीद सकते है । साथ ही साथ कुछ Global Platform भी मौजूद है जहा से आप बिटकॉइन खरीद सकते है । Binance, Coinbase, Bitfinex, Huobi और Poloniex इत्यादि।

बिटकॉइन का रेट और मार्केटकैप?

बिटकॉइन का आज का रेट यानी फरवरी 2022 में 38600$ है। यानी भारतीय मुद्रा में करीबन 31 लाख रुपए है। और इसका मार्केट कैपिटल यानी कुल बाजार पूंजी 755.44 Billion Dollar है ।
एक बिलियन डॉलर का मतलब भारतीय मुद्रा के हिसाब से 7500 करोड़।

मार्केटकैप का मतलब ट्रेडिंग सर्वर्स के नए नाम यह होता है की बाजार में कुल कितनी बिटकॉइन मौजूद है और आज के रेट से उसको गुणा कर दीजिए ।

रेटिंग: 4.54
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 826
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *