विदेशी मुद्रा पर पैसे कैसे बनाने के लिए?

विदेशी मुद्रा करियर

विदेशी मुद्रा करियर
    फ़ॉरेन एक्स्चेंज रिजर्व कई उद्देश्यों की पूर्ति करता है, लेकिन इसकी होल्डिंग के पीछे सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि एक केंद्रीय सरकारी एजेंसी (भारतीय रिजर्व बैंक) के पास बैकअप फंड्स हैं यदि उनकी राष्ट्रीय मुद्रा तेजी से अवमूल्यन करती है या सभी एक साथ दिवालिया हो जाती है।

RBI: बाजार में जारी गिरावट के बीच विदेशी निवेशकों ने निकाले पैसे, 1.763 अरब डॉलर की आई गिरावट

Foreign Exchange Reserves: शेयर मार्केट में इस हफ्ते लगातार गिरावट देखने को मिली है. इस गिरावट के बीच विदेशी निवेशकों ने बाजार से पैसा निकाला है-

By: पीटीआई, एजेंसी | Updated at : 19 Feb 2022 03:36 PM (IST)

विदेशी निवेशक (फाइल फोटो)

Foreign Exchange Reserves: शेयर मार्केट में इस हफ्ते लगातार गिरावट देखने को मिली है. बाजार में बिकवाली हावी रही है. इसके अलावा देश का विदेशी मुद्रा भंडार 11 फरवरी को समाप्त सप्ताह में 1.763 अरब डॉलर घटकर 630.19 अरब डॉलर रह गया. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने आंकड़ा जारी कर इस बारे में जानकारी दी है.

विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ा
आपको बता दें इससे पहले चार फरवरी को समाप्त पिछले सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 2.198 अरब डॉलर बढ़कर 631.953 अरब डॉलर हो गया था. यह तीन सितंबर, 2021 को समाप्त सप्ताह में 642.453 अरब डॉलर के उच्च स्तर पर पहुंच गया था.

RBI ने जारी किए आंकड़े
आरबीआई के शुक्रवार को जारी साप्ताहिक आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट, विदेशी मुद्रा आस्तियों (FCA) में कमी आने की वजह से देखने को मिली है. एफसीए समग्र भंडार और स्वर्ण भंडार का एक प्रमुख घटक है. आंकड़ों के मुताबिक, 11 फरवरी को समाप्त सप्ताह में FCA 2.764 अरब डॉलर घटकर 565.565 अरब डॉलर रह गया.

गोल्ज रिजर्व में हुआ इजाफा
डॉलर में अभिव्यक्त किये जाने वाले विदेशी मुद्रा भंडार में रखे जाने वाले विदेशी मुद्रा आस्तियों में यूरो, पौंड और येन जैसे गैर अमेरिकी मुद्रा के मूल्यवृद्धि अथवा मूल्यह्रास के प्रभावों को शामिल किया जाता है. इसके अलावा आलोच्य सप्ताह में सोने का भंडार (Gold Reserve) 95.2 करोड़ डॉलर बढ़कर 40.235 अरब डॉलर हो विदेशी मुद्रा करियर गया.

News Reels

SDR भी बढ़ा
समीक्षाधीन सप्ताह में, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के पास जमा विशेष आहरण अधिकार (SDR) 6.5 करोड़ डॉलर बढ़कर 19.173 अरब डॉलर हो गया. आईएमएफ में रखे देश का मुद्रा भंडार 1.6 करोड़ डॉलर घटकर 5.217 अरब डॉलर रह गया.

Published at : 19 Feb 2022 03:36 PM (IST) Tags: Reserve Bank of India विदेशी मुद्रा करियर RBI Governor gold reserve foreign exchange reserves Forex reserves हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Business News in Hindi

विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserves) – अर्थ, रचना, प्रयोजन और लाभ!

विदेशी मुद्रा भंडार knowledgeadda247

विदेशी मुद्रा विदेशी मुद्रा करियर भंडार विदेशी मुद्रा, गोल्ड रिजर्व, एसडीआर और आईएमएफ, ट्रेजरी बिल, बॉन्ड और अन्य सरकारी प्रतिभूतियों के साथ जमा की जाने वाली संपत्ति हैं। यह रिजर्व सरकार की देनदारियों की तरह समर्थन प्रदान करने के लिए आयोजित किया जाता है; सरकार या वित्तीय संस्थानों द्वारा केंद्रीय बैंक के साथ जमा किए गए विभिन्न बैंक भंडार और केंद्रीय बैंक द्वारा स्थानीय मुद्रा जारी करना। RBI भारत में विदेशी मुद्रा भंडार का संरक्षक है।

अधिकांश Foreign Exchange Reserves in Hindi अमेरिकी डॉलर में आयोजित किए जाते हैं, जबकि चीन दुनिया में सबसे बड़ा विदेशी मुद्रा आरक्षित धारक है। इसका विदेशी मुद्रा भंडार यूएस $ 3,091,459 मिलियन (यूएस $ 3 ट्रिलियन) था और जापान इसके बाद 1,368,679 मिलियन अमेरिकी डॉलर था। यह अच्छा लगता है कि भारत शीर्ष 5 देशों में है। नीचे दी गई तालिका देखें, इन्हे भी पढ़ें – चार्टर्ड अकाउंटेंट कैसे बनें करियर के ऑप्शन यहाँ पढ़ें!

उच्चतम विदेशी मुद्रा रिजर्व वाले देशों की सूची: –

रैंक देश विदेशी मुद्रा भंडार (लाख अमेरिकी डॉलर)
1. China 3,091,459
2. Japan 1,368,567
3. Switzerland 823,765
4. Russia 562,900
5. India 487,039
6. Taiwan 481,782
7. Saudi Arabia 474,171
8. Hong kong 441,200
9. South Korea 404,000
10. Brazil 339,317

विदेशी मुद्रा भंडार की संरचना: –

विदेशी मुद्रा आरक्षित विदेशी मुद्रा आस्तियों, स्वर्ण, विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर), और आईएमएफ में आरक्षित स्थिति से बना है। भारतीय Foreign Exchange Reserves का कुल संग्रह यूएस $ 487039 मिलियन था। इस कुल संग्रह में उपर्युक्त वस्तुओं का एक संयोजन है। 15 मई 2020 तक; भारतीय Foreign Exchange Reserves का कुल भंडार यूएस $ 487039 मिलियन या यूएस $ 487 बिलियन था। इन्हे भी पढ़ें – भारत के कैबिनेट मिनिस्टर्स की अपडेटेड लिस्ट!

इस रिजर्व में सबसे बड़ा योगदान विदेशी मुद्रा आस्तियों का है यानी यूएस $ 448670 मिलियन का सोना (US $ 32906 मिलियन), US $ 1425 मिलियन का SDR और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के साथ आरक्षित।
विदेशी मुद्रा रिजर्व का उद्देश्य और लाभ: –

    फ़ॉरेन एक्स्चेंज रिजर्व कई उद्देश्यों की पूर्ति करता है, लेकिन इसकी होल्डिंग के पीछे सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि एक केंद्रीय सरकारी एजेंसी (भारतीय रिजर्व बैंक) के पास बैकअप फंड्स हैं यदि उनकी राष्ट्रीय मुद्रा तेजी से अवमूल्यन करती है या सभी एक साथ दिवालिया हो जाती है।

विदेशी मुद्रा भंडार का उपयोग मौद्रिक नीति को प्रभावित करने के लिए भी किया जाता विदेशी मुद्रा करियर है। यदि विदेशी मुद्रा की मांग में वृद्धि के कारण घरेलू मुद्रा का मूल्य घटता है तो भारत या अन्य देशों की केंद्र सरकार भारतीय मुद्रा बाजार में डॉलर बेचती है ताकि भारतीय मुद्रा के मूल्यह्रास की जाँच की जा सके।

विदेशी मुद्रा के अच्छे स्टॉक वाले देश की अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अच्छी छवि है क्योंकि व्यापारिक देश अपने भुगतान के विदेशी मुद्रा करियर बारे में सुनिश्चित हो सकते हैं। भारत 1991 के वित्तीय संकट के दौरान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डिफॉल्टर घोषित करने के कगार पर था।

अच्छे विदेशी मुद्रा भंडार वाला देश विदेशी व्यापार का एक अच्छा हिस्सा आकर्षित करता है और व्यापारिक साझेदारों में विश्वास अर्जित करता है।

विदेशी मुद्रा भंडार के बारे में अन्य जानकारी: –

अधिकांश विदेशी मुद्रा भंडार अमेरिकी डॉलर में आयोजित किए जाते हैं क्योंकि यह दुनिया में सबसे अधिक कारोबार वाली मुद्रा है।

चीन के पास दुनिया का सबसे ज्यादा Foreign Exchange विदेशी मुद्रा करियर Reserves यानी US $ 3.1 ट्रिलियन है

यह काफी आश्चर्यजनक है कि यूएसए के पास मार्च 2020 में सिर्फ $ 129,264 मिलियन का विदेशी मुद्रा आरक्षित है।

भारत में भारत का पांचवा सबसे बड़ा विदेशी मुद्रा भंडार है।

भारतीय फ़ॉरेन एक्स्चेंज रिजर्व ने 6 मार्च, 2020 को 487 बिलियन अमेरिकी डॉलर का जीवन स्तर छू लिया था।
अर्थशास्त्रियों को लगता है कि किसी मुद्रा में फ़ॉरेन एक्स्चेंज रिजर्व रखना बेहतर है जो सीधे देश की घरेलू मुद्रा से जुड़ा नहीं है।

विदेशी मुद्रा आरक्षित अर्थव्यवस्था के स्वास्थ्य मीटर की तरह है। यदि किसी देश के पास विदेशी मुद्रा भंडार का एक अच्छा हिस्सा है, तो उसकी वित्तीय स्थिति को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बहुत अच्छा माना जाता है। तो यह फ़ॉरेन एक्स्चेंज रिजर्व के बारे में जानकारी का एक प्रकार था। हम आशा करते हैं कि पाठक फ़ॉरेन एक्स्चेंज रिजर्व के अर्थ रचना प्रयोजन और लाभों से अवगत होना चाहिए।

विदेशी मुद्रा करियर

,

बिज़नेस न्यूज डेस्क - देश का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार घट रहा है और दो साल के निचले स्तर पर आ गया है। 21 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 3.847 अरब डॉलर घटकर 524.52 अरब डॉलर रह गया। यह जानकारी भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की ओर से जारी आंकड़ों से मिली है। इससे पिछले सप्ताह विदेशी मुद्रा भंडार 4.50 अरब डॉलर घटकर 528.37 अरब डॉलर रह गया था. पिछले कई महीनों से विदेशी मुद्रा भंडार में कमी आई है। एक साल पहले अक्टूबर 2021 में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 645 अरब डॉलर के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया था। देश के मुद्रा भंडार में गिरावट का मुख्य कारण यह है कि रुपये की गिरावट को रोकने के लिए केंद्रीय बैंक विदेशी मुद्रा भंडार की मदद ले रहा है। अक्टूबर 2021 से अब तक, रुपये के मूल्यह्रास के कारण, आरबीआई ने घरेलू मुद्रा के मूल्य को गिरावट से बचाने के लिए $ 100 बिलियन से अधिक का निवेश किया है।

रिजर्व बैंक की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, मुद्रा भंडार का अहम हिस्सा मानी जाने वाली विदेशी मुद्रा आस्तियां (एफसीए) 21 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 3.593 अरब डॉलर घटकर 465.075 अरब डॉलर रह गई। आंकड़ों के मुताबिक देश का स्वर्ण भंडार मूल्य के लिहाज से 247 मिलियन डॉलर घटकर 37,206 बिलियन डॉलर हो गया। केंद्रीय बैंक ने कहा कि विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) 70 लाख डॉलर बढ़कर 17.44 अरब डॉलर हो गया। विदेशी मुद्रा भंडार की मदद से कोई भी देश जरूरत पड़ने पर अपनी मुद्रा में गिरावट को रोकने के लिए उचित कदम उठा सकता है। आयात पर निर्भर देशों पर सबसे ज्यादा असर पड़ता है। वास्तव में, मुद्रा में गिरावट से आयात महंगा हो जाता है और माल के लिए अधिक कीमत चुकानी पड़ती है। भुगतान करने की क्षमता पर प्रभाव के कारण आयात रुक जाता है और देश में माल की कमी हो सकती है।

चीन में पढ़ने वाले इंडिया के 23000 मेडिकल स्टूडेंट्स का करियर खतरे में, सरकार से मांगी मदद

स्टूडेंट्स और उनके माता-पिता इस मामले में सरकार की मदद चाहते हैं। उनका कहना है कि सरकार को इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए। अपनी मांग को लेकर स्टूडेंट्स दिल्ली में जंतर मंतर, एनएमसी ऑफिस पर प्रदर्शन कर रहे हैं

इन स्टूडेंट्स का कहना है कि जब तक वे चीन नहीं लौट जाते, उन्हें इंडिया में क्लिनिकल और प्रैक्टिकल ट्रेनिंग की इजाजत दी जाए।

चीन में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे 23,000 इंडियन स्टूडेंट्स का करियर खतरे में है। ये स्टूडेंट्स ऑफलाइन प्रैक्टिकल क्लासेज नहीं कर पा रहे हैं। इसके बगैर इंडिया में मेडिकल की उनकी डिग्री इंडिया में वैलिड नहीं मानी जाएगी। दरअसल, चीन के मेडिकल कॉलेज में प्रैक्टिकल क्लासेज ऑनलाइन चल रही हैं। लेकिन, इंडिया में नेशनल मेडिकल कमीशन (NMC) ऑनलाइन प्रैक्टिकल क्लासेज को मान्यता नहीं देता है।

इनमें से कई स्टूडेंट्स और उनके माता-पिता इस मामले में सरकार की मदद चाहते हैं। उनका कहना है कि सरकार को इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए। अपनी मांग को लेकर स्टूडेंट्स दिल्ली में जंतर मंतर, विदेशी मुद्रा करियर एनएमसी ऑफिस पर प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्रालय को भी पत्र लिखकर मदद की मांग की है।

संबंधित खबरें

संसद के कल से शुरू होने वाले शीतकालीन सत्र में नहीं पेश हो पायेंगे ये अहम बिल

Exit Poll Results: गुजरात में लगातार 7वीं बार BJP की सरकार बनने के आसार, हिमाचल में कांटे की टक्कर, पढ़िए एग्जिट पोल्स के सियासी संकेत

BR Ambedkar Death Anniversary: डॉ. बाबा साहब की पुण्यतिथि आज, ये विचार युवाओं के लिए हैं प्रेरणादायक

इन स्टूडेंट्स का कहना है कि जब तक वे चीन नहीं लौट जाते, उन्हें इंडिया में क्लिनिकल और प्रैक्टिकल ट्रेनिंग की इजाजत दी जाए। कोरोना वायरस की महामारी की वजह से चीन में पढ़ रहे मेडिकल स्टूडेंट्स दो साल से ज्यादा समय से कॉलेज से दूर हैं।

चीन के नानटोंग मेडिकल यूनिवर्सिटी में फाइनल ईयर के स्टूडेंट शहरोज खान शेरी ने कहा कि चीन में मेडिकल कॉलेज ऑनलाइन प्रैक्टिकल्स करा रहे हैं। लेकिन, हमारे लिए ये बेकार है, क्योंकि NMC इसे मान्यता नहीं देता है। उन्होंने कहा, "हम करीब 850 दिनों से कैंपस से दूर हैं। क्लासेज और प्रैक्टिकल्स ऑनलाइन हो रहे हैं। लेकिन एनएमसी की शर्त है कि ऑफलाइन प्रैक्टिकल्स और क्लिनिकल ट्रेनिंग मेडिकल यूनिवर्सिटीज में होनी चाहिए। इसलिए हम सरकार का इस मामले में हस्तक्षेप चाहते हैं।"

मेडिकल स्टूडेंट्स का एक प्रतिनिधिमंडल हाल में एनएमसी के अधिकारियों से मुलाकात की थी। कमीशन ने कहा कि वह उनकी प्रॉब्लम से अवगत है। वह मामले का समाधान निकालने की कोशिश कर रहा है। एनएमसी के अधिकारियों का कहना है कि एक ऑप्शन यह है कि इन स्टूडेंट्स को किसी तीसरे देश में ट्रांसफर कर दिया जाए। विदेश में कई यूनिवर्सिटीज और कॉलेज इस तरह की सुविधा देते हैं लेकिन इनसे कुछ शर्तें जुड़ी होती हैं।

एक स्टूडेंट ने कहा कि इंटरनेशनल एमबीबीएस प्रोग्राम के बीच में किसी तीसरे देश में ट्रांसफर करना एक ऑप्शन है, लेकिन इसकी अपनी समस्याएं हैं। चीन की शैनडोंग यूनिवर्सिटी में थर्ड ईयर की स्टूडेंट रचिता कुर्मी ने रूस में मास्को की शेचेनेव यूनिवर्सिटी में अपना ट्रांसफर कराया है। उन्होंने कहा कि इसका प्रोसेस बहुत जटिल है। इससे हमारी पढ़ाई में और एक साल की देर हो सकती है।

रेटिंग: 4.11
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 619
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *