विदेशी मुद्रा पर पैसे कैसे बनाने के लिए?

शेयर बाजार में सफल कैसे हों

शेयर बाजार में सफल कैसे हों

शेयर बाजार में सफल कैसे हों

यह पुस्तक प्रसिद्ध वित्तीय सलाहकार महेश चंद्र कौशिक का एक उत्कृष्ट कार्य है, जो खुदरा निवेशकों पर केंद्रित है और उन्हें निवेश के बारे में कारगार सुझाव देती है। लेखक ने इसमें बहुत सरल भाषा का प्रयोग किया है और तकनीकी शब्दों के प्रयोग से बचते हुए इसे समझने में सुगम और पढ़ने में दिलचस्प बना दिया है।
यह पुस्तक पढ़ने के बाद आप समझ जाएँगे कि क्यों कुछ लोग हमेशा शेयर बाजार से पैसे बनाते हैं और कुछ लोग हमेशा शेयरों में पैसे गँवाते हैं। यदि आप इस पुस्तक को कदम-दर-कदम पढ़ेंगे और इसमें दिए सुझावों का पालन करेंगे तो आप शेयर बाजार में कभी नुकसान नहीं उठाएँगे।
इस पुस्तक को पढ़ने के बाद आप जानेंगे कि कैसे शेयर बाजार में 100 डॉलर का एक आरंभिक निवेश बीस वर्षों में 7,18,03,722 डॉलर हो सकता है।
शेयर बाजार की टिप्स के लिए पैसे देना बंद करें। बस इस पुस्तक को पढ़ें तो आप स्वयं ही शेयर बाजार में जीत हासिल करने के सिद्धांत जान जाएँगे और अधिक पैसे कमाना शुरू कर देंगे।

अनुक्रम

1. अपने शेयर बाजार निवेश को
किसी खुदरा व्यापार के रूप में देखें—13

2. शेयर बाजार में 100 डॉलर के शुरुआती निवेश से
7,18,03,722 डॉलर कैसे बनाएँ?—20

3. बेस प्राइस (आधार मूल्य) सिस्टम का नवाचार—25

4. एक शेयर के मौलिक लक्ष्य मूल्य के लिए
प्रति शेयर शुद्ध मूल्य की अवधारणा—31

5. किसी स्टॉक के लक्ष्य मूल्य की
भविष्यवाणी के लिए मौलिक गणना—35

6. एक स्टॉक में अटकलों की पहचान कैसे करें?—38

7. क्या अंकित मूल्य के नीचे स्टॉक खरीदना अच्छा होता है?—41

8. निवेश के लिए शेयर का चुनाव कैसे करें?—43

9. बोनस और स्टॉक विभाजन सिर्फ निवेशकों पर
मनोवैज्ञानिक प्रभाव डालते हैं —47

10. रिवर्स ट्रेडिंग सिस्टम—49

11. लंबी अवधि की इक्विटी एस.आई.पी. में
लाभ बुक करने की मेरी सेना विधि—54

12. शेयर बाजार में जीत के स्वर्णिम नियम—57

13. शेयर बाजार में अपना निवेश कैसे बढ़ाएँ?—60

14. स्टॉक की बदलती कीमतों के मूल कारण क्या हैं?—64

15. शेयर बाजार का सबसे शेयर बाजार में सफल कैसे हों बड़ा झूठ—68

16. विकल्प कारोबार क्या है?—71

17. टी.वी. विश्लेषक हमें भ्रमित कैसे करते हैं?—75

18. व्यापारियों के लिए आध्यात्मिक सुझाव—77

19. छोटे निवेशकों के लिए आसान तकनीकी विश्लेषण—79

20. पैनी स्टॉक्स में निवेश करने के लिए मेरे मूल सिद्धांत?—82

21. शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग के लिए फॉर्मूला—85

22. म्यूचुअल फंड्स निवेश—90

23. ई.एल.एस.एस. (ELSS) में लाभांश विकल्प का चुनाव करें —93

24. म्यूचुअल फंड्स एस.आई.पी. में लाभ कैसे बुक करें?—94

25. स्टॉक होल्ड करने के मानदंड—97

26. शेयर बाजार में अपने नुकसान की पुनःप्राप्ति कैसे करें?—99

The Author

भारतीय संस्कृति के अध्येता और संस्कृत भाषा के विद्वान् श्री सूर्यकान्त बाली ने भारत के प्रसिद्ध हिंदी दैनिक अखबार ‘नवभारत टाइम्स’ के सहायक संपादक (1987) बनने से पहले दिल्ली विश्वविद्यालय में अध्यापन किया। नवभारत के स्थानीय संपादक (1994-97) रहने के बाद वे जी न्यूज के कार्यकारी संपादक रहे। विपुल राजनीतिक लेखन के अलावा भारतीय संस्कृति पर इनका लेखन खासतौर से सराहा गया। काफी समय तक भारत के मील पत्थर (रविवार्ता, नवभारत टाइम्स) पाठकों का सर्वाधिक पसंदीदा कॉलम रहा, जो पर्याप्त परिवर्धनों और परिवर्तनों के साथ ‘भारतगाथा’ नामक पुस्तक के रूप में पाठकों तक पहुँचा। 9 नवंबर, 1943 को मुलतान (अब पाकिस्तान) में जनमे श्री बाली को हमेशा इस बात पर गर्व की अनुभूति होती है कि उनके संस्कारों का निर्माण शेयर बाजार में सफल कैसे हों करने में उनके अपने संस्कारशील परिवार के साथ-साथ दिल्ली विश्वविद्यालय के हंसराज कॉलेज और उसके प्राचार्य प्रोफेसर शांतिनारायण का निर्णायक योगदान रहा। इसी हंसराज कॉलेज से उन्होंने बी.ए. ऑनर्स (अंग्रेजी), एम.ए. (संस्कृत) और फिर दिल्ली विश्वविद्यालय से ही संस्कृत भाषाविज्ञान में पी-एच.डी. के बाद अध्ययन-अध्यापन और लेखन से खुद को जोड़ लिया। राजनीतिक लेखन पर केंद्रित दो पुस्तकों—‘भारत की राजनीति के महाप्रश्न’ तथा ‘भारत के व्यक्तित्व की पहचान’ के अलावा श्री बाली की भारतीय पुराविद्या पर तीन पुस्तकें—‘Contribution of Bhattoji Dikshit to Sanskrit Grammar (Ph.D. Thisis)’, ‘Historical and Critical Studies in the Atharvaved (Ed)’ और महाभारत केंद्रित पुस्तक ‘महाभारतः पुनर्पाठ’ प्रकाशित हैं। श्री बाली ने वैदिक कथारूपों को हिंदी में पहली बार दो उपन्यासों के रूप में प्रस्तुत किया—‘तुम कब आओगे श्यावा’ तथा ‘दीर्घतमा’। विचारप्रधान पुस्तकों ‘भारत को समझने की शर्तें’ और ‘महाभारत का धर्मसंकट’ ने विमर्श का नया अध्याय प्रारंभ किया।

बिजनेस में सफलता कैसे पायें

बिजनेस में सफलता कैसे पायें जिससे कि आपका बिजनेस दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की करता रहे। एक बार बिजनेस शुरू करना आसान हो सकता है पर उसे सफल बनाना और नयी उंचाईयों पर ले जाना आसान नहीं होता है। यहां हम बतायेंगे ऐसे कुछ नियम और तरीके जिनसे समझा जा सके कि बिजनेस में सफलता शेयर बाजार में सफल कैसे हों कैसे पायें। यहां पढ़ें Business Ideas in easy Hindi हमारी साइट पर जिससे कि आप नया बिजनेस शुरू करने के आइडिया प्राप्त कर सकते हैं।

बिजनेस में सफलता कैसे पायें

बिजनेस में सफलता कैसे पायें

व्यवसाय में सफल होने के लिए आपको लचीला होना चाहिए, आपमें संगठनात्मक कौशल होना चाहिए और अपके पास एक अच्छा बिजनेस प्लान होना चाहिये । बहुत से लोग यह सोचकर कोई व्यवसाय शुरू करते हैं कि वे अपने कंप्यूटर चालू करेंगे या अपनी दुकान का दरवाजा खोलेंगे और पैसा बनाना शुरू कर लेंगे। कुछ समय बाद पता चलता है कि किसी भी व्यवसाय में पैसा बनाना उतना आसान नहीं है जितना हमने सोचा था। आप अपना थोड़ा समय लगा कर और योजना बना कर इस सब से बच सकते हैं।

नियम और अनुशासन Discipline

व्यवसाय में सफल होने के लिए आपको नियमबद्ध यानि ओर्गनाइज्ड होने की आवश्यकता है। नियम और अनुशासन आपको अपने कार्यों को पूरा करने और तत्पर बने रहने में मदद करेगा। ऐसा करने का एक अच्छा तरीका प्रत्येक दिन एक किये जाने वाले कामों की सूची बनाना है। जैसा कि आप प्रत्येक आइटम को पूरा करते हैं, इसे अपनी सूची से जांचें। यह सुनिश्चित करेगा कि आप कुछ भी नहीं भूल रहे हैं और आप उन सभी कार्यों को पूरा कर रहे हैं जो आपके व्यवसाय के अस्तित्व के लिए आवश्यक हैं।

रिकार्ड रखना Record

अपने बिजनेस में इतने व्यस्त ना हो जायें कि जरूरी आंकड़ों का रिकार्ड ही ना रख पायें। यदि खुद ना रख पायें तो किसी कर्मचारी के जरिये सभी जरूरी रिकार्ड सही से संजो कर रखें। सभी लेनदारियां और देनदारियां तथा आय और व्यय का हिसाब जरूर रखें। इससे आप किसी भूलचूक का शिकार नहीं होंगे। साथ ही आपको अब तक के अपने बिजनेस के विकास का पता तो चलेगा ही, आगे के लिये राह बनाने में भी सहायता मिलेगी।

अपने रिस्क को समझना Understanding Risk

कोई भी सफल बिजनेस बिना रिस्क उठाये नहीं हो सकता है। मगर अपने रिस्क को समझना जरूरी है। कोई भी नया कदम उठाने से पहले उसमें छिपे रिस्क को समझ लें और पता करें कि इसमें अधिकतम रिस्क कितना है। अब यह भी समझ लें कि इतना रिस्क मैं ले सकता हूं या नहीं। इस प्रकार का सीमित जोखिम आपको जबर्दस्त पुरस्कार दे सकता है।

रचनात्मक बनें Be Crative

हमेशा अपने व्यवसाय को बेहतर बनाने के लिए और प्रतियोगी से कुछ अलग करने के तरीके खोजते रहें। आप जो नहीं जानते उसे सीखने की कोशिश करें हैं और नए विचारों और अपने व्यवसाय के लिए नए दृष्टिकोणों का हमेशा स्वागत करें।

फोकस रखें Focus

प्यासे कौवे की पुरानी कहानी है कि एक एक कंकड़ डाल कर ही घड़ा भरता है। सिर्फ इसलिए कि आपने व्यवसाय शुरू कर लिया है इसका मतलब यह नहीं है कि आप तुरंत पैसा बनाना शुरू कर देंगे। हर काम में समय लगता है इसलिए घबरायें नहीं और अपने शेयर बाजार में सफल कैसे हों लक्ष्यों को प्राप्त करने पर ध्यान केंद्रित रखें।

बलिदान करें Sacrifice

बलिदान करने के लिए तैयार रहें। व्यवसाय शुरू करना कठिन काम है, लेकिन अब जब बिजनेस शुरू हो गया है तो आपका काम शुरू हो गया है। कई मामलों में, आपको अधिक शेयर बाजार में सफल कैसे हों समय देना होगा, इसका मतलब यह है कि हो सकता है कि सफल होने के लिए अपको परिवार और दोस्तों के साथ बिताने के लिये कम समय मिले। कई बार रातें भी काली करनीं पड़ सकतीं हैं।

बेहतर सेवायें प्रदान करें Provide शेयर बाजार में सफल कैसे हों Better Services

अपने ग्राहक को अपने प्रतियोगी से बेहतर सेवायें प्रदान करें जिससे कि अगली बार से हमेशा वो आपके पास ही आये। मैंने एक पु्स्तक में पढ़ा था कि एक दर्जन में तेरह अंडे होते हैं। इस किताब में एक दुकानदार दर्जन अंडे मांगने पर दर्जन अंडे की कीमत में तेरह अंडे देता था। बताने की जरूरत नहीं है कि क्षेत्र के सभी ग्राहक उसी के पास ही जाते थे। आपने ग्राहक को कुछ अधिक दें, चाहे डिस्काउंट हो या कोई ईनाम। और हां, अपने चेहरे पर हमेशा एक मुस्कान जरूर बना कर रखें।

नियमितता Consistency

आपको मेहनत करनी है और निरंतरता और नियमतता के साथ। अनमना पन कभी पूर्ण सफलता नहीं दिलवा सकता। आपको लगातार ऐसा कुछ करना होगा जो आपको सफलता के निकट पहुंचने में आवश्यक है। इससे आप में दीर्घकालिक सकारात्मक आदतों का विकास होगा जो आपको लंबे समय में पैसा बनाने में मदद करेगा।

आप कैसा भी बिजनेस चला रहे हों, यहां बिजनेस में सफलता कैसे पायें में दिये गये टिप्स आपको सफलता प्राप्त करने में अवश्य मदद करेंगे।

"शेयर बाजार में पैसा बनाना आसान नहीं", Zeordha के सीईओ नितिन कामत ने निवेश को लेकर दी ये सलाह

(Zerodha) के सीईओ नितिन कामत (Nithin Kamath) नितिन कामत ने कहा कि सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर्स ने ऐसा महसूस कराया है कि शेयर बाजार से पैसा कमाना बहुत आसान है, जबकि ऐसा नहीं है

देश के सबसे बड़े स्टॉक ब्रोकिंग फर्म जीरोधा (Zerodha) के को-फाउंडर और सीईओ नितिन कामत (Nithin Kamath) का कहना है कि वित्तीय रूप से स्वतंत्र होने के लिए जरूरी है, जितनी जल्दी हो सके उतना जल्दी निवेश करने की आदत डालनी चाहिए। मनीकंट्रोल (Moneycontrol) के साथ एक बातचीत में कामत में पैसों से जुड़े अपने कुछ व्यक्तगित अनभुव साझा किए। साथ ही ट्रेडिंग के अपने शुरुआती दिनों से लेकर जीरोधा को शुरू करने तक के बीच में सीखी बातों को शेयर किया। पेश हैं बातचीत के संपादित अंश:

सवाल: फिनफ्लुएंसर्स (फाइनेंशियल इंफ्लूएंसर्स) के इस जमाने में, लोगों के लिए पैसों कों संभालने से जुड़ी जरूरी जानकारी हासिल करने का शेयर बाजार में सफल कैसे हों सही तरीका क्या हो सकता है।

जवाब: इन्फ्लुएंसर्स ने ऐसा महसूस कराया है कि शेयर बाजार से पैसा कमाना बहुत आसान है, जबकि ऐसा नहीं है। हम एक बुल मार्केट के बीच में हैं, और एक कहावत है कि एक बुल मार्केट में एक मूर्ख भी बहुत स्मार्ट महसूस करता है क्योंकि इस दौरान सब ऊपर की तरफ जाता है। पिछले दो-तीन सालों से हम जो बुल मार्केट देख रहे हैं, वैसा कई दशकों में एक बार आता है।

संबंधित खबरें

'Elon Musk की नकल कर के छंटनी करने वाले फाउंडर्स कर जाते हैं ये बड़ी गलती', अशनीर ग्रोवर ने क्यों कहा ऐसा?

एयर इंडिया फ्लाइट्स में प्रीमियम इकोनॉमी क्लास शुरू करेगी: CEO Campbell Wilson

Zomato layoffs updates: Zomato ने एंप्लॉयीज को नौकरी से निकालना शुरू किया, 3% कर्मचारियों के होंगे इस्तीफे

शेयर बाजार में पैसा कमाना आसान नहीं है। यहां निवेश शुरु करने का एक सही तरीका इंडेक्स म्यूचुअल फंड हो सकता है। फिर एक बार जब आप बाजार पर नजर रखना शुरू कर देते हैं तो जाहिर तौर पर एक किसी खास सेक्टर में आपकी दिलचस्पी काफी बढ़ जाएगी।

उदाहरण के लिए, जब मैंने शुरुआत की, तो फाइनेंशियल सर्विसेज मार्केट मुझे पंसद आया और मैं इस निगरानी लगने लगा। जैसे NBFC फर्में क्या कर रही हैं, ब्रोकर्स क्या कर रहे हैं आदि। जब आप किसी खास सेक्टर के समीकरण और उसके बिजनेस मॉडल को समझने लगते हैं, मेरी राय में तभी आपको शेयरों में सीधे निवेश करना चाहिए। कोई भी स्टॉक टिप्स के जरिए लंबी अवधि में पैसा नहीं कमा सकता है।

सवाल: महंगाई, मंदी और बड़े पैमाने पर छंटनी के बीच कोई जॉब मार्केट के लिए खुद को बेहतर तरीके से कैसे तैयार रखे?

जवाब: चाहे कैसी भी मंदी आ जाए, अच्छे और कुशल लोगों की हमेशा मांग रहेगी। इसलिए जब आप कॉलेज में हों, तो यह जानना बेहद अहम है कि आपकी किसमें दिलचस्पी है, आप किन चीजों से प्यार करते हैं और फिर आप उसमें सबसे बेहतर हो जाते हैं। यह कुछ भी हो सकता है। उदाहरण के लिए - यदि आप पॉडकास्ट होस्ट करना पसंद करते हैं, तो इसे नियमित करें। आप इसमें धीरे-धीरे बेहतर होते जाएंगे और आपके लिए अवसरों के द्वार खुल जाएंगे।

जल्दी बचत शुरू करने और अधिक खर्च का लालच न करने से आपको अपने लिए वित्तीय सुरक्षा बनाने में मदद मिलेगी।

सवाल: आप उस व्यक्ति को क्या सलाह देंगे जो अपना खुद का कारोबार शुरू करना चाहता है?

जबाव: बिजनेस खड़ा करना काफी कठिन है। पिछले 3-4 सालों में, स्टार्टअप सेक्टर में उछाल आया है, जिससे लोग यह मानने बिजनेस शुरू करना एक आसान काम है। बिजनेस करना - लोगों से अपने उत्पादों और सेवाओं के बदले पेमेंट लेना असल में सबसे कठिन कार्य है। लोगों का मानना ​​है कि किसी बिजनेस को एक खास वैल्यूशएन तक पहुंचा देना, सफल बिजनेस को खड़ा करने के बराबर है। जो सच नहीं है। कोई बिजनेस तभी बिजनेस है, जब यह सकारात्मक कैश फ्लो बनाना शुरू कर देता है- यानी आप जो इस पर खर्च कर रहे हैं, आपकी कमाई उससे अधिक है।।

आज आत्रंप्रेन्योर्स को लगभग हीरो की तरह देखा जाता है। हर कोई उनकी तरफ बनना चाहता है। ऐसे में यह जानना अहम है कि यह वास्तव में मेहनक का काम है।

कौन सा बिजनेस शुरू करें, यह सोचने के लिए सही तरीका यह है कि युवा पहले उस समस्या के साथ आए, जिससे वे खुद महसूस करते हैं। फिर उससे जुड़ी न्यूनतम स्किल को हासिल करें। ऐसा इसलिए क्योंकि लकड़ी काटने से पहले यह जरूरी है कि आपको कुल्हाड़ी पर धार तेज करना आनी चाहिए।

सवाल: वित्तीय स्वतंत्रता कैसे हासिल की जा सकती है?

जवाब: जितनी जल्दी हो सके, उतना जल्दी निवेश शुरू करें। इसे अपनी आदत बना लें। तब तक उधार न लें, जब तक कि यह आपके जीवन में बहुत बड़ा बदलाव ला रहा हो। निवेश में विविधता लाएं। यानी कि सभी अंडों को एक ही टोकरी में न डालें।

Moneycontrol News

Moneycontrol News

First Published: Nov 17, 2022 7:48 PM

हिंदी में शेयर बाजार, Stock Tips, न्यूज, पर्सनल फाइनेंस और बिजनेस से जुड़ी खबरें सबसे पहले मनीकंट्रोल हिंदी पर पढ़ें. डेली मार्केट अपडेट के लिए Moneycontrol App डाउनलोड करें।

सफल दिन के कारोबार के लिए शीर्ष 7 इंट्राडे टिप्स

व्यापार की दुनिया में,इंट्राडे ट्रेडिंग अपना स्थान बनाता है। इंट्राडे शब्द का अर्थ ही 'दिन के भीतर' होता है। इसका उपयोग स्टॉक और एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड का वर्णन करने के लिए किया जाता है (ईटीएफ) में दिन के दौरान कारोबार कर रहे हैंमंडी. इंट्राडे ट्रेडिंग दिन भर में कारोबार किए गए शेयरों के साथ-साथ उतार-चढ़ाव भी दिखाती है। जब एक 'नया इंट्राडे हाई' होता है, तो यह दर्शाता है कि ट्रेडिंग सीजन में अन्य कीमतों की तुलना में सुरक्षा एक उच्च स्थान पर पहुंच गई है।

Top 7 Intraday Tips

एक इंट्राडे ट्रेडर के रूप में, आपको सफल होने के लिए कई पहलुओं को ध्यान में रखना होगा। यह लेख आपको एक सफल इंट्राडे ट्रेडर बनने की युक्तियों के बारे में सूचित करेगा। अपने मोबाइल पर ये निःशुल्क इंट्राडे टिप्स प्राप्त करें।

ट्रेडिंग के लिए सर्वश्रेष्ठ इंट्राडे टिप्स

1. स्टॉक ट्रेडिंग उच्च खरीदें

यदि आप एक इंट्राडे ट्रेडर हैं या एक बनना चाहते शेयर बाजार में सफल कैसे हों हैं, तो एक महत्वपूर्ण पहलू पर ध्यान देना चाहिए - एक ही दिन में स्टॉक खरीदना और बेचना। हां, इंट्राडे ट्रेडर स्टॉक को उसी दिन बेचने के इरादे से खरीदते हैं। हालांकि, इसका अनूठा पहलू यह है कि एक इंट्राडे ट्रेडर वास्तव में कभी भी स्टॉक नहीं खरीदता है या डिलीवरी नहीं लेता है। जब कोई स्टॉक खरीदा जाता है और बंद होने की स्थिति के लिए स्टॉक को बेचा जाता है, तो एक 'ओपन पोजीशन' बनाई जाती है। अन्यथा, व्यापारी को इसके लिए भुगतान करना होगा और बाद की तारीख में इसे बेचना होगा। यह ठीक तब होता है जब ट्रेडिंग वॉल्यूम फोकस में आता है। यह किसी विशेष फर्म के शेयरों की कुल संख्या को संदर्भित करता है जिसका एक दिन में कारोबार होता है। यह ट्रेडर की पोजीशन खोलने की क्षमता में परिलक्षित होता है।

इंट्राडे ट्रेडर्स आमतौर पर स्टॉक की कीमत पर ध्यान केंद्रित करते हैं क्योंकि मुख्य फोकस इसे कम खरीदना और इसे अधिक बेचना है। यह फोकस आमतौर पर अधिकांश इंट्राडे व्यापारियों को स्टॉक वॉल्यूम को अनदेखा करने का कारण बनता है।

एक इंट्राडे ट्रेडर के रूप में, आपको उच्च ट्रेडिंग वॉल्यूम वाले कुछ शेयर खरीदने चाहिए क्योंकि यह आपको बनाए रखने में मदद करता हैलिक्विडिटी अन्यथा, कम ट्रेडिंग स्टॉक आपकी लिक्विडिटी होल्डिंग्स को कम कर देंगे।

2. सहज निर्णय न लें

एक इंट्राडे ट्रेडर के रूप में, सुनिश्चित करें कि आवेग पर निर्णय न लें। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह महत्वपूर्ण है कि आप प्रवेश करने से पहले बाजार में प्रवेश करने और बाहर निकलने की कीमत जान लें। हां, आपको एक ऐसी स्थिति का सामना करना पड़ेगा जहां बाजार की बदलती प्रकृति के कारण आप आवेग में निर्णय ले सकते हैं। हालाँकि, मुद्दा यह है कि ऐसी परिस्थितियों को आप बिना सोचे-समझे निर्णय लेने के लिए प्रेरित न करें, जिसके लिए आपको बाद में पछताना पड़ सकता है। आखिर यह आपकी मेहनत की कमाई है। इसलिए, ट्रेडिंग से पहले इस बात का अंदाजा लगा लें कि आप क्या खरीद रहे हैं और लक्ष्य मूल्य निर्धारित कर शेयर बाजार में सफल कैसे हों लें।

लक्ष्य मूल्य और खरीद मूल्य दो मुख्य तरीके हैं जिनसे आप मूल्य को समझ सकते हैं। आपका लक्षित मूल्य उस दिन स्टॉक के अपेक्षित मूल्य से थोड़ा कम होना चाहिए। जब कीमत गिरती है और क्षैतिज क्षेत्र में पहुंच जाती है तो आपको स्टॉक खरीदना चाहिए।

हालांकि, याद रखें कि मूल्यों को निर्धारित करने के लिए कोई कठिन और तेज़ सूत्र नहीं है। यह अनुभव और निरंतर सीखना है जो आपको सही संयोजन खोजने में मदद करेगा जो आपके लिए काम करता है।

3. ट्रेडिंग से पहले 1 घंटे तक प्रतीक्षा करें

कई व्यापारी आमतौर पर सुबह बाजार की स्थिति खुलते ही लेने की दौड़ में होते हैं। यह विचार करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण इंट्राडे युक्तियों में से एक है। ऐतिहासिक रूप से कहें तो, ज्यादातर कीमतों में उतार-चढ़ाव बाजार खुलने के पहले घंटे और बंद होने के आखिरी घंटे के दौरान होता है। सुबह में, व्यापारी पिछले दिन से बाजार के प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया दे रहे होंगे।

यह कीमतों को बाधित कर सकता है और शुरुआती और यहां तक कि मध्यवर्ती भी घबरा सकता है। लेकिन चिंता मत करो। सुनिश्चित करें कि आप इस दौड़ में तब तक नहीं कूदें जब तक कि आपके पास पहले घंटे में कैसे लाभ हो सकता है, इस बारे में अच्छी तरह से शोध की गई समझ और विचार न हो। सुबह ट्रेडिंग करना काफी महंगा होता है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, नए व्यापारियों को दोपहर 1 बजे से पहले बेचने की सलाह दी जाती है क्योंकि ज्यादातर व्यापारी दोपहर 2 बजे के बाद मुनाफावसूली शुरू करते हैं। इसलिए, यदि आप इंट्राडे ट्रेडिंग की दुनिया में नए हैं, तो सुबह 11 बजे या 11:30 बजे के बाद अपना स्टॉक खरीदें और इसे दोपहर 1 बजे से पहले बेच दें।

4. अफवाहों पर भरोसा न करें

अफवाहें आग की तरह फैलती हैं क्योंकि आज संचार के सभी साधन इंटरनेट और टेलीविजन पर बड़े पैमाने पर काम करते हैं। विश्वसनीय स्रोतों से प्राप्त होने वाली किसी भी जानकारी को क्रॉस-चेक करना सुनिश्चित करें। अपने शोध को हमेशा अपडेट करते रहें ताकि आप अफवाहों के शिकार न हों जिससे भारी नुकसान हो सकता है।

5. सीखते रहो

यदि आप एक सफल इंट्राडे ट्रेडर बनना चाहते हैं, तो सुनिश्चित करें कि कभी भी सीखना बंद न करें। यहां पहुंचने की कोई सीमा नहीं है। शेयर बाजारों और बार-बार होने वाले परिवर्तनों के बारे में सीखते रहें और यह कैसे कामकाज को प्रभावित करता है। सफल व्यापारियों और निवेशकों की किताबें, ब्लॉग पोस्ट पढ़ें और समझें कि उन्होंने विभिन्न व्यापारिक स्थितियों से कैसे निपटा है। कौरसेरा, उडेमी और अन्य स्वतंत्र पाठ्यक्रमों जैसी वेबसाइटों से ऑनलाइन पाठ्यक्रम लें जो आपको व्यापार के बारे में हर चीज के संपर्क में रहने में मदद करेंगे।

इस इंट्राडे टिप के साथ बने रहें और समय के साथ, आप ट्रेडिंग के लिए अपनी खुद की रणनीति के साथ आने में सक्षम होंगे और वहां से सब कुछ ऊपर है।

6. लिक्विड स्टॉक्स के लिए जाएं

इंट्राडे ट्रेडिंग को चालू रखने के लिए लिक्विड स्टॉक खरीदना सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से एक है। बाजार में पर्याप्त तरलता होनी चाहिए, शेयर बाजार में सफल कैसे हों इसलिए, एक इंट्राडे ट्रेडर के रूप में इससे दूर रहना सुनिश्चित करेंछोटी टोपी तथामिड कैप फंड जिनके पास पर्याप्त तरलता नहीं है। यदि ऐसा नहीं किया जाता है, तो हो सकता है कि आप स्क्वायरिंग ऑफ ऑर्डर निष्पादित करने में सक्षम न हों और आपको इसके बजाय डिलीवरी के लिए जाना होगा।

इसके अलावा, याद रखें कि कभी भी अपने ट्रेडिंग पैसे को एक ही स्टॉक में निवेश न करें। इसे एक महत्वपूर्ण इंट्राडे टिप मानें। अपनी खरीदारी में विविधता लाएं और जोखिम कम करें।

7. अपनी पसंदीदा कंपनियों पर शोध करें

किसी कंपनी से सिर्फ इसलिए निवेश या स्टॉक न खरीदें क्योंकि आपको यह पसंद है। इससे बेख़बर और पक्षपाती निर्णय हो सकते हैं जो आमतौर पर नुकसान में समाप्त हो सकते हैं। हमेशा प्रबंधन, खर्चों के बारे में अपना शोध करें,निवल मूल्य, कुल बिक्री,आय, आदि पर निर्णय लेने से पहलेकहां निवेश करें.

पूछे जाने वाले प्रश्न

1. क्या इंट्राडे ट्रेडिंग और रेगुलर ट्रेडिंग में कोई अंतर है?

हां, दोनों में थोड़ा अंतर है। शेयरों की डिलीवरी के समय का अंतर है। जब कोई व्यापार उसी दिन स्वामित्व को व्यापार में बदले बिना किया जाता है, तो यह इंट्राडे ट्रेड होता है। हालांकि, अगर यह कई दिनों, महीनों, वर्षों की अवधि में किया जाता है तो यह नियमित व्यापार होता है।

2. मैं एक नियमित व्यापारी हूं। क्या मैं इंट्राडे ट्रेडिंग में भाग ले सकता हूं?

हां, आप इंट्राडे ट्रेडिंग में भाग ले सकते हैं। कोई उम्र या लिंग पट्टी नहीं है। हालाँकि, यदि आपके पास एक दिन का काम है, तो भाग लेने से बचना चाहिए क्योंकि इंट्राडे ट्रेडिंग का मूल दिन में ट्रेडिंग करना है।

3. इंट्राडे ट्रेडिंग में मुझे कौन से स्टॉक पसंद करने चाहिए?

ऐतिहासिक रूप से और यहां तक कि रिपोर्टों के अनुसार, उच्च तरलता वाले शेयरों की तलाश करना उचित है।

निष्कर्ष

सभी युक्तियों को ध्यान में रखना सुनिश्चित करें और यदि आप एक सफल इंट्राडे ट्रेडर बनना चाहते हैं तो इसे लागू करें।

Indore News: शेयर बाजार में निवेश करना व्यापार करने जैसा ही है इसलिए सही ज्ञान होना जरूरी

Indore News: शेयर बाजार में निवेश करना व्यापार करने जैसा ही है इसलिए सही ज्ञान होना जरूरी

इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि) Indore News। इंस्टीट्यूट आफ चार्टर्ड अकाउंटेंट आफ इंडिया (आइसीएआइ) इंदौर ब्रांच ने शनिवार को पोस्ट कोविड मार्केट आउटलुक विषय पर फिजिकल एवं वर्चुअल सेमिनार आयोजित किया। इसमें 100 से ज्यादा चार्टर्ड अकाउंटेंट शामिल हुए। मुख्य अतिथि गाजियाबाद के सेंट्रल काउंसिल सदस्य सीए अनुज गोयल और रीजनल काउंसिल चेयरमैन सीए नीलेश गुप्ता थे। इंदौर ब्रांच के चेयरमैन सीए कीर्ति जोशी ने कहा कि शेयर बाजार में ट्रेडिंग एक तरह से व्यापार है और सही ज्ञान एवं सटीक प्लान के बिना कोई शेयर बाजार में सफल कैसे हों भी व्यक्ति व्यापार में सफल नहीं हो सकता। केवल कुछ किताबें या वाट्सएप की जानकारी पढ़कर ट्रेडिंग में आ जाने से काम नहीं चल सकता। केवल ब्रोकरेज अकाउंट खोलकर और चार्टिंग प्रोग्राम खरीदकर शेयर बाजार में पैसा लगा देने से सफलता नहीं मिल सकती, उल्टे इससे नुकसान का डर ज्यादा होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि स्टडी के अनुसार मार्केट में शेयर ट्रेडिंग के व्यापार में केवल एक फीसदी लोगों को ही सफलता मिली है।

Iztima in Bhopal : इज्तिमा में पहुंचीं जमातें, नगर निगम और जिला प्रशासन ने की चाक-चौबंद व्यवस्थाएं

नागपुर से आए सीए अमित चांडक ने कहा कि कोई भी व्यक्ति मार्केट में निवेश करते समय सबसे पहले यह पूछता है कि मार्केट में क्या चल रहा है। यानी की मार्केट सेंटीमेंट्स पर चलता है। इसी कारण आठ माह में लाकडाउन के बाद किसी भी कंपनी के फंडामेंटल में कोई विशेष परिवर्तन नहीं आया है। हालांकि मार्केट में तेजी दिखाई दे रही है। ऐसा इसलिए क्योंकि आत्मनिर्भर भारत के कारण भी सेंटीमेंट्स में बदलाव आया है। यदि हम 1991 से 1997 तक के शेयर मार्केट को देखें तो ऐसी इंडस्ट्रीज के शेयर्स में तेजी थी जिसमे अत्यधिक पूंजी निवेश की आवश्यक्ता होती है। 1998 से आइटी एवं टेलीकम्युनिकेशन इंडस्ट्री के शेयर्स में तेजी का समय था एवं अब फिर से ऐसी कंपनियों की ओर फोकस दिख रहा है जो मेन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री हैं।

Indore News : एमवाय अस्पताल में जयपुर फुट और अन्य सहायक उपकरणों के केंद्र का शुभारंभ आज

सीए अंकुर सोडानी ने कहा कि शेयर बाजार में अगर ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो उसमें एंट्री का रास्ता आसान है लेकिन आपको सही स्ट्रेटेजी पर काम करना जरूरी होगा। इसके लिए यह तय करना होगा कि आप कितना रिस्क लेने की क्षमता रखते हैं और आपके निवेश का लक्ष्य क्या है। आपका कैपिटल अलोकेशन क्या है। आप शार्ट टर्म या लांग टर्म के लिए निवेश करना चाहते हैं यह सब तय होना चाहिए। एल्गो ट्रेडिंग पर दिल्ली के सीए सुजाय जैन ने कहा कि एल्गो ट्रेडिंग हिस्टोरिकल डाटा पर कार्य करता है और उस आधार पर रिजल्ट देता है जो हर बार सही नहीं हो सकता। अमेरिका में वर्ष 2010 का फ्लैश क्रैश इसका सबसे बड़ा उदाहरण है, क्योंकि वर्ष 2010 में एक साफ्टवेयर की गड़बड़ से पूरा मार्केट गिर गया था।

Health Tips : फल-सब्जी के सेवन से पहले क्या-क्या सावधानी रखें, जानियां यहां

अल्गोरिदम ट्रेडिंग में मानव का कम इन्वाल्वमेंट होने की वजह से रिस्क और बढ़ जाती है एवं इसमें छोटे निवेशकों को नुकसान हो सकता है। सीएस अर्पित भार्गव ने कहा की जब भी आप निवेश का प्लान कर रहे हों तो आपकी सोच बहुत क्लियर होना चाहिए एवं अफवाह एवं नकारात्मक खबरों को लेकर एक दम से कोई भी निर्णय नहीं लेना चाहिए। निवेश में बेहतर रिटर्न आपके आत्मविश्वास को बढ़ाता है लेकिन आत्मविश्वास और अति आत्मविश्वास के बीच एक अंतर है जिसे समझना बहुत आवश्यक है। भावनाओं में आकर ट्रेडिंग नहीं करना चाहिए। कार्यक्रम का संचालन सीए समकित भंडारी ने किया। कार्यक्रम में सीए पंकज शाह, सीए अभय शर्मा, सीए मनोज गुप्ता सहित कई सदस्य मौजूद थे।

रेटिंग: 4.43
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 438
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *