विदेशी मुद्रा पर पैसे कैसे बनाने के लिए?

फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है

फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है

OctaFX क्या है ? इससे पैसे कैसे कमायें | How to trade on OctaFX in 2022

Octafx trading क्या है ? Octafx से पैसे कैसे कमायें ?

इस post में मै आपको बताने वाला हूँ कि Octafx trading क्या है ? एवं Octafx से पैसे कैसे कमायें ? इसमें मै आपको Octafx app के बारे में बताने वाला हूँ और ट्रेडिंग करके आप Octafx से पैसे कैसे कमा सकते हैं |Octafx application के माध्यम से आप फ्री में ट्रेडिंग कर सकते हैं एवं अच्छा पैसा भी कमा सकते हैं | इस post में आपको फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है बताऊंगा कि आप Octafx में account कैसे खोल सकते हैं | कैसे इसमें डिपॉजिट कर सकते हैं एवं ट्रेडिंग से कमाये पैसे को अपने बैंक अकाउंट में कैसे ट्रान्सफर कर सकते हैं | इस post में आपको Octafx से जुड़ी सारी जानकारी मिलने वाली है, इसलिए इस post को अंत तक जरुर पढ़ें |

OctaFX trading क्या है ?

Octafx trading एक फॉरेक्स ट्रेडिंग App है जो आपको फंड जमा करने और निकालने दोनों की सुविधा देता है। इसका in-app सेटिंग्स आपको अपनी Octafx की प्रोफ़ाइल जमा राशियों को manage करने और वास्तविक, डेमो और प्रतियोगिता खातों को नियंत्रित करने में मदद करती हैं। आकर्षक और उपयोग में आसान डिज़ाइन के साथ यह लाइटनिंग-फास्ट नया forex application विशेष रूप से आपके फॉरेक्स ट्रेडिंग खातों को अप-टू-डेट रखने के लिए विशेष रूप से तैयार किया गया है|

OctaFX में account कैसे open करें ?

    से octafx app डाउनलोड करें |
  • App open करने के बाद अब आपको account open करने का option मिलेगा |
  • अब first name, last name, email id एवं नया password create करें |
  • आप facebook या फिर google account से भी sign up कर सकते हैं |
  • अब सारे डिटेल भरने के बाद ‘Open Account’ वाले बटन पर क्लिक करें |
  • आपका registration complete होने के बाद आपके ईमेल पर एक लिंक भेजा जायेगा, उस लिंक पर क्लिक करके आपको अपना email verify करना है |
  • अब अपनी सारी पर्सनल details भरने के बाद next स्टेप पर क्लिक करें |
  • अब account platform का एक page खुलेगा | इसमें Meta trader4 ( MT4 ) पर क्लिक करें एवं account type पर real को सेलेक्ट करें |हालाँकि आप demo के लिए demo option को भी choose कर सकते हैं |
  • नीचे Leverage में 1:200 को सलेक्ट करें । Islamic वाले ऑप्शन पर टिक को हटा(untick) दें |
  • Enter Your Contest Nickname में एक नाम डालें और Next step पर क्लिक करें। जैसे ही आप फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है Next पर क्लिक करते हैं तो आपको Login Id और password मिल जायेगा |

Octafx trading App में KYC Verify कैसे करें ?

Octafx में KYC verification के लिए आपको app के इंटरफ़ेस के ऊपर बाएं तरफ दिए तीन लाइन पर क्लिक करना है |अब आपको दायें छोर में एक गोल सेटिंग का आइकॉन दिखाई देगा, उस पर क्लिक करें |

अब एक नया page खुलेगा | उसमे सबसे ऊपर ‘Get Verified’ लिखा हुआ मिलेगा, उस ऑप्शन पर क्लिक करना है।

अब Verification Request का page खुलेगा, वहां आपको Select Your ID Type में कोई एक Id जैसे कि Driving licence, Adhaar Card या Passport में से कोई एक Id type का चुनाव कर सकते हैं|

अब नीचे में आपको Id प्रूफ के तौर में सेलेक्ट किए गए दस्तावेज का एक फ्रंट फोटो एवं एक बेक साइड का फोटो अपलोड करना है और Submit Request पर क्लिक करना है। इस प्रकार आपका रिक्वेस्ट सबमिट हो जायेगा और कुछ समय बाद आपका KYC verify भी हो जायेगा |

Octafx interface

Account बनाने के बाद इस तरह का user इंटरफ़ेस मिलता है | इंटरफ़ेस के नीचे आपको चार option मिलते हैं सबसे पहला option है –

  • Trading pairs – इसमें आपको Trading pairs के कई options मिलते हैं जिसमे आप ट्रेड कर सकते हैं | यहाँ पर आपको EURO,USD,AUD और कई अन्य pairs भी मिलते हैं जहाँ पर आप ट्रेड कर सकते हैं |

Application के user इंटरफ़ेस के बाएं तरफ सारे pairs रहते हैं तथा दायें तरफ buying एवं selling price की लिस्ट मिल जाती है | इसमें सारे pairs का केटेगरी बना हुआ है | जैसे – All, Favourite,Forex, Crypto और भी बहुत सारा | यहाँ पर आपको जिस भी केटेगरी में ट्रेड करना है उसे सेलेक्ट कर सकते हैं | जैसे – अगर आप forex पर क्लिक करते हैं तो forex के जितने भी pairs होंगे वो सारे दिखने लगेंगे |

  • Orders– इसमें दो orders मिलते हैं | एक होता है मार्किट orders एवं दूसरा होता है पेंडिंग orders |मार्केट order में वो सभी orders दिख जायेंगे जिस पर आपने order लगाये हैं तथा पेंडिंग orders में आपको वो orders दिखेंगे जिस पर आपने order लगाएं है पर order पूरी नहीं हुई है |
  • History- जब आप history option पर क्लिक करेंगे तो आपको वो सभी order दिखेंगे जो आपने पुरे किए हैं | जितने भी order आपने complete किए हैं वो सभी show होंगे |
  • Chart- जब आप इस option पर क्लिक करेंगे तो आपको यहाँ पर chart मिल जाता है जिसमे आप यहाँ पर ट्रेडिंग करेंगे | इसमें आपको time फ्रेम भी मिल जाता है | जैसे- 1 मिनट, 5 मिनट, 10 मिनट आदि | यहाँ पर आप timeframe के हिसाब से ट्रेडिंग कर सकते हैं एवं chart को भी देख सकते हैं |

चार आसान चरणों में ट्रेडिंग शुरू करें|

1- OctaFX ट्रेडिंग app में account खोलें|

2- OctaFX account में ट्रेडिंग के लिए पैसा deposit करें |

3- Web-based प्लेटफॉर्म में sign in करें|

4- अब ट्रेडिंग शुरू करें|

आशा करता हूँ आपको octafx app से जुड़ी सारी जानकारी पसंद आई होगी | यह post “Octafx क्या है ? Octafx से पैसे कैसे कमायें” ? निश्चित रूप से octafx app में ट्रेडिंग करके पैसे कमाने में मददगार साबित होगी | यह पोस्ट आपके लिए कितनी मददगार साबित हुई comment करके जरुर बताएं एवं इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर share करें |

'Forex trading'

शुक्रवार सुबह के सत्र में भारतीय रुपये में 80.75 प्रति डॉलर की दर से कारोबार हो रहा था. शुक्रवार को रुपया 80.6888 पर खुला, जबकि पिछले सत्र में यह 81.8112 पर बंद हुआ था.

कच्चे तेल की कीमतों और डॉलर (Dollar) सूचकांक में मजबूती से अमेरिकी मुद्रा (American ) के मुकाबले रुपया गुरुवार को 55 पैसे गिरकर 82.17 प्रति डॉलर के सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गया.

मंगलवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 31 पैसे की मजबूती के साथ 81.51 के भाव पर पहुंच गया. विदेशी बाजारों में डॉलर के कमजोर पड़ने और घरेलू शेयर बाजारों में लिवाली का जोर रहने से रुपये को फायदा हुआ.

अफगानिस्तान में पश्चिमी देशों से सहायता प्राप्त करने में क्रिप्टोकरेंसीज से काफी मदद मिली थी। विदेश में मौजूद कुछ संगठनों ने सहायता उपलब्ध कराने के लिए क्रिप्टोकरेंसीज का इस्तेमाल किया था

अफगानिस्तान में पश्चिमी देशों से सहायता प्राप्त करने में क्रिप्टोकरेंसीज से काफी मदद मिली थी। विदेश में मौजूद कुछ संगठनों ने सहायता उपलब्ध कराने के लिए क्रिप्टोकरेंसीज का इस्तेमाल किया था

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार (interbank forex exchange market) में बृहस्पतिवार को रुपया सीमित दायरे में कारोबार के बीच छह पैसे टूटकर 79.92 प्रति डॉलर पर आ गया. अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 79.80 पर खुला. दिन में कारोबार के दौरान यह 79.80 से 79.93 प्रति डॉलर के बीच रहा. अंत में यह छह पैसे की गिरावट के साथ 79.92 प्रति डॉलर पर बंद हुआ. पिछले कारोबारी सत्र में रुपया 79.86 प्रति डॉलर रहा था.

घरेलू फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है शेयर बाजार में पॉजिटिव ट्रेडिंग के बीच शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में रुपया 23 पैसे की बढ़त के साथ 74.70 प्रति डॉलर पर पहुंच गया.

मजबूत वैश्विक धारणा के बीच अमेरिकी फेडरल रिजर्व की बहुप्रतीक्षित ब्याज दर वृद्धि को लेकर अनिश्चितता बढ़ने से सोमवार को रुपया 67 रुपये प्रति डॉलर से भी नीचे लुढ़ककर 27 माह के निचले स्तर पर पहुंच गया।

रुपया लगातार गिरावट बरकरार रखते हुए शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में डॉलर के मुकाबले और 24 पैसे टूटकर 65.34 के स्तर पर पहुंच गया।

डॉलर के मुकाबले रुपये में गुरुवार को छठे दिन गिरावट का रुख रहा। अंतर-बैंक विदेशी मुद्रा बाजार में डॉलर की तुलना में रुपया 11 पैसे नीचे करीब नौ महीने के निचले स्तर 62.07 प्रति डॉलर पर खुला।

जानिए फॉरेक्स ट्रेडिंग के बारे में-

Www.hintme.in

Forex trading के बारे में आपको भली-भांति जानकारी हो या क हो फिर भी आप यहां पर बहुत ही अच्छा प्रॉफिट कमा सकते हैं यदि आप थोड़ा बहुत भी जानते हैं तो बहुत अच्छी बात है यदि नहीं तो आज हम इसके बारे में आपको पूरी जानकारी देने वाले हैं आपको मैं यह बता दूं कि इन्वेस्टमेंट करने से पहले आपको इसकी थोड़ी बहुत जानकारी होना बहुत ही आवश्यक है.
फॉरेक्स ट्रेडिंग को समझने से पहले आपको यह समझना जरूरी है की सभी देशों की अपनी एक मुद्रा होती है प्रत्येक राष्ट्र की मुद्रा एक दूसरी राष्ट्र की मुद्रा से या तो वह मजबूत होती है या फिर कमजोर होती है कहने का मतलब यह है कि इस वैश्वीकरण के युग में आप दुनिया के किसी भी देश में अपना व्यापार कर सकते हैं और Internet ने इसे बहुत ही आसान बना दिया है आज के समय में व्यक्ति चाहे तो वह घर बैठकर इंटरनेट के माध्यम से वाह अनेक राष्ट्र की मुद्रा जैसे - Dollars, Pound ,Yuro कमा सकता है लेकिन हम आज इस लेख के माध्यम फॉरेक्स ट्रेडिंग के बारे में अपना ध्यान आकर्षित करेंगे क्योंकि फॉरेक्स ट्रेडिंग पैसा कमाने का एक बहुत ही बढ़िया आसान तरीका है इन्वेस्टमेंट करने का
लेकिन यह तभी संभव है जब आपके पास कोई Forex Broker के पास रजिस्टर्ड अकाउंट होगा जैसे कि भारत में बहुत सी ब्रोकिंग कंपनियां है जहां आप बहुत ही आसान आसानी तरीके से अपना डीमेट ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करा कर आप इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं

What is Forex Trading -

फॉरेक्स ट्रेडिंग में forex का मतलब फॉरेन और ट्रेडिंग का मतलब व्यापार होता है.
यदि हम सरल भाषा में बात करें तो फॉरेक्स ट्रेडिंग का मतलब है एक दूसरी देश की मुद्राओं में व्यापार करना होता है
अर्थात एक दूसरे या विभिन्न देश की मुद्राओं पर बढ़ने या घटने पर व्यापार होता है यदि कोई व्यक्ति किसी दूसरे देश की मुद्राओं में व्यापार करना चाहता है तो उसे सबसे पहले वहां की मुद्रा का Knowledge होना जरूरी है जैसे कि यदि हम घूमने या व्यापार करने के लिए अमेरिका जाते हैं तो वहां का डॉलर हमारे पास होना बहुत ही जरूरी होता है वैसे ही फॉरेक्स मार्केट में होता है
Example
यदि हम यूएसए अमेरिका में पढ़ना चाहते हैं तो यदि वहां हम जाते हैं सबसे पहले मुझे यह पता होना चाहिए कि वहां कौन सी करेंसी चलती है जैसे कि आपको पता होना चाहिए अमेरिका में डॉलर चलता है तो इंडिया से हम अमेरिका जाते हैं तो हमारे पास रुपया होता है न कि डॉलर तो उसे सबसे पहले एक्सचेंज कराना जरूरी होता है क्योंकि इंडियन करेंसी वहां किसी जगह Accept नहीं जाति तो जैसे यदि हम बात करें इंडिया की तो इंडिया का ₹75 के बराबर अमेरिका का $1 होता है जो किया अगस्त फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है 2020 का है

जैसा ऊपर बताया गया ठीक बिल्कुल इसी प्रकार फॉरेक्स ट्रेडिंग भी की जाती है जहां पर भी दो देश की ग्रंथियों का करें दिन में होता है वहां पर ट्रेडिंग स्टार्ट हो जाता है

फॉरेक्स ट्रेडिंग में कैसे काम होता है?( How works forex trading )


फॉरेक्स ट्रेडिंग इंडियन इक्विटी मार्केट की तरह काम करता है फर्क बस इतना है कि यदि हम शेयर बाजार में ट्रेड करते हैं तो वहां स्टॉक के शेयर प्राइस पर निर्भर करता है लेकिन यदि हम फॉरेक्स ट्रेड करते हैं तो यहां पर उस देश की करेंसी पर निर्भर करता है
उदाहरण
उदाहरण के तौर पर मान लीजिए कि अभिषेक फॉरेक्स ट्रेडिंग करता है और उसके जानकारी के मुताबिक उसे पता चलता है कि आज डॉलर की compare में ₹75 चल रहा है और यह 4 महीने बाद ₹80 तक जा सकता है तो अभिषेक ने तुरंत $1000 से Trade लगा लेता है और जैसे ही ट्रेड 80 आ जाता है तो वह अपनी पोजीशन मार्केट से निकाल लेता है यहां पर उसे ₹5000 का प्रॉफिट मिलता है


फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे शुरू करें?( how to start forex trading)

यदि हम बात करें भारत में फॉरेक्स ट्रेडिंग के बारे में तो यहां के लोग बहुत ही कम इन्वेस्टमेंट करते हैं क्योंकि उनको इस विषय में पूरी तरह जानकारी नहीं होती है कुछ लोगों को यह भी लगता है कि यहां इंडिया में फॉरेक्स ट्रेडिंग करना अवैध गैर-कानूनी है लेकिन जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि यदि आप ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो आपको SEBI REGISTER BROKING कंपनी से अपना खाता खुलवाना होगा तो उसके बाद आप आसानी से ट्रेड कर सकते हैं भारत में बहुत सी सेबी रजिस्टर्ड बुकिंग कंपनियां है जहां आप अपना खाता ओपन करवाकर ट्रेडिंग कर सकते हैं


फॉरेक्स ट्रेडिंग के कुछ टिप्स -


जैसे कि हमने ऊपर पढ़ा है कि फॉरेक्स ट्रेडिंग बिल्कुल स्टॉक ट्रेडिंग की तरह ही होती है फर्क बस इतना होता है कि शेयर बाजार में प्रॉफिट या लॉस shares के प्राइस पर निर्भर करता है वहीं पर फॉरेक्स ट्रेडिंग में उस करंसी के एक्सचेंज पर निर्भर करता है जैसे कि आपको पता होगा कि शेयर बाजार में कभी आपको प्रॉफिट होता है तो फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है कभी नुकसान भी होता है ठीक उसी प्रकार यहां भी होता है कभी आपको प्रॉफिट तो कभी लोग भी हो सकता है। यहां हम आपको कुछ सफल फॉरेक्स ट्रेडिंग के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे आप फॉलो करके कुछ अच्छा रिटर्न कमा सकते हैं

  • Forex trading करने से पहले आपको इसके विषय में जानकारी होना बहुत ही जरूरी होता है
  • फॉरेक्स मार्केट सप्ताह में 5 दिन 24 घंटे तक खुला रहता है भारत में यहां 5:00 बजे तक बंद हो जाता है इसलिए यहां आपको इंटरडे ग्रेड से थोड़ा बचना चाहिए
  • किसी भी प्रकार की स्कीम से बचना चाहिए और अपना अकाउंट सेबी रजिस्टर्ड बुकिंग कंपनी से ही ओपन कर आना चाहिए
  • प्रतीक ट्रेडिंग में आपको स्टॉपलॉस लगाना बहुत ही जरूरी होता है क्योंकि यहां आपको बड़े लॉस से बचाता है
  • और जिस दिन आप ट्रेड लगाते हैं उस समय से उस मार्केट का फॉलो करना चाहिए
  • अपनी आवश्यकता अनुसार ट्रेडिंग कभी भी नहीं करनी चाहिए क्योंकि इसमें लॉस होने का chance भी अधिक होता है जब भी मार्केट अच्छा movementom होता है उस समय आपको ट्रेड करना फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है चाहिए

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Forex trading क्या है (Forex trading in Hindi) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers Hintme तरफ से stock market in Hindi के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है.
इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. अगर आपको stock market in Hindi से जुड़े कोई भी सवाल है तो कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट करें और हमें बताएं.

यदि आपको यह post, what is Forex trading पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि facebook , Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये

फोरेक्स में ट्रेडिंग की शुरुआत कैसे करे?

how to start trading

वर्तमान समय में फोरेक्स ट्रेडिंग लोगो के बीच काफी लोकप्रिय हो रहा है. कुछ लोग फोरेक्स ट्रेडिंग और करेंसी ट्रेडिंग को अलग-अलग समझते है लेकिन ये दोनों एक ही है. यहाँ तक कि कुछ लोग तो फोरेक्स ट्रेडिंग को ही अपना फुल-टाइम करियर बना रहे है और कुछ लोग इसे पार्ट-टाइम की तरह ले रहे है जिससे उनकी एक्स्ट्रा इनकम हो जाएं.

बहुत से लोगो को फोरेक्स ट्रेडिंग की इतनी जानकारी नहीं है. अगर आप भी उन्ही लोगो में से है और इसके बारे में जानकारी लेने की इच्छा रखते है तो हमारा आज का आर्टिकल पूरा पढ़े. इस आर्टिकल में आप फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है? से लेकर फोरेक्स में ट्रेडिंग की शुरुआत कैसे करे, सभी जानेंगे.

फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है?

चाहे आपको यूरो को डॉलर्स से एक्सचेंज करना हैं या फिर डॉलर को रुपए से, ये सब फोरेक्स ट्रेडिंग का ही हिस्सा है. फोरेक्स ट्रेडिंग करेंसी एक्सचेंज के लिए ग्लोबल मार्किट में इस्तेमाल होने वाला एक टर्म है.

इसमें आप किसी भी देश की करेंसी एक्सचेंज करके पैसा कमा सकते है बशर्ते उस देश की करेंसी रेट क्या चल रहा है. जैसे कि आप जानते है भारत में रुपए का रेट डॉलर से कम रहता है तो अगर आप आज डॉलर खरीद कर कुछ समय बाद डॉलर का रेट बढ़ने के बाद बेचते है तो आपको अच्छा मुनाफा होगा.

फोरेक्स ट्रेडिंग आज के समय में 5.3 ट्रिलियन डॉलर के रोजाना लेन-देन के साथ दुनिया का सबसे बड़ा फाइनैंशल मार्केट बन चूका है.

क्या आप जानते है फॉरेक्स ट्रेडिंग काम कैसे करती है ?

आपकी जानकारी के लिए बता दे फॉरेक्स ट्रेडिंग और इक्विटी ट्रेडिंग में कुछ ज्यादा फर्क नहीं है. केवल इक्विटी ट्रेडिंग में कमाई या नुकसान के लिए शेयर का मूल्य निर्णायक भूमिका में होता है। तो वहीँ फ़ॉरेक्स ट्रेडिंग में एक्सचेंज मूल्य निर्णायक भूमिका में होता है।

अगर किसी व्यक्ति को फॉरेक्स ट्रेडिंग से कमाई करनी है तो वह अपने अनुभव और जानकारी के बलबूते और कोई भी मुद्रा खरीदकर बिज़नस कर सकता है.

भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग लीगल होने के बाद कई तरह के प्लेटफार्म आ चुके है जहाँ पर कोई भी व्यक्ति फोरेक्स ट्रेडिंग कर सकता है और आधिक से आधिक मुनाफा कमा सकता है जिनमे से MT4 भी एक है. इस पर ट्रेडिंग करना बहुत ही आसान है.

चलिए, एक उदाहरण से समझते है:-

मन लीजिये, निखिल चाहता है कि बढ़ती हुई डॉलर की कीमतों से कुछ मुनाफ़ा कमाया जाए जिससे कि उसकी अच्छी एक्स्ट्रा इनकम हो जाए.

फ़िलहाल डॉलर कि कीमत 70 रुपए है और निखिल इस फील्ड की अच्छी जानकारी और अनुभव रखता है तो उसके आधार पर वो अनुमान लगाता है कि आने वाले 3 महीने में डॉलर की कीमत 73 रुपए हो जाएगी.

ऐसे में निखिल 1000$ खरीद लेता है और 3 महीने बाद जब डॉलर फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है 73 रुपए होता है उन्हें सेल कर देता है. इस तरह निखिल ने 1000$ पर 3000 रुपए तक की कमाई कर ली.

फोरेक्स में ट्रेडिंग की शुरुआत कैसे करे

पहले भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग करना आसान नहीं था लेकिन भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग लीगल होने के बाद भारत के लोगो के लिए ट्रेडिंग करना आसान हो गया है. लेकिन अभी भी भारतीय रिज़र्व बैंक ने फोरेक्स ट्रेडिंग करने के लिए काफी शर्ते व नियम लागू किये हुआ है.

चलिए, आपको बताते है कि फोरेक्स ट्रेडिंग कैसे कर सकते है:-

  • अगर आप फोरेक्स ट्रेडिंग करना चाहते है तो इसके लिए सबसे जरुरी है कि सबसे पहले आप किसी SEBI रजिस्टर्ड ब्रोकर के पास ट्रेडिंग अकाउंट ओपन करवा ले.
  • ध्यान रहे, ट्रेडिंग अकाउंट रजिस्टर्ड ब्रोकर के पास ही खुलवाए.
  • ट्रेडिंग अकाउंट किसी डिस्काउंट ब्रोकर के पास ही खुलवाएं क्यूंकि यहाँ पर चार्जेज काफी कम लगते है.
  • भारत में करेंसी ट्रेडिंग डेरिवेटिव्स मार्किट यानी फ्यूचर एंड आप्शन में होती है.
  • NSE करेंसी ट्रेडिंग सोमवार से शनिवार, सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक करवाती है.
  • ये बात ध्यान रखे कि किसी भी करेंसी का रेट देश में चल रही घटनाओं पर आधारित होता है जैसे ब्याज दर, GDP, महंगाई दर, बेरोज़गारी, राजनैतिक स्थिरता या अन्य कोई आकस्मिक घटना,

दोस्तों, तो ये थी फोरेक्स में ट्रेडिंग की शुरुआत कैसे करे के बारे में जानकारी. आशा करते है इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके लिए लाभदायक साबित होगी. और जानकारी लेने के लिए हमारे पेज के साथ जुड़े रहे.

About Author

Akash Kumar Sharma

Akash Kumar responsibilities include conducting thorough research on International Trending topics, generating ideas for new contents

Forex Trading में पैसा कैसे कमाए, how to make money in forex trading

विदेशी मुद्रा ( Forex Trading ) व्यापार, जिसे एफएक्स व्यापार या मुद्रा व्यापार भी कहा जाता है, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा जोड़े की खरीद और बिक्री को संदर्भित करता है। विदेशी मुद्रा व्यापार का मुख्य उद्देश्य फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है एक मुद्रा को दूसरे के लिए विनिमय करना है ताकि कीमतों में परिवर्तन हो और खरीदी गई मुद्रा की कीमत बेची गई मुद्रा के सापेक्ष बढ़े।

विदेशी मुद्रा बाजार विश्व स्तर पर सबसे बड़ा वित्तीय बाजार है जहां निवेशक, सट्टेबाज और कॉर्पोरेट सीमा पार विदेशी मुद्रा व्यापार में शामिल हैं। अन्य वित्तीय बाजारों के विपरीत, फॉरेक्स ट्रेडिंग एक भौतिक स्थान के माध्यम से नहीं बल्कि निगमों, बैंकों और व्यक्तियों के एक इलेक्ट्रॉनिक नेटवर्क के माध्यम से संचालित होता है जो एक मुद्रा को दूसरे के लिए व्यापार करते हैं। यह समय क्षेत्रों और वित्तीय केंद्रों में चौबीसों घंटे काम करना सुविधाजनक बनाता है।

फॉरेक्स पर पैसे कैसे कमाए how to make money on forex

चूंकि विदेशी मुद्रा बाजार चौबीसों घंटे आसान पहुंच और कम लागत वाला सबसे अधिक तरल बाजार है, इसलिए कई मुद्रा व्यापारी बाजार में तेजी फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है से प्रवेश करते हैं, लेकिन फिर विफलताओं को देखने के बाद और भी तेजी से बाहर निकलते हैं। यहां निवेशकों/व्यापारियों के लिए कुछ संकेत दिए गए हैं कि कैसे प्रतिस्पर्धी बने रहें और Forex Trading पर पैसा कमाएं:

फोरेक्स ट्रेडिंग की मूल बातें जानें Learn the Basics of Forex Trading

फोरेक्स ट्रेडिंग की की मूल बातें सीखना ऑपरेटिव शब्दावली का ज्ञान प्राप्त करने से लेकर भू-राजनीतिक, आर्थिक कारकों को समायोजित करने तक है जो एक व्यापारी की चुनी हुई मुद्राओं को प्रभावित करते हैं। विदेशी मुद्रा व्यापार में महारत हासिल करने और पैसा कमाने के लिए, निम्नलिखित के बारे में अच्छी तरह से वाकिफ होना आवश्यक है:

मुद्रा जोड़े: मुद्राओं को हमेशा जोड़े में कारोबार किया जाता है, जैसे कि JPY/INR, USD/GBP, आदि। मुद्रा जोड़े तीन प्रकार के होते हैं

1. प्रमुख जोड़े जिनमें हमेशा यूएसडी (यूएस डॉलर) यानी यूएसडी/यूरो/, यूएसडी/आईएनआर आदि शामिल होते हैं।

2. छोटे जोड़े जिनमें यूएसडी शामिल नहीं है लेकिन एक दूसरे के खिलाफ प्रमुख मुद्राएं यानी जेपीवाई/यूरो, यूरो/जीबीपी, आईएनआर/जेपीवाई आदि शामिल हैं।

3. विदेशी जोड़े जिनमें एक प्रमुख मुद्रा और एक छोटी मुद्रा जैसे USD/HKD (अमेरिकी डॉलर/हांगकांग डॉलर) शामिल हैं।

पीआईपी (प्वाइंट इन प्राइस): एक पीआईपी एक मुद्रा जोड़ी के मूल्यांकन में अंतर है। उदाहरण के लिए, यदि USD/INR की दर आज 74.701 है और कल 74.7002 थी तो पीआईपी .0001 है।

आधार मुद्रा और उद्धरण मुद्रा: मुद्रा जोड़ी में '/' के बाईं ओर लिखी गई मुद्रा आधार मुद्रा होती है और दाईं ओर वाली मुद्रा को काउंटर या कोट मुद्रा कहा जाता है।

आधार मुद्रा हमेशा संदर्भ तत्व होता है और इसका मान 1 होता है, जो आधार मुद्रा की एक इकाई को खरीदने के लिए आवश्यक बोली मुद्रा की मात्रा को इंगित करता है। उदाहरण के लिए, यदि आप EUR/USD खरीदते हैं, तो इसका मतलब है कि आप भाव मुद्रा बेच रहे हैं और आधार मुद्रा खरीद रहे हैं। सीधे शब्दों में कहें, एक व्यापारी एक जोड़ी खरीदेगा यदि उसे लगता है कि आधार मुद्रा बोली मुद्रा के सापेक्ष सराहना करेगी। क्या करेगा व्यापारी अगर उसे विश्वास है कि बोली मुद्रा के मुकाबले आधार मुद्रा का मूल्यह्रास होगा तो वह बेच देगा।

बिड और आस्क प्राइस (Bid and Ask Price): आधार मुद्रा खरीदने की कीमत बोली मूल्य है, और आधार मुद्रा को बेचने की कीमत पूछी गई कीमत है।

उदाहरण के लिए, यदि USD/INR को 75.7260/75.7240 के रूप में दिया जाता है, तो 1 USD को खरीदने के लिए बोली मूल्य 75.7240 रुपये होगा और 1 USD को बेचने के लिए पूछ मूल्य 75.7260 रुपये होगा।

Bid और Ask price के बीच का अंतर है।

Lot: करेंसी ट्रेडिंग लॉट में की जाती है और यूनिट के आधार पर तीन प्रकार के लॉट साइज उपलब्ध होते हैं - माइक्रो (1K यूनिट), मिनी (10K यूनिट), और स्टैंडर्ड (1 लाख यूनिट)।

इन परिचालन स्थितियों के अलावा, विदेशी मुद्रा बाजार पर शोध और अध्ययन हमेशा एक प्रगति पर होता है और व्यापारियों को बाजार के परिदृश्यों और विश्व की घटनाओं के अनुकूल होने के लिए तैयार रहने की आवश्यकता होती है। निवेश के उद्देश्यों के अनुरूप जोखिम की भूख के आधार पर, लेकिन निवेश विकल्पों की जांच और जांच करने के लिए एक मजबूत व्यापार योजना विकसित करना विदेशी मुद्रा व्यापार के माध्यम से पैसा बनाने का एक व्यवस्थित तरीका होगा।

सही फोरेक्स ब्रोकर खोजें Find the right forex broker

सुनिश्चित करें कि ब्रोकर मौजूदा नियमों का अनुपालन करता है जो विदेशी मुद्रा बाजार की अखंडता को बनाए रखते हैं। निवेशकों के ऑनलाइन विदेशी मुद्रा व्यापार में दिग्गज होने का दावा करने वाले धोखेबाजों के शिकार होने की संभावना है, जैसा कि पिछली घटनाओं से पता चलता है। ऐसे कई उदाहरण हैं जहां लेन-देन की लागत बढ़ने के बाद व्यापारी अपना परिचालन बंद कर देते हैं और निवेशक को पैसा खोना शुरू हो जाता है। इसलिए ऐसे धोखेबाजों से सावधान रहें जो जोड़-तोड़ और गाली-गलौज की बातें करते हैं।

यदि आपको लगता है कि आपको एक बेहतर ब्रोकरेज या ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म मिल गया है, तो उनकी समीक्षाओं की ऑनलाइन जांच करना सुनिश्चित करें और देखें कि क्या अधिकांश लोगों का उनके साथ अच्छा अनुभव रहा है। साथ ही, सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा चुना गया ब्रोकरेज आपको आपकी पसंद के मुद्रा जोड़े प्रदान कर रहा है और आप प्रति ट्रेड जो भुगतान करेंगे वह पर्याप्त है।

डेमो/प्रैक्टिस खाते साथ शुरुआत करें Get started with a demo/practice account

अधिकांश प्रमुख ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म एक अभ्यास मंच प्रदान करते हैं ताकि आप अपनी मेहनत की कमाई खर्च किए बिना ट्रेडिंग में अपना हाथ आजमा सकें। एक अच्छा विचार होगा कि ऐसे प्लेटफॉर्म का लाभ उठाया जाए जिससे आप सीखते समय पैसे बर्बाद न करें। अभ्यास व्यापार के दौरान, आप गलतियों से सीख सकते हैं ताकि आप उन्हें वास्तविक समय में न दोहराएं।

छोटे इन्वेस्टमेंट के साथ शुरू करें start with small investment

जब आप पर्याप्त अभ्यास के बाद वास्तविक समय के Forex Trading में कदम रखते हैं, तो छोटे से शुरू करना एक बुद्धिमान विचार होगा। अपने पहले व्यापार के फॉरेक्स ट्रेडिंग क्या है दौरान बड़ी राशि का निवेश करना एक जोखिम भरा कार्य हो सकता है जिसके परिणामस्वरूप आप आवेगी निर्णय ले सकते हैं और धन खो सकते हैं। पहले कम मात्रा में निवेश करना और फिर धीरे-धीरे समय के साथ लॉट साइज बढ़ाना फायदेमंद रहेगा।

रिकार्ड बनाकर रखें keep a record

एक पत्रिका रखें जो भविष्य की समीक्षा के लिए आपके सफल और असफल ट्रेडों को रिकॉर्ड करे। इस तरह, आप अतीत को याद रखेंगे और गलतियों को दोहराने से बचेंगे।

भारत में फोरेक्स ट्रेडिंग forex trading in india

भारतीय फोरेक्स ट्रेडिंग बाजार को सेबी द्वारा नियंत्रित किया जाता है और "भारत में Forex Trading के लिए आरबीआई दिशानिर्देशों" का पालन करता है। भारतीय रिजर्व बैंक की उदारीकृत प्रेषण योजना के अनुसार, किसी व्यक्ति को व्यापार के लिए मार्जिन राशि प्रदान करने या सट्टा उद्देश्यों के लिए विदेश में स्थानांतरित धन का उपयोग करने की अनुमति नहीं है। भारत में खुदरा निवेशकों के लिए नकद में विदेशी मुद्रा (forex trading) व्यापार की अनुमति नहीं है। भारत में, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई), बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और मेट्रोपॉलिटन स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड पर मुद्रा व्यापार की सुविधा है।

इन प्रतिबंधों को देखते हुए, भारत में विदेशी मुद्रा (forex trading) व्यापार विकसित बाजारों की तुलना में बहुत छोटा है। यह केवल चार मुद्रा जोड़े- यूरो (EUR), यूएस डॉलर (USD), ग्रेट ब्रिटेन पाउंड (GBP), और जापानी येन (JPY) तक सीमित है, और एक निवेशक को एक ट्रेडिंग खोलकर चार मुद्रा जोड़े के बीच व्यापार करने की अनुमति देता है। खाता। है। एक विश्वसनीय सेबी पंजीकृत ब्रोकर के साथ या सेबी अधिकृत प्रतिष्ठित प्लेटफार्मों के माध्यम से जो ऑनलाइन विदेशी forex trading में संलग्न हैं,

रेटिंग: 4.46
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 556
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *