भारत में क्रिप्टोकरेंसी व्यापार

Bitcoin का इस्तेमाल क्या है

Bitcoin का इस्तेमाल क्या है
आज इस लेख के अंदर हमने बात की है कि Bitcoin क्या होता है(What is Bitcoin in Hindi) और bitcoin को कैसे खरीद सकते है और इसके साथ साथ हमने आपको इस लेख के अंदर बिटकॉइन खरीदने के फायदे और नुकसान के बारे में भी बताया है, जिनकी मदद से आप जान सकते हैं कि बिटकॉइन को खरीदने के क्या-क्या फायदे और क्या-क्या नुकसान है।

Bitcoin kya hai hindi me bataye

Cryptocurrency और Digital Rupee में क्‍या है फर्क, अगर शुरु हो गया इसका इस्‍तेमाल तो आपको क्‍या होगा फायदा?

Zee Business हिंदी लोगो

Zee Business हिंदी 02-11-2022 ज़ीबिज़ वेब टीम

क्रिप्‍टोकरेंसी को टक्‍कर देने के लिए भारत में पहली बार करेंसी को डिजिटल रूप में लाया गया है. एक नवंबर को डिजिटल रुपी (Digital Rupee) यानी सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) को पायलट प्रोजेक्‍ट के तौर पर शुरू कर दिया गया है. फिलहाल रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (Reserve Bank of India- RBI) कुछ समय तक इसमें आने वाली चुनौतियों को परखेगा और पूरी तरह से आश्‍वस्‍त होने के बाद इसके इस्‍तेमाल को शुरू किया जाएगा.

RBI ने अभी इसे होलसेल ट्रांजेक्शन के लिए जारी किया है और इसे होलसेल सेगमेंट पायलट प्रोजेक्ट नाम दिया है. लेकिन अगर सब कुछ ठीक रहा तो आने वाले समय में डिजिटल रुपी का इस्‍तेमाल आम लोग भी करेंगे. ऐसे में ये समझना बहुत जरूरी है कि आखिर डिजिटल रुपी और क्रिप्‍टोकरेंसी में क्‍या फर्क है और इससे आम लोगों को क्‍या फायदा होगा?

क्रिप्‍टोकरेंसी और डिजिटल रुपी में अंतर

क्रिप्‍टोकरेंसी: ये एक विकेंद्रित (Decentralized) डिजिटल संपत्ति Bitcoin का इस्तेमाल क्या है है. इसके जरिए डिजिटल तरीके से लेनदेन किया जा सकता है. ब्‍लॉकचेन तकनीक के जरिए क्रिप्‍टोकरेंसी अलग-अलग जगहों पर स्‍टोर रहती है. ब्लॉकचेन ऐसी तकनीक है जिससे Digital Currency बनाने के साथ ही किसी भी चीज को डिजिटल बनाकर उसका रिकॉर्ड रखा जा सकता है. ये एक तरह का डिजिटल लेजर है. लेकिन चिंता वाली बात ये है कि क्रिप्‍टोकरेंसी को रेगुलेट करने के लिए कोई बैंक या अन्‍य संस्‍था नहीं है और न ही इसे कोई सरकार मॉनिटर नहीं करती है. ये पूरी तरह से निजी करेंसी है. इसके अलावा क्रिप्‍टोकरेंसी के रेट में उतार-चढ़ाव की स्थिति बनी रहती है.

डिजिटल रुपी: डिजिटल रुपी से भी लेनदेन को क्रिप्‍टोकरेंसी की तरह ही डिजिटल माध्‍यम से ही किया जाएगा, लेकिन सबसे बड़ा फर्क है कि ये पूरी तरह से रेगुलेटेड है. इसे सरकार की मंजूरी प्राप्‍त है और यह पूरी तरह से सरकार समर्थित वैध मुद्रा है. इसमें नियामक के रूप में आरबीआई और लेन-देन की मदद के लिए दूसरे बैंक मौजूद रहेंगे. किसी भी तरह की दिक्‍कत आने पर वित्‍तीय संस्‍थान दखल दे सकते हैं. लेकिन क्रिप्‍टोकरेंसी में ये संभव नहीं है. यूपीआई और पेमेंट वॉलेट Bitcoin का इस्तेमाल क्या है के जरिए किए जाने वाले डिजिटल भुगतान से ये पूरी तरह से अलग है. वहीं डिजिटल रुपी में उतार-चढ़ाव जैसा कुछ नहीं होगा. इसका वही प्रभाव होगा जो नकद मुद्रा का होता है. इसके अलावा डिजिटल रुपी को नकदी में बदला जा सकेगा.

डिजिटल रुपी के फायदे

  • अगर डिजिटल रुपी को आम आदमी के लिए शुरु किया गया तो आपको अपने पास कैश रखने की जरूरत कम हो जाएगी या हो सकता है कि जरूरत ही न पड़े.
  • इसे आसानी से मोबाइल वॉलेट में रखा जा सकेगा. डिजिटल रुपी का इस्तेमाल आप कहीं भी कर सकेंगे. जिस तरह जगह-जगह डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, ऑनलाइन पेमेंट एक्सेप्ट किए जाते हैं ठीक उसकी तरह डिजिटल रुपी भी एक्सेप्ट किए जा सकेंगे.
  • नकली करेंसी की समस्या से छुटकारा मिलेगा. कागज के नोट की प्रिटिंग का खर्च बचेगा. इसके अलावा सभी अधिकृत नेटवर्क के भीतर होने वाले लेनदेन सरकार की नोटिस में होंगे.Bitcoin का इस्तेमाल क्या है
  • जिस तरह नोट पुराने हो जाते हैं, खराब हो जाते हैं या कट-फट जाते हैं, डिजिटल करेंसी में Bitcoin का इस्तेमाल क्या है Bitcoin का इस्तेमाल क्या है इस तरह की कोई समस्‍या नहीं आएगी.
  • इसके इस्‍तेमाल से कैशलेस लेन-देन को बढ़ावा मिलेगा और इससे बैंकिंग क्षेत्र में सकारात्‍मक बदलाव आएगा. डिजिटल रुपी कुछ इस तरह से लाया जाएगा कि बिना इंटरनेट के भी इसका पेमेंट किया जा सकेगा.

बिटकॉइन क्या है? (What is Bitcoin in Hindi?)

बिटकॉइन एक डिजिटल करेंसी है इसे वर्चुअल करेंसी भी कहते हैं क्युकी लोग इसे डिजिटल तरह से इस्तेमाल में लाते हैं और ये बाकि सब करेंसी से अलग होती है इसीलिए इसे वर्चुअल करेंसी कहते हैं बिटकॉइन को हम डॉलर या रुपया की तरह न छू सकते और न ही देख सकते हैं फिर भी इसका यूज पैसों के जैसे लेन-देन/ट्रांजेक्शन के लिए करते हैं इसे सिर्फ ऑनलाइन वोलेट में स्टोर किया जा सकता है.

Bitcoin kya hai hindi me bataye

बिटकॉइन को सातोशी नाकामोटो ने 2008 में जारी किया था और 2009 में इसे ग्लोबल पेमेंट के रूप में शुरू किया गया था तब से लोगो में इसकी लोकप्रियता बढ़ रही है ये एक डिसेंट्रलाइसड करेंसी है क्युकी इसे कंट्रोल करने के लिए कोई बैंक या गवर्नमेंट अथॉरिटी नही है जिस तरह से हम सभी लोग इंटरनेट का यूज करते हैं

बिटकॉइन का इस्तेमाल Bitcoin का इस्तेमाल क्या है कहाँ और क्यों किया जाता है?

बिटकॉइन का इस्तेमाल ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करने में या पेमेंट करने में किया जाता है बिटकॉइन पी टू पी पर नेटवर्क पर बेस्ड है मतलब कि दुनिया में लोग एक- दूसरे के साथ बिना किसी बैंक क्रेडिट कार्ड कंपनी के माध्यम के आसानी से ट्रांजेक्शन कर सकते हैं

आप डेबिट या क्रेडिट कार्ड से ट्रांजेक्शन करने में 2 से 3% लेन-देन शुल्क लगता है लेकिन इसमे ऐसा कुछ नही होता है इसीलिए इसकी लोकप्रियता बढ़ रही है और ये सुरक्षित भी रहता है इन्हीं सब कारणों से आज ज्यादा Bitcoin का इस्तेमाल क्या है लोग इसे यूज में लाते है जैसे- इंटरप्रेनियुर्स, नॉट-प्रॉफिट आर्गेनाईजेशन, ऑनलाइन डेवेलोपर्स आदि इसीलिए पूरे वर्ल्ड में इसका इस्तेमाल ग्लोबल पेमेंट के जैसे किया जाता है

इसकी क्रेडिट लिमिट न होने के साथ ही आप इसे कही पर भी ले जाने में कोई दिक्कत नही होती है दुनिया में आप इसे कहीं भी यूज कर सकते हैं और ये बिलकुल सुरक्षित होता है.

बिटकॉइन की वैल्यू क्या है? (What is the value of Bitcoin?)

बिटकॉइन की वैल्यू समय-समय पर कम-ज्यादा होती रहती है क्युकी इसे कंट्रोल करने के लिए कोई बैंक या अथॉरिटी नही Bitcoin का इस्तेमाल क्या है है इसलिए बिटकॉइन की वैल्यू उसकी मांग के अनुसार चेंज होती रहती है और सभी देशों में इसकी कीमत अलग-अलग इसकी डिमांड के अनुसार होती है.

बिटकॉइन (Bitcoin kya hai hindi me bataye) को आप दो तरीके से पा सकते हैं पहला आप पैसे देकर बिटकॉइन खरीद सकते हैं अगर आपके पास पैसे है तो, और अगर आपके पास इतने सारे पैसे नही है तो अगर आप एक बिटकॉइन नही खरीद सकते तो आप उसकी एक यूनिट सातोशी करीब सकते हैं जैसे-एक रूपये में 100 पैसे होते हैं ठीक उसी तरह इसके एक सातोशी में 10 करोड़ सातोशी होते है

इस तरह आप एक सातोशी से 1 बिटकॉइन या फिर उससे ज्यादा बिटकॉइन भी खरीद सकते हैं और आपके पास ज्यादा बिटकॉइन हो जाये तो आप उनको बेचकर ज्यादा पैसे कमा सकते हैं और आप बिटकॉइन खरीदकर उसमे इन्वेस्ट भी कर सकते हैं भारत में दो वेबसाइट ऐसी हैं जहाँ से बिटकॉइन खरीदा और बेचा जा सकता है

Bitcoin क्या होता है – जानिए बिटकॉइन के फ़ायदे और नुक़सान हिंदी में

Bitcoin क्या होता है

Bitcoin क्या होता है

Bitcoin क्या होता है | दुनिया में हर देश की कोई ना कोई currency जरूर होती है, जिसका Bitcoin का इस्तेमाल क्या है इस्तेमाल कोई भी सामान या कोई भी वस्तु खरीदने के लिए आमतौर पर किया जाता है, दुनिया में हर देश की currency अलग-अलग होती है जिसका कोई ना कोई नाम होता है जैसे कि अगर हम भारत की बात करें तो भारत की currency रुपया है, अमेरिका की करेंसी डॉलर है, ये करेंसी पूरी तरह से लेनदेन के लिए होती है, इसका इस्तेमाल अलग-अलग देशों में अलग अलग तरीके से किया जाता है और अलग-अलग करेंसी का उपयोग किया जाता है।

बिटकॉइन का इस्तेमाल कब और क्यों किया जाता है?

बिटकॉइन मुख्य रूप से ऑनलाइन भुगतान के लिए और किसी भी तरह की ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है, बिटकॉइन पूरी तरह से peer to peer network पर कार्य करता है जिसका मतलब होता है कि आप किसी भी माध्यम जैसे कि बैंक, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड के बिना आसानी से ऑनलाइन भुगतान कर सकते हैं।

आमतौर पर जब हम डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड के माध्यम से कोई भी ऑनलाइन भुगतान करते है तो उसके ऊपर हमको 2-3% तक का शुल्क देना होता है लेकिन बिटकॉइन के अंदर आपको किसी भी प्रकार का कोई भी शुल्क नहीं देना होता है।

शायद यही वजह है कि बिटकॉइन आज के समय में इतना लोकप्रिय बनता जा रहा है, इसके अंदर काफी तेज ट्रांजैक्शन होती है और यह सुरक्षित ट्रांजैक्शन भी मानी जाती है।

आज के समय में सभी लोग बिटकॉइन को अपना रहे हैं, जिसकी वजह से इसकी ग्लोबल value बढ़ती जा रही है, इसके अंदर किसी भी प्रकार की कोई लिमिट नहीं होती है और ना ही आपको कहीं पर नगद भुगतान करना होता है और यह पूरी तरह से सुरक्षित होता है और इसका इस्तेमाल करने की कोई लिमिट नहीं होती है, आप अपने अनुसार कितना भी इसको इस्तेमाल कर सकते हैं।

बिटकॉइन का रेट-

1 Bitcoin = 1,695,123.94 Indian rupee है, समय-समय पर इसके अंदर बदलाव आता रहता है और उसके अंदर उतार-चढ़ाव चलते ही रहते हैं क्योंकि इसको नियंत्रण में करने के लिए कोई भी authorty नहीं है और ना ही कोई बैंक है इसलिए इसका भाव समय-समय पर बदलता रहता है।

बिटकॉइन को हम इलेक्ट्रॉनिक रूप से ही स्टोर करके रख सकते हैं Bitcoin का इस्तेमाल क्या है और इलेक्ट्रॉनिक रूप से स्टोर करने के लिए एक बिटकॉइन वॉलेट की जरूरत होती है, जिसको हम बिटकॉइन वॉलेट कहते हैं, इसके अंदर online wallet, mobile wallet, destop wallet,hardware wallet होता है और हर एक wallet का इस्तेमाल करने के लिए एक अकाउंट की जरूरत होती है उसके लिए आपको एक address की जरूरत होती है।

इसके अंदर आप जो भी बिटकॉइन कमाते हैं उसको उस एड्रेस की मदद से उस अकाउंट के अंदर स्टोर करना होता है इसके अलावा अगर आपको कोई भी bitcoin बेचना है या फिर खरीदना है तो आपको बिटकॉइन वॉलेट की जरूरत होती है।

आपके पास Cryptocurrency है? तो परेशान मत होइए… यहां जानिए क्या कहती है सरकार

Crypto

नई दिल्ली: भारत सरकार सभी तरह की क्रिप्टोकरंसी (Cryptocurrency) को बैन करने की तैयारी कर रही है. संसद के शीतकालीन सत्र में आने वाले बिलों में से एक बिल क्रिप्टोकरंसी की रेगुलेशन (The Cryptocurrency and Regulation of Official Digital Currency Bill, 2021) पर भी है. माना जा रहा है कि इस विधेयक के पारित होने पर कोई भी व्यक्ति क्रिप्टोकरंसी को माइन (Mining) नहीं कर पाएगा. न वह खरीद (Buy) सकेगा और न ही जेनरेट (Generate), होल्ड (Hold), सेल (Sell) या किसी क्रिप्टोकरेंसी में डील (Deal) कर पाएगा. न ही इसे किसी दूसरे को इश्यू (Issue), Bitcoin का इस्तेमाल क्या है ट्रांसफर (Transfer) या डिस्पोज (Dispose) नहीं कर पाए.

फीचर आर्टिकल: बिटकॉइन को वैध मुद्रा का दर्जा मिलने के पूरे क्रिप्टो मार्केट के लिए क्या मायने हैं?

बिटकॉइन दुनिया की सबसे पहली डीसेंट्रलाइज्ड क्रिप्टोकरेंसी या कहें कि डिजिटल Bitcoin का इस्तेमाल क्या है कॉइन है। इसका आविष्कार 2008 में हुआ लेकिन मुख्य इस्तेमाल 2010 से शुरू हुआ। पहले बिटकॉइन को संदेह की नजरों से देखा गया लेकिन अब ये दुनिया की सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी बन चुकी है। दुनिया में हजारों कंपनियां लेनदेन के लिए बिटकॉइन को अपना चुकी हैं। अब मध्य अमेरिकी देश अल-साल्वाडोर में बिटकॉइन को वैध मुद्रा की मान्यता भी मिल गई है।

इतने कम समय में ही बिटकॉइन ने काफी लंबी दूरी तय कर ली है। इसकी वैधता का प्रभाव भारत और दूसरे देशों में भी महसूस हो रहा है। इसकी लोकप्रियता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि BTC से INR गूगल पर सबसे ज्यादा सर्च किया जाने वाला खोज शब्द है।

रेटिंग: 4.82
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 215
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *