बाइनरी ऑप्शन टिप्स

आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है?

आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है?

Oops! Page not found

This website uses cookies in order to improve user experience. If you close this box or continue browsing, we will assume you agree with this. For more information about the cookies we use or to find out how you can disable cookies, click here

In The Press

See what the media has to say about DNBC

About Us

We are always proud of being an experienced Financial Institution in the global financial payment market.

We provide the Best International Money Transfer Services. DNBC Financial Group can assist you with different payment methods, whether it is a personal account or आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? a business account.

रुपए के मूल्य में गिरावट के मायने

व्यापक व्यापार घाटे के साथ हाल ही में विदेशी मुद्रा भंडार में कमी के कारण भारतीय रुपए के मूल्य में गिरावट दर्ज़ की गई और कुछ ही समय पहले यह अब तक के निचले स्तर पर पहुँच गया। रुपए के मूल्य में आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? हो आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? रही गिरावट आम आदमी से लेकर अर्थव्यवस्था तक सभी के लिये चिंता का विषय बनी हुई है। ऐसे में यह जानकारी होना आवश्यक है कि रुपए के मूल्य में हो रही गिरावट के मायने क्या हैं?

रुपया कमज़ोर या मज़बूत क्यों होता है?

  • विदेशी मुद्रा भंडार के घटने या बढ़ने का असर किसी भी देश की मुद्रा पर पड़ता है। चूँकि अमेरिकी डॉलर को अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा माना गया है जिसका अर्थ यह है कि निर्यात की जाने वाली सभी वस्तुओं की कीमत डॉलर में अदा की जाती है।
  • अतः भारत की विदेशी मुद्रा में कमी का तात्पर्य यह है कि भारत द्वारा किये जाने वाले वस्तुओं के आयात मूल्य में वृद्धि तथा निर्यात मूल्य में कमी।
  • उदहारण के लिये भारत को कच्चा तेल आदि खरीदने हेतु मूल्य डॉलर के रूप में चुकाना होता है, इस प्रकार भारत ने अपने विदेशी मुद्रा भंडार से जितने डॉलर खर्च कर तेल का आयात किया उतना उसका विदेशी मुद्रा भंडार कम हुआ इसके लिये भारत उतने ही डॉलर मूल्य की वस्तुओं का निर्यात करे तो उसके विदेशी मुद्रा भंडार में हुई कमी को पूरा किया जा सकता है। लेकिन यदि भारत से किये जाने वाले निर्यात के मूल्य में कमी हो तथा आयात कीमतों में लगातार वृद्धि हो रही हो तो ऐसी स्थिति में डॉलर खरीदने की ज़रूरत होती है तथा एक डॉलर खरीदने के लिये जितना अधिक रुपया खर्च होगा वह उतना ही कमज़ोर होगा।

विदेशी मुद्रा भंडार क्या है?

प्रत्येक देश के पास दूसरे देशों की मुद्रा का भंडार होता है, जिसका आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? प्रयोग वस्तुओं के आयत –निर्यात में किया जाता है, इसे ही विदेशी मुद्रा भंडार कहते हैं। भारत में समय-समय पर इसके आंकडे भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी किये जाते हैं।

आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है?

अपनी उंगलियों पर दैनिक लाइव विदेशी मुद्रा संकेत

विदेशी मुद्रा संकेत, या "व्यापारिक आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? विचार" यह है कि हम कैसे विदेशी मुद्रा व्यापारी बाजार में अपना जीवन यापन करते हैं। हमारे तकनीकी विश्लेषक हर दिन सर्वोत्तम उच्च संभावना व्यापार व्यवस्था की तलाश करते हैं। हम सभी विश्लेषण करते हैं ताकि आपको चार्ट से बंधे न रहना पड़े।

अंदर विदेशी मुद्रा व्यापार कक्ष, हमारे व्यापारी विदेशी मुद्रा संकेतों और व्यापारिक विचारों को साझा करेंगे जो वे प्रत्येक दिन विशिष्ट के साथ ले रहे हैं एंट्री प्राइस, स्टॉप लॉस, टेक प्रॉफिट टारगेट, और जब वे लाभ ले रहे हों, जोखिम कम कर रहे हों, या व्यापार से पूरी तरह से बाहर निकल रहे हों, तो अपडेट।

इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि हमारे विश्लेषक आपको लाइव वीडियो और चार्ट विश्लेषण के माध्यम से गहराई से स्पष्टीकरण प्रदान करेंगे क्यों वे व्यापार ले रहे हैं, क्यों वे कुछ निश्चित मूल्य स्तर चुन रहे हैं, और कैसे आप उन्हें अपने दम पर पहचान सकते हैं। हमारा लक्ष्य आपको यह सिखाना है कि हम कीमत में देखे जाने वाले इन आवर्ती पैटर्नों को कैसे ढूंढते हैं, आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? ताकि आप एक बेहतर और अधिक सुसंगत व्यापारी बन सकें।

2015 से हमारा पिछला प्रदर्शन

पिछले परिणाम

ट्रेडिंग रूम

विदेशी मुद्रा सिग्नल क्या हैं?

विदेशी मुद्रा सिग्नल या 'व्यापार विचार' व्यापार सेटअप हैं जो आपके अनुसरण के लिए एक उच्च संभावना और अच्छे जोखिम-से-पुरस्कार परिदृश्य प्रदान करते हैं। वे विशिष्ट प्रवेश मूल्य, टेक प्रॉफिट (टीपी) लक्ष्य और स्टॉप लॉस (एसएल) प्रदान करते हैं। एक प्रवेश मूल्य वह है जहां हम व्यापार में प्रवेश करते हैं। टेक प्रॉफिट वह कीमत है जिसके बारे में हमें विश्वास है कि कीमत जाएगी, और स्टॉप लॉस वह है जहां हम अपने नुकसान को कम करते हैं यदि व्यापार हमारे अनुसार नहीं होता है। विदेशी मुद्रा व्यापार संभावनाओं का एक खेल है, और हालांकि नुकसान खेल का हिस्सा हैं, क्या मायने रखता है कि हमारे जीतने वाले व्यापार हमारे नुकसान से अधिक हैं, जो हमने 2015 से किया है।

फॉरेक्स सिग्नल किसके लिए हैं?

किसी भी अनुभव स्तर पर व्यापारियों के लिए विदेशी मुद्रा संकेत बहुत अच्छे हैं। शुरुआती से मध्यवर्ती से उन्नत व्यापारियों तक, विदेशी मुद्रा संकेत विभिन्न तरीकों से उपयोगी हो सकते हैं। लेकिन आम तौर पर वे उन लोगों के लिए सबसे उपयोगी होते हैं जिनके पास पूरे दिन मूल्य चार्ट की निगरानी के लिए बहुत समय नहीं होता है। हम आपको विदेशी मुद्रा संकेत के रूप में बाजार में दिखाई देने वाले सेटअप भेजकर चार्ट के सामने समय बचाने में आपकी सहायता करते हैं। यदि आप निम्न में से किसी भी श्रेणी में आते हैं तो आप हमारे विदेशी मुद्रा संकेतों का उपयोग कर सकते हैं:

शुरुआती व्यापारी:

आपके पास कोई अनुभव नहीं है और आप ट्रेडिंग शुरू करना चाहते हैं। या शायद आप व्यापार के लिए अपेक्षाकृत नए हैं और अभी भी चीजों का पता लगा रहे हैं। हमारे विदेशी मुद्रा आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? संकेत आपके व्यापार के लिए एक 'सेट और भूल जाओ' समाधान प्रदान करेंगे। हालाँकि, यह अकेले आपको एक अच्छा व्यापारी बनने में मदद नहीं करेगा। यह केवल आपको चार्ट देखने और ट्रेड करने की आदत डालने में मदद करेगा। यह आपको यह भी सिखाएगा कि समान व्यापार व्यवस्थाओं का पता कैसे लगाया जाए।

हारने वाला व्यापारी:

आप 3-12 महीनों से, या शायद अधिक समय से व्यापार कर रहे हैं (या व्यापार करने की कोशिश कर रहे हैं)। आप अभी भी एक अच्छी ट्रेडिंग रणनीति की तलाश में हैं जो आपके लिए काम करेगी। हमारे विदेशी मुद्रा संकेत आपको इस बात का बोध कराएंगे कि हम अपने लक्ष्य कहां निर्धारित करना चाहते हैं और नुकसान को रोकना चाहते आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? हैं, साथ ही दिन के समय में हम एक व्यापार में प्रवेश करना चाहते हैं।

हमारी शैक्षिक पुस्तकालय आपको यह भी सिखाएगी कि एक पेशेवर की तरह चार्ट कैसे बनाया जाए। आप सीखेंगे कि मार्केट स्ट्रक्चर ब्रेक जैसे पैटर्न की पहचान कैसे करें, और तरलता पर आकर्षित करें। आप सीखेंगे कि अपने व्यापार में अच्छा जोखिम प्रबंधन कैसे लागू करें और अपनी पूंजी का प्रबंधन कैसे करें ताकि आप अपना खाता उड़ा सकें।

ब्रेक-ईवन ट्रेडर:

आपके पास 1-3 साल का ट्रेडिंग अनुभव है। हालांकि, आपको अभी तक एक वास्तविक व्यापारिक बढ़त नहीं मिली है और आप अपनी रणनीतियों के साथ लगातार लाभप्रद हैं। आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? हम आपको यह दिखाने में मदद करेंगे कि प्रो ट्रेडर्स फॉरेक्स सिग्नल में क्या खोजते हैं और विश्लेषण भी जो इसका समर्थन करता है।

हमारी एजुकेशनल लाइब्रेरी आपको कई टिप्स और ट्रिक्स भी दिखाएगी आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? जिन्हें आप अपनी ट्रेडिंग रणनीति में लागू कर सकते हैं जो आपको उच्च संभावना वाले ट्रेड सेटअप प्रदान करेंगे। आपको लाभदायक ट्रेडर टियर में धकेलने के लिए बस थोड़ी और चटनी की आवश्यकता है।

लाभदायक व्यापारी:

आप पहले से ही एक निरंतरता और लाभदायक व्यापारी बनने की स्थिति हासिल कर चुके हैं, लेकिन आप जानते हैं कि सुधार के लिए हमेशा जगह है। हो सकता है कि आप स्मार्ट मनी ट्रेडिंग अवधारणाओं के साथ अपनी बढ़त में सुधार करना चाह रहे हों। या आप चार्ट पर समय बचाने में मदद करने के लिए विदेशी मुद्रा संकेतों के एक विश्वसनीय स्रोत की तलाश आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? कर रहे हैं।

रिकॉर्ड स्‍तर पर विदेशी मुद्रा भंडार, कोरोना काल में भी क्‍यों हो रहा इजाफा?

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में 3.436 अरब डॉलर की वृद्धि दर्ज की गई और यह 493 ( करीब 37 लाख करोड़ रुपये) अरब डॉलर हो गया है.

विदेशी मुद्रा भंडार में 3.436 अरब डॉलर की वृद्धि

aajtak.in

  • नई दिल्‍ली,
  • 06 जून 2020,
  • (अपडेटेड 06 जून 2020, 6:14 PM IST)
  • विदेशी मुद्रा भंडार 493 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर
  • RBI साप्ताहिक आधार पर इसके आंकड़े पेश करता है

कोरोना संकट के बीच देश की इकोनॉमी को लेकर लगातार निगेटिव आंकड़े आ रहे हैं. इस माहौल में एक आपको विदेशी मुद्रा पर व्यापार करने की क्या आवश्यकता है? राहत की खबर मिली है. दरअसल, भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में रिकॉर्ड इजाफा हुआ है.

रिजर्व बैंक के ताजा आंकड़े बताते हैं कि 29 मई को समाप्त हुए सप्‍ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 3.43 अरब डॉलर बढ़ा है. इस बढ़ोतरी के साथ विदेशी मुद्रा भंडार 493.48 अरब डॉलर (37 लाख करोड़ रुपये) के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है. आपको बता दें कि आरबीआई साप्ताहिक आधार पर विदेशी मुद्रा भंडार के आंकड़े पेश करता है. देश की अर्थव्यवस्था की मजबूती का प्रतीक माना जाता है.

क्‍या है इसके मायने?

इस बढ़ोतरी का मतलब ये हुआ कि सरकारी खजाने में व्‍यापार की लेनदेन के लिए विदेशी मुद्रा भंडार की कमी नहीं है. दरअसल, विदेशी मुद्रा भंडार किसी भी देश के केंद्रीय बैंक द्वारा रखी गई धनराशि या अन्य परिसंपत्तियां होती हैं ताकि जरूरत पड़ने पर वह अपनी देनदारियों का भुगतान कर सके. यह भंडार एक या एक से अधिक मुद्राओं में रखे जाते हैं. आमतौर पर भंडार डॉलर या यूरो में रखा जाता है.

कोरोना संकट में भी क्‍यों बढ़ा भंडार

यह बढ़ोतरी ऐसे वक्त में हुई है, जब देश की इकोनॉमी कोरोना और लॉकडाउन की वजह से पस्‍त नजर आ रही है. लेकिन सवाल है कि कोरोना संकट के बाद भी यह बढ़ोतरी क्‍यों हुई है. इसे समझने से पहले ये जानना जरूरी है कि मई के दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट देखने को मिली है. इसके अलावा लॉकडाउन की वजह से ईंधन की डिमांड भी कम रही है.

कहने का मतलब ये हुआ कि कच्‍चे तेल की सस्‍ती और कम खरीदारी हुई है. इस वजह से सरकार को कम डॉलर भुगतान करने पड़े हैं. जाहिर सी बात है कि कम डॉलर भुगतान की वजह से बचत हुई है और विदेशी मुद्रा भंडार में इजाफा हो गया है. बढ़ोतरी का ये सिलसिला बीते कुछ हफ्तों से चल रहा था लेकिन इस बार का इजाफा रिकॉर्ड स्‍तर पर है.

रेटिंग: 4.12
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 646
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *